Study Material

CBSE Board 12th Class Physics Question Paper

आज इस आर्टिकल में हम आपको CBSE Board 12th Class Physics Question Paper के बारे में बताने जा रहे है. इस पेपर के माध्यम से आप CBSE के Board 12th Class की तैयारी आसानी से कर सकते है. cbse 12th physics question paper,cbse class xii board physics paper,physics board exam,cbse class 12 physics question wise breakup,cbse board exam 2019,cbse class 12 physics paper pattern,cbse,class 12,cbse class 12th physics question paper 2018,physics,cbsce class 12th physics question paper 2018,class 12 physics most important question,cbse board exam,how to pass in physics class 12

CBSE Board 12th Class Physics Question Paper

  1. किसी आवेशित चालक खोल के भीतर इसके समस्त आयतन में स्थिर विद्युत विभव नियत क्यों रहता है?
  2. अनुचुम्बकीय पदार्थ का एक महत्वपूर्ण गुणधर्म लिखिए? अथवा क्या प्रतिचुम्बकीय पदार्थों में बाह्य चुम्बकीय क्षेत्र की अनुपस्थिति में किसी परमाणु में परिणामीचुम्बकीय आघूर्ण होता है?
  3. किसी प्रोटोन से संबंद्ध दे-ब्राग्ली तरंगदैघर्य और उसके संवेग के बीच ग्राफ खींचिए
  4. जब किस p-n संधि डायोड के सिरों पर आरेख में दर्शाए अनुसाए 10 V का वर्ग निवेशी सिग्नल लगाया जाता है, तो निर्गत सिग्नल का आरेख खींचिए
  5. आरेख में दर्शाए गए गेंटों के संयोजन के परिपथ के तुल्य गेट को पहचानिए और इसका प्रतीक लिखिए अथवा दर्शाए गए गेंटों के संयोजन के गेट का तर्क प्रतीक खींचिए और उसका नाम लिखिए
  6. किसी एकसमान विद्युत्-क्षेत्र E में द्विध्रुव आघूर्ण P के किसी विद्युत् द्विध्रुव पर कार्यरत बल-आघूर्ण के लिए व्यंजक व्युत्पन्न कीजिए अथवा द्विध्रुव आघूर्ण के किसी विद्युत द्विध्रुव के अक्ष पर स्थित किसी बिंदु पर विद्युत क्षेत्र के लिए व्यंजक व्युत्पन्न कीजिए उस स्थिति के लिए भी व्यंजन लिखिए जब दूरी r >> द्विध्रुव की लंबाई ‘a’ से
  7. श्रेणी में संयोजित 12 Pf के दो सर्वसम संधारित्र 15 V की बैटरी से सिरों से जुड़े हैं इस संयोजन में संचित स्थिर विद्युत ऊर्जा परिकलित कीजिए यदि ये संधारित्र पार्श्वक्रम में संयोजित होकर इसी बैटरी से जुड़े हैं, तो इस संयोजन में संचित ऊर्जा का मान ज्ञात कीजिए
  8. ‘n’ सर्वसम प्रतिरोधको, जिनमें प्रत्येक का प्रतिरोध ‘R’ है, के किसी समुच्चय के श्रेणी संयोजन का प्रभावी प्रतिरोध X है जब इन्हें पार्श्व में संयोजित करते हैं तो उनका प्रभावी प्रतिरोध ‘Y’ हो जाता है X और Y का गुणांक ज्ञात कीजिए
  9. त्रिज्या R की दो कुंडलियां P और Q लम्बवत तलों में इस प्रकार रखी है कि इनके केंद्र उभयनिष्ठ है यदि इन कुंडलियों से क्रमश: I और √3 I धारा प्रभावित हो रही है, तो अभयनिष्ठ केंद्र पर चुंबकीय क्षेत्र का परिणाम और दिशा ज्ञात कीजिए
  10. (a) वह प्रतिबंध प्राप्त कीजिए जिसमें किसी चुंबकीय क्षेत्र से गुजरते समय किसी इलेक्ट्रॉन में कोई भी विचलन नहीं होता(b) समान चाल से गतिमान दो प्रोटॉन P और Q क्रमश: दो चुंबकीय क्षेत्रों की B1 और B2 से इन क्षेत्र दिशाओं में लंबवत गति कर रहे हैं यदि ! B> B1 है, तो इनमे से कौन-सा प्रोटॉन छोटी त्रिज्या के वृतीय पर गमन करेगा? व्याख्या कीजिए
