G.KHaryana GKHSSC

सोनीपत जिला – Haryana GK Sonipat District

आज इस आर्टिकल में हम आपको सोनीपत जिला – Haryana GK Sonipat District में विस्तृत जानकारी देने जा रहे है.

सोनीपत जिला – Haryana GK Sonipat District

सोनीपत जिला - Haryana GK Sonipat District
सोनीपत जिला – Haryana GK Sonipat District

इतिहास

सोनीपत नाम संस्कृत शब्द से अपनाया गया है जिसका अर्थ है संस्कृत भाषा में सुवर्णप्रस्थ (सोने की जगह)।

एक लोकप्रिय परंपरा यह मानती है कि यह महाभृत में उल्लेखित पांच पाट या प्रस्थों (इंद्रप्रस्थ, पानीपत, तलपत, भघपत और सोनीपत) में से एक है, जो युधिष्ठिर ने दुर्योधन से मांग की थी । ये अर्जुन के तेरहवें वंश के वंशज राजा सोनी के बारे में बताता है ।

नई दिल्ली से उत्तर में 43 किमी दूर स्थित इस नगर की स्थापना संभवतः लगभग 1500 ई.पू. में आरंभिक आर्यों ने की थी।

Sonipat District Map
Sonipat District Map

हिन्दू महाकाव्य महाभारत में इसका ‘स्वर्णप्रस्थ’ के रूप में उल्लेख किया गया है।

शहर में ‘अब्दुल्ल नसीरुद्दीन की मस्जिद’ (1272 में निर्मित), ‘ख़्वाजा ख़िज़्र का मक़बरा (1522 या 1525 ईसवी में निर्मित)’ और पुराने क़िले के अवशेष है।

यहाँ पर हिन्दुओं का बाबा धाम मंदिर प्रसिद्ध है।

गठन

सोनीपत के जिला बनाये जाने का इतिहास बहुत ही नया है, सोनीपत पहले रोहतक जिले की तहसील हुआ करती थी, परन्तु प्रशासनिक समस्याओ के चलते 22 दिसंबर 1972 में सोनीपत को एक पूर्ण जिला बना दिया गया था।

जिला मुख्यालय सोनीपत में स्थित हैं। अन्य छोटे शहरो में गोहाना, गन्नौर, मुंडलाना, खरखौदा और राई हैं।

सोनीपत जिले का कुल क्षेत्रफल 2.260 वर्ग किमी हैं और इसकी आबादी 10,64,000 हैं।

सोनीपत, दिल्ली और उतर प्रदेश के राज्यों के साथ ही रोहतक जींद और पानीपत जिले के जिलो की सीमा से घिरा हुआ हैं।

यमुना नदी जिले की सीमा की पुर्वी सीमा के साथ बहती है

जिला सोनीपत में 4 उप-मंडल शामिल हैं। गनौर, सोनीपत, खरखौदा और गोहाना आठ ब्लाक (गनौर, सोनीपत, राई, खरखौदा, गोहाना, कथुरा, मुरथल और मुडलाना) यह जिला सबसे बड़ा तहसील हैं। जिसके बाद गोहाना का स्थान हैं। इसमें एक नगर निगम सोनीपत और तीन नगरपालिका समितियां गन्नौर, गोहाना और खरखौदा।

जिले में मुख्य जल प्रणाली में यमुना नदी और इसमें सें बाहर निकलने वाली सिंचाई नहरे शामिल हैं। जिलें में कोई बारहमासी नदी नही हैं।

भूमिगत जल-संसाधन क्षेत्रवार भिन्न-भिन्न हैं। यमुना  के साथ खादर क्षेत्र में जल का स्तर सबसे आधा हैं। जहाँ यह 10 फीट से कम हैं। यह स्तर जिले के पश्चिमी और दक्षिण-पुर्वी हिस्से में से कुछ में 30 से 40 फीट तक बढ़ जाती हैं। कुछ क्षेत्रों में भूजल खारा भी हैं। भूजल की स्थिति से संकेत मिलता हैं कि जिले के कुछ क्षेत्रो में खारे पानी की भी समस्या हैं।

