Categories: Science

इलेक्ट्राॅनिकी के बारे में जानकारी

इस आर्टिकल में हम आपको इलेक्ट्राॅनिकी के बारे में जानकारी देंगे जिसकी मदद से आप अपने भौतिकी विज्ञान का एक अध्याय आराम से क्लियर कर सकते है.


इलेक्ट्राॅनिकी के बारे में जानकारी

प्रकाश-विद्युत प्रभाव

आइंस्टीन ने मैक्स प्लांक द्वारा प्रतिपादित क्वांटम सिद्धांत को आधार मानकर प्रकाश-विद्युत प्रभाव की व्याख्या की. इन्होंने प्रकाश ऊर्जा को छोटे-छोटे बंडलो के रूप में कल्पना की जो प्रकाश के वेग से चलते हैं इन्हें क्वाण्टा या फोटाॅन कहते हैं.

फोटाॅन की ऊर्जा = उत्सर्जित इलेक्ट्रॉन की गति ऊर्जा + कार्य फलन की उर्जा

hv= 1/2mv2 + ϕ0
या
hv= ½ mv2 + hv0

प्रकाश-विद्युत सेल के उपयोग कहाँ होता है?

  1. इनका उपयोग सिनेमाघरों में ध्वनि के पुनरुत्पादन व टेलीविजन में किया जाता है.
  2. सड़क पर लगी लाइटें प्रकाश-विद्युत सेलों के द्वारा संचालित रूप से रात के समय जल जाती है व दिन के समय बुझ जाती है.
  3. बैंकों की तिजोरियो में प्रकाश-विद्युत सेल लगे होते है जो चोरी की घटना के समय अलार्म के रूप में बजने लगती है.
  4. इनका उपयोग अंतरिक्ष यान की बैटरियों के आवेशन में किया.

प्रतिदीप्ति (Fluorescence) क्या होता है?

यह पदार्थ का वह गुण होता है जिसकी वजह से दूसरी वस्तुओं से निकली विकिरण को अवशोषित करके उसको उसी समय उत्सर्जित कर देता है.

उदहारण – फ्लोरस्पार, पेट्रोल, कुनीन सल्फेट, यूरेनियम आक्साइड बेरियम प्लेटिनो सायनाइड.

प्रतिदीप्ति पदार्थ उत्सर्जित प्रकाश का रंग
(I) कैडमियम बोरेट गुलाबी प्रकाश
(II) जिंक सिलिकेट हरे रंग का प्रकाश
(III) मैग्नीशियम टंगस्टेट हल्का नीला रंग का प्रकाश
(IV) जिंक बेरीलियम सिलिकेट पीला प्रकाश
(V) मैग्नीशियम टंगस्टेट जिंक बेरीलियम सिलिकेट श्वेत प्रकाश

डायोड वाल्व (Diode Valve) क्या है?

डायोड वाल्व या वैक्यूम ट्यूब एक तरह का डायोड होता है जिसमे दो एक्टिव एलेक्ट्रोड़ होते है. यह वाल्व ऊष्मायनिक उत्सर्जन की क्रिया पर आधारित है इसका निर्माण फ्लेमिंग ने किया था. डायोड वाल्व का उपयोग ॠजुकारी (Rectifier) के रूप में किया जाता है जो A.C को D.C में बदलते है.

ट्रायोड वाल्व (Triode Valve) क्या है?

यह डायोड वाल्व का मॉडिफाइड वर्शन है जिसमे एक और इलेक्ट्रोड जोड़ दिया गया है. यह तीसरा इलेक्ट्रोड एक कण्ट्रोल ग्रिड होता है. इसका निर्माण डा. ली डी फोरेस्ट ने किया था इसको हम प्रबर्धक(Amplifier) दोलित्र (Oscillator) एवं संसूचक (Detecter) की तरह प्रयोग करते है.

कुछ आधुनिक इलेक्ट्रोनिक डिवाइस (Some Modern Electronic Devices)

टेलीविजन– इसका अविष्कार 1923 में जाँन एल. बेयड्र ने किया था.

RADAR (Radio Detection And Ranging)- रेडियो तरंग की सहायता से आकाशगामी वायुयान की स्थिति व दूरी का पता लगाया जाता है. Radar अविष्कार वैज्ञानिक टेलर और यंग ने किया था.

Radar के उपयोग

  1. वायुयानों के संसूचन, निर्देशन एवं सरक्षण में.
  2. बादलो की स्थिति ज्ञात करने में.
  3. धातु व तेल भंडारों का पता लगाने में.

LASER (Light Amplification by Stimulated Emission of Radiation)- लेज़र की खोज थियोडोर मेमैन दवारा की गई है. यह तरंगे एकवर्णी होती है. इनकी आवृति समान होती है.

  1. USA के नेवादा नामक स्थान पर एक्सरे लेज़र का विकास किया जा रहा है.
  2. भारत में लेज़र प्रोधोगिकी- शुरुआत सन 1960 के दशक में शुरू हुई.
  3. भाभा परमाणु अनुसन्धान केंद्र दवारा सन 1964 में गैलियम-आर्सनिक अधर्द्चालक लेज़र का निर्माण किया गया.
  4. लेज़र प्रिंटर में अधर्द्चालक लेज़र (Semi-Conductor Laser) का प्रयोग किया जाता है.

लेज़र का उपयोग

  1. सूचना तकनीक में- CD