  11. किसी आयाम माडुलित तरंग में दो पार्श्व बैंडों की आवृतियाँ क्रमश: 640kHz और 660kHz है वाहक और माडुलक सिग्नलों की आवृतियाँ ज्ञात कीजिए आयाम मॉडुलन में आवश्यक बैंड चौड़ाई का मान भी प्राप्त कीजिए अथवा 0.3 माडुलन सूचकांक के साथ 10 kHz ज्यावक्रीय वोल्टता द्वारा किसी ज्यावक्रिया वाहक वोल्टता का आयाम मॉडुलन किया गया है यदि वाहक तरंग की आवृत्ति 10MHz तथा इसका आयाम 40 V है, तो दो पार्श्व बैंडों की आवृति और आयाम परिकलित कीजिए
  12. किसी व्यापक संचार व्यवस्था का ब्लॉक आरेख कीजिए और (i) प्रेषित्र, और (ii) अभिग्राही के कार्य लिखिए
  13. किसी आवेश Q को दो सकेंद्री खोखले गोलों, जिनकी त्रिज्याएँ r तथा R (R >> r) है, पर इस प्रकार वितरित किया गया है कि इनके पृष्ठीय आवेश घनत्व समान है इनके अभयनिष्ठ केंद्र पर विभव के लिए व्यंजक व्युत्पन्न कीजिए अथवा a,b और c (a < b < c) त्रिज्याओं के तीन सकेंद्री धात्विक खोलो A,B और C के पृष्ठीय आवेश घनत्व क्रमश:, दर्शाए अनुसार, + σ, -σ और + σ है(a) तीनों खोलों A,B और C के विभव के लिए व्यंजक प्राप्त कीजिए(b) यदि खोल A और C समान विभव पर है, तो a, b और c में सम्बन्ध प्राप्त कीजिए
  14. चल कुंडली गैल्वैनोमीटर का सिद्धांत लिखिए इसकी कार्यविधि की व्याख्या कीजिए तथा इसकी कुंडली में धारा प्रभावित किए जाने पर उत्पन्न होने वाले विक्षेपण के लिए व्यंजक प्राप्त कीजिए धारा सुग्राहित की परिभाषा लिखिए अथवा व्याख्या कीजिए कि किसी  गैल्वैनोमीटर को दिए गए परिसर के ऐमीटर में किस प्रकार परिवर्तित किया जाता है शंट प्रतिरोध और पूर्ण पैमाना विक्षेपण के लिए धारा के लिए व्यंजक व्युत्पन्न कीजिए ऐमीटर का प्रभावी प्रतिरोध ज्ञात कीजिए
  15. किसी श्रेणी LCR परिपथ पर कोई वोल्टता V = Vm sin ol अनुप्रयुक्त करने पर परिपथ में प्रवाहित धारा का मान i = im sin (ol +0) है स्त्रोत द्वारा आपूर्त तात्क्षणिक शक्ति के लिए व्यंजक व्युत्पन्न कीजिए इस प्रकार औसत शक्ति के लिए व्यंजक प्राप्त कीजिए पदों ‘शक्ति गुणाक’ और ‘वाटहिन धारा’ की परिभाषा ऐसे उदाहरणों को देते हुए जिनमें शक्ति गुणाक अधिकतम हो तथा ऐसा परिपथ हो जिसमें वाटहीन धारा हो, कीजिए
  16. विस्थापन धारा की परिभाषा लिखिए dc स्त्रोत द्वारा संधारित्र को आवेशित करते समय इसकी क्या भूमिका होती है क्या विस्थापन धारा का मान चालन धारा के समान होता है? व्याख्या कीजिए
  17. कोई पर्दा किसी बिम्ब से 19 सेंटीमीटर की दूरी पर स्थित है किसी उत्तल लेंस द्वारा लेंस की दो विभिन्न स्थितियों, जिनके बीच 20 सेंटीमीटर है के लिए बिम्ब पर्दे पर प्रतिबिंब बनता है लेंस की फोकस दूरी परिकलित कीजिए अथवा 20 सेंटीमीटर फोकस दूरी का कोई उत्तल लेंस 15cm फोकस दूरी के किसी लेंस से 30 सेंटीमीटर दूरी पर स्थित है तथा इन दोनों के मुख्य अक्ष सम्पाती है जब कोई बिम्ब उत्तल लेंस के सामने 30 मीटर दूरी पर स्थित है, तो संयोजन द्वारा बने अंतिम प्रतिबिंब की स्थिति पर परिकलित कीजिए यदि इस बिम्ब को अवतल लेंस के सामने 30cm की दुरी पर रखा जाता तो क्या इस परिणाम में कोई अंतर होता? कारण दीजिए
  18. (a) तरंगाग्र की परिभाषा लिखिए हाइगेंस की ज्यामितीय संरचना का उपयोग करते हुए आरेख की सहायता से यह व्याख्या कीजिए कि वायु में कोई समतल तरंगाग्र t1 से t2 तक किस प्रकार गमन करता है(b) किसी उत्तल लेंस पर कोई समतल तरंगाग्र आपतन करता है आरेख की सहायता से बनने वाले अपरिवर्तित तरंगाग्र की व्याख्या कीजिए