जिले में ज्यादातर हिस्सों में चिकनी, बुलई मिट्टी हैं। हालांकि कुछ क्षेत्रो में रेतीली मिट्टी भी हैं और अन्य में दक्षिण और पूर्व की ओर एक क्रमिक ढ़लान हैं। जिला तीन क्षेत्रों में बांटा जा सकता हैं।

  1. खदार : यमुना नदी के किनारे एक संकीर्ण बाढ़ का मैदान है, जो 3 से 6 किमी तक चौड़ा है. वर्तमान में, खादर क्षेत्र में किसानों द्वारा चावल और गन्ना की खेती की जाती है। हाल ही में, किसानों ने इस क्षेत्र में केले, पापिया और अन्य फलों के पेड़ लगाए हैं।
  2. ऊचाँ मैदान : यह सोनीपत तहसील, को मिलाते हुये खादर के पश्चिम में स्थित हैं, और यह तीन क्षेत्रों में सबसे अधिक विस्तृत हैं: ऊचाँ मैदान का मैदान पुरानी मिट्टी की परत से ढ़का हैं, जो उचित सिंचाई के साथ बहुत अधिक उपजाऊ हैं। इस क्षेत्र में प्रमुख फसलों में सरसों तेल बीज, बागवानी संयत्र, सब्जियों और फूलों के व्यापक खेती की जाती है। गोहाना तहसील अरावली के उत्तरी भाग के विस्तार करती हैं।
  3. बुलई क्षेत्र : जिले का एक बहुत ही छोटा हिस्सा रेत या रेतीली मिट्टी से ढ़का हुआ हैं। इस क्षेत्र के कुछ हिस्सों में उच्च PH होता हैं जो कल्लर भूमि में आता है।

जलवायु

सोनीपत का मौसम गर्मी और सर्दीयों में शुष्क रहता हैं। मानसून (जुलाई से सितंबर की अवधि) के दौरान मौसम हल्का गर्म हो जाता हैं। सर्दियों के शुरू होने से पहले व मानसून के बाद के महीनों में अक्टुबर और नवंबर में मौसम बदलता हैं।

सर्दी दिसंबर में शुरू होती हैं, जब दिन और रात का तापमान तेजी से गिरता हैं। जनवरी सबसे ठंडा महीना हैं। इस दौरान दैनिक न्यूनतम तापमान 6 से 7 डिग्री सै. रहता हैं।

मई और जून गर्मियों के दौरान , अधिकतम तापमान कभी-कभी 47 डिग्री सेंटीग्रेड तक पहुचँ जाता हैं। जून में मानसून के साथ तापमान में कमी आती हैं। हालाकि, इस अवधि के दौरान रात का तापमान अधिक बना रहता हैं।

वर्षा के अधिकतम हिस्से में आर्द्रता सामान्य से कम रहती हैं। जिलो में मानसून अवधि के दौरान केवल ही उच्च नमी का अनुभव रहता हैं। न्युनतम आर्द्रता (20% के कम) की अवधि अप्रैल और मई के बीच हैं।

वार्षिक वर्षा दर वर्ष भर भिन्न-भिन्न होती हैं हालाकि, मानसून सीजन के दौरान अधिकतम वर्षा होती हैं जो जुलाई के महिने मे सबसे अधिक हैं।

मानसून की अवधि जिले में वार्षिक वर्षा का 75% हिस्सा हैं। औसत वर्ष में एक दिन में 24 दिनो की औसत वर्षा 2.5 मिमी (या अधिक) प्रति दिन होती है।

मानसून के दौरान, आसमान भारी बादलों से भरा हुआ हैं,और इस अवधि में तेज हवाएं आती हैं। हवायें आम तौर पर मानसून और सर्दियों के महिने के बाद हल्की होती हैं।

जन शक्ति

2013 की जनगणना के मुताबिक जिले की कुल जनसंख्या 14,50,001 है, जिसमें से शहरी आबादी का एक छोटा सा हिस्सा 2,10,521 है। जिला की जनसंख्या मुख्य रूप से ग्रामीण क्षेत्र में हैं और लोगों की प्राथमिक गतिविधि कृषि है। जिले की ग्रामीण जनसंख्या 8,34,637 है.

