Invention In HindiStudy Material

पंखे का आविष्कार कब और किसने किया?

गर्मी में सभी को ठंडी हवा खाने का मन होता है लेकिन अगर हवा ना चल रही तो कैसे हम ठंडी हवा का आनंद ले. इसके लिए बिजली वाले पंखे का आविष्कार किया गया. आज इस आर्टिकल में हम आपको बिजली से चलने वाला पंखे का आविष्कार कब और किसने किया? के बारे में बताएँगे.

पंखे का आविष्कार

बिजली से चलने वाले पंखे  का आविष्कार शूलर एस. व्हीलर ने किया था. शूलर अत्यधिक पढ़े-लिखे वैज्ञानिक थे. इन्हें करीब एक हजार आविष्कार करने के लिए जाना जाता है.

बिजली अथवा विधुत शक्ति का मानव सेवा के लिए किस प्रकार प्रयोग किया जाए, यही वाक्य व्हीलर के अधिकांश खोजों एवं आविष्कारों की नींव था. बिजली का पंखा इस बात का एक अच्छा प्रमाण है.

पंखे का आविष्कार
पंखे का आविष्कार – Fan ka Avishkar

व्हीलर द्वारा बिजली से चलने वाला पंखा आविष्कृत किए जाने से पहले लोग गर्मी से निजात पाने के लिए हाथों से चलाये जाने वाले पंखों का उपयोग किया करते थे.

सन् 1882 में व्हीलर के मन में मोटर चलित पंखे का विचार तब आया जब वे न्यूयाॅर्क में स्टेटन द्वीपों के लिए फैरी का इंतजार कर रहे थे.

तब पानी में चलने वाली फैरी में पीछे की तरफ एक विशाल पंखानुमा आकृति हुआ करती थी जो पानी को पीछे धकेलती थी. व्हीलर ने देखा की फैरी का विशाल पंखा पानी में विशाल लहरें बना रहा था.

उसी क्षण व्हीलर के मन में विचार आया की उसी सिद्धांत को अपनाकर वे भी हवा की विशाल ठंडी लहरें पैदा कर सकते है.

व्हीलर ने सन् 1886 में अपने इस विचार को क्रियान्वित करते हुए ”बज फैन” बना लिया. परंतु यह आविष्कार अपने बनने के कुछ वर्षों बाद, जब बिजली से चलने वाली मोटरें अस्तित्व में आईं तब ही धड़ल्ले से प्रचलन में आया.

आज बिजली से चलने वाले पंखे की आवश्यकता किसी से छुपी नहीं है. हां, ये और बात है की आज उससे भी बढ़कर एयर कंडिशनर बाजार में आ गए है.

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close