  19. (a) व्याख्या कीजिए कि साधारण रंगीन काँच के धूप के चश्मों की तुलना में पोलेराइडॉ के बने अच्छी गुणता के धूप के चश्मों को वरीयता क्यों दी जाती है(b) समतल ध्रुवित प्रकाश की परिभाषा लिखिए(c) किसी पोलेराइड से कोई समतल ध्रुवित प्रकाश पुंज गुजारा गया है पोलेराइड के घूर्णन कोण के साथ पारगमित प्रकाश की तीव्रता के विचरण को दर्शाने के लिए ग्राफ खींचिए
  20. किसी दिए गए प्रकाश-सुग्राही पदार्थ को आवृति v के प्रकाश द्वारा किरणित किए जाने पर उत्सर्जित फोटोइलेक्ट्रॉनों की अधिकतम चाल vmax है दिए गए आरेख में ग्राफ में आवृति (v) के साथ V2max के विचरण को दर्शाया गया हैनिम्नलिखित के लिए व्यंजक प्राप्त कीजिए(a) प्लांक नियतांक, तथा(b) प्राचलों ‘l’ , ‘n’ और इलेक्ट्रान के द्रव्यमान ‘m’ के पदों में प्रकाश-सुग्राही पदार्थ का कार्यफलन(c) इस ग्राफ द्वारा देहली आवृत्ति किस प्रकार निर्धारित करते हैं
  21. किसी म्युआनी हाइड्रोजन परमाणु अर्थात ऐसा, परमाणु जिसमें इलेक्ट्रॉन का प्रतिस्थापन किसी ऋणावेशित म्युआन (μ) जिसका द्रव्यमान लगभग 207 me है और प्रोटॉन के चारों ओर चक्कर लगा रहा है कि प्रथम बोहर त्रिज्या और निम्नतम अवस्था ऊर्जा प्राप्त कीजिए (दिया गया है हाइड्रोजन परमाणु के लिए प्रथम कक्षा की त्रिज्या तथा निम्नतम अवस्था ऊर्जा क्रमश: 0.53 x 10 –10 m तथा 13.6 e V है
  22. (a) प्रत्येक का एक-एक उदाहरण देते हुए समस्थानिकों और समभारिकों के बीच विभेदन कीजिए(b) किसी नाभिक का द्रव्यमान उसके संघटकों के द्रव्यमानों के योगफल से सदैव ही कम हो क्यों होता है? अपने उत्तर की पुष्टि उदाहरण देकर कीजिए अथवा
  23. (a) निम्नलिखित छह न्यूकलिआइडों का वर्गीकरण (i) सम न्यूट्रोनी, (ii) संस्थानिक, और (iii) समभारिक में कीजिए :(iii) 12/6C, 3/2He, 198/80Hg, 3/1H, 197/79Au, 14/6C(b) किसी नाभिक की साइज उसकी द्रव्यमान संख्या पर किस प्रकार निर्भर करता है? इस प्रकार व्याख्या कीजिए कि किसी नाभिकीय पदार्थ का घनत्व नाभिक के साइज पर निर्भर क्यों नहीं होना चाहिए
  24. (a) साइज और मादन के स्तर के आधार पर किसी n-p-n ट्रांजिस्टर के तीन खंडो के बीच विभेदन कीजिए
  25. (b) अंतरण अभिलाक्षणिक खींचिए और यह दर्शाइए कि इस अभिलाक्षणिक का कौन सा भाग प्रवर्धन के लिए उपयोग किया जाता है और क्यों
  26. (a) किसी सेल, जिससे कोई धारा I ली जा रही है, के लिए आंतरिक प्रतिरोध, वि.वा. बल (emf) और टर्मिनल विभवांतर के बीच संबंध व्युत्पन्न कीजिए सेल के लिए V और I के बीच ग्राफ खींचिए और इसके महत्व की व्याख्या कीजिए(b) 998 Ω प्रतिरोध का कोई वोल्टमीटर 2 V वि.वा. बल (emf) और 2 Ω आंतरिक प्रतिरोध के किसी सेल के सिरो से संयोजित  है वोल्टमीटर के शेरों के बीच तथा सेल के दलों के बीच विभवांतर ज्ञात कीजिए वोल्टमीटर के पाठ्यांक में प्रतिशत त्रुटि का आकलन कीजिए

    अथवा

    (a) विभिन्न वि.वा. बल (emf) और आंतरिक प्रतिरोधों के दो सेल एक-दूसरे के साथ पार्श्व में संयोजित है इस संयोजन के तुल्य वि.वा. बल (emf) और तुल्य आंतरिक प्रतिरोध के लिए व्यंजक व्युत्पन्न कीजिए

    (b) वि.वा. बल (emf) 1.5 V और आंतरिक प्रतिरोध r के दो सर्वसम सेल पार्श्व में संयोजित है तथा पार्श्व में संयोजित 17 Ω के दो सर्वप्रथम प्रतिरोधों के संयोजन वाले बाह्य परिपथ को धारा प्रदान कर रहे है अति उच्च प्रतिरोध का कोई वोल्टमीटर सेल की टर्मिनल वोल्टता 1.4 V मापता है प्रत्येक सेल का आंतरिक प्रतिरोध परिकलित कीजिए

More Important Article

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close