ग्रामीण इलाकों में पुरूष और महिला अनुपात 1:1 है जबकि शहरी इलाकों में अनुपात महिला आबादी के लिए हानिकारक है।

1991 की जनगणना के अनुसार जिला सोनीपत की कामकाजी जनसंख्या में 11,50,49 किसान 58.296 कृषि श्रमिक शामिल है।

किसानों का प्रतिशत, उप डिविजन गनौर में अधिक हैं, जबकि उपमण्डल सोनीपत में वास्तविक श्रमिकों की वास्तविक संख्या अधिक है।

भूमि का विवरण

उपमण्डल में सोनीपत, गोहाना और गनौर के उप डिविजनों के जिला सोनीपत में 349 गांव है और 2,13,080 हेक्टेयर क्षेत्र में इसे शामिल किया गया है।

सिंचित क्षेत्र  2,86,504 एकड जमीन है और संयुक्त राष्ट्र सिंचित वर्षा का क्षेत्र 43,979 एकड है। सोनीपत में मिट्टी समृद्ध और सभी प्रकार की कृषि फसलों के साथ-साथ वन आवरण के लिए काफी उपयुक्त है। बनावट के अनुसार मिट्टी के प्रकार को वर्गीकृत किया जा सकता हैः-

  1. सैंडी ( रैतेली)
  2. सैंडी लोम (भुरी)
  3. लोम (रौस्ली)
  4. क्ले लोम (कार्त)
  5. क्ले (डाकर)

गांवों की कुल संख्या 349

  • निवास 335
  • निर्जन 15

 

  • क्षेत्र: 2,260 Sq. Km.
  • आबादी: 14,50,001
  • भाषा: हिंदी
  • गाँव: 349
  • पुरुष: 7,81,229
  • महिला: 6,68,702

 

पर्यटक स्थल

शंभू नाथ , नहारी , सोनीपत

सोनीपत एक ऐतिहासिक और एक प्राचीन शहर है। हजारों साल पहले, राजा साल्वान के बाबा पुराणमल, जिन्होंने शाल्कोट पर शासन किया था, ध्यान के लिए जिला सोनीपत में नहरि गांव आए और आध्यात्मिक आनंद प्राप्त करने के लिए आए।

शंभू नाथ , नहारी , सोनीपत
शंभू नाथ , नहारी , सोनीपत

प्राचीन माँ काली मंदिर

कामी रोड पर सोनीपत में यानी राम लीला ग्राउंड के पीछे, माँ महाकाली का एक प्राचीन मंदिर स्थित है जो लगभग 6000 वर्ष पुराना कहा जाता है।

प्राचीन माँ काली मंदिर
प्राचीन माँ काली मंदिर

ब्रिटिश समय तहसील

सोनीपत में एक ब्रिटिश काल की तहसील है जो की खास पर्यटक स्थलों में से एक है. वैसे अभी ये खंडर में तब्दील हो चूका है.

ब्रिटिश समय तहसील
ब्रिटिश समय तहसील

बढ खालसा

यहाँ भाई जैता जी और भाई लखी शाह वंजारा का खास स्थान है जिसको देखने के लिए भी लोग काफी दूर से आते है.

बढ खालसा
बढ खालसा

मामा भंजा , दरगाह

सोनीपत शहर में मामा भांजा दरगाह नामक एक मस्जिद पुरानी डीसी रोड पर स्थित है। इस मस्जिद को हिन्दू-मुस्लिम एकता का प्रतीक माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि सैकड़ों साल पहले, यहां एक मंदिर होता था।

मामा भंजा , दरगाह
मामा भंजा , दरगाह

सोनीपत के सवाल और जवाब

Q. सोनीपत किस भाग में स्थित है?

Ans. हरियाणा के मध्य-पूर्व में स्थित है. इसके पूर्व में उतर प्रदेश, दक्षिण-पूर्व में दिल्ली राज्य, दक्षिण में झज्जर व रोहतक, पश्चिम में जींद और उतर में पानीपत जिले स्थित है.

Q. सोनीपत की स्थापना कब की गई थी?

Ans. 22 दिसम्बर, 1972 को नया जिला बना

Q. सोनीपत का क्षेत्रफल कितना है?

Ans. 2, 122 वर्ग किलोमीटर

Q. सोनीपत का मुख्यालय कहाँ स्थित है?

Ans. सोनीपत

Q. सोनीपत का उप-मंडल कहाँ है?

Ans. सोनीपत, गोहाना, गन्नौर, खरखौदा

Q. सोनीपत की तहसील कहाँ है?

Ans. सोनीपत, गन्नौर, गोहाना, खरखौदा

Q. सोनीपत की उप-तहसील कहाँ है?

Ans. राई, खानपुकलां.

Q. सोनीपत के खण्ड कौन-कौन से है?

Ans. गन्नौर, खरखौदा, राई, सोनीपत, मुंडलाना, कथूरा, गोहाना, मुरथल.

Q. सोनीपत की नदियाँ कौन-कौन सी है?

Ans. यमुना नदी जिले के पूर्वी भाग में बहती है.

Q. सोनीपत की मुख्य फसलें कौन- कौन सी है?

Ans. गेंहू व चावल

Q. सोनीपत की अन्य फसलें कौन- कौन सी है?

Ans. ज्वार, दालें, गन्ना, बाजरा, तिलहन व सब्जियां

Q. सोनीपत के मुख्य उघोग कौन-कौन से है?

Ans. साइकिल, मशीनी उपकरण, सूती वस्त्र, हौजरी, चीनी, सिलाई मशीन, कालीन, हैण्डलूम वस्त्र, तांबे के बर्तन एवं हस्तशिल्प उघोग.

Q. सोनीपत की सड़कों की लम्बाई कितनी है?

Ans. 1, 075 किलोमीटर

Q. सोनीपत के प्रमुख रेलबे स्टेशन कौन- से है?

Ans. सोनीपत

Q. सोनीपत की जनसंख्या कितनी है?

Ans. (2011 के अनुसार) 14, 80, 080

Q. सोनीपत के पुरुषों की संख्या कितनी है?

Ans. 7, 98, 948

Q. सोनीपत की महिलायें कितनी है?

Ans. 6, 81, 132

Q. सोनीपत की जनसंख्या का घनत्व कितना है?

Ans. 697 व्यक्ति प्रतिवर्ग कि. मी.

Q. सोनीपत का लिंगानुपात कितना है?

Ans. 853 महिलाएँ (1000 पुरुषों पर)

Q. सोनीपत की साक्षरता दर कितनी है?

Ans. 80. 8 प्रतिशत

Q. सोनीपत की पुरुष साक्षरता दर कितना है?

Ans. 89.4 प्रतिशत

Q. सोनीपत की महिला साक्षरता दर कितना है?

Ans. 70.9 प्रतिशत

Q. सोनीपत की जनसंख्या वृद्धि कितनी है?

Ans. (2001-2011) 15.71 प्रतिशत

Q. सोनीपत की नगरीय जनसंख्या कितनी है?

Ans. 25.12 प्रतिशत

Q. सोनीपत के प्रमुख नगर कौन- कौन से है?

Ans. सोनीपत, कबीरपुर, बन्देपुर, सादीपुर, लहरारा, गोहाना, गन्नौर, खरखौदा

Q. सोनीपत का जनसंख्या में कार्य सहभागिता कितना है?

Ans. 40.88 प्रतिशत

Q. सोनीपत के काश्तकार कितना प्रतिशत है?

Ans. 26.50 प्रतिशत

Q. सोनीपत के खेतिहर मजदुर कितने प्रतिशत है?

Ans. 7.07 प्रतिशत

Q. सोनीपत का पारिवारिक उघोग कितने प्रतिशत है?

Ans. 1.65 प्रतिशत

Q. सोनीपत का पर्यटन स्थल कौन-सा है?

Ans. चकौर

Q. सोनीपत में विशेष क्या है?

Ans. साइकिल उघोग के लिए सोनीपत विश्वविख्यात है.

आज इस आर्टिकल में हमने आपको सोनीपत जिला – Haryana GK Sonipat District के बारे में बताया है. अगर आपको इससे जुडी कोई अन्य जानकारी चाहिए तो आप नीचे दिए गए सेक्शन को फॉलो करें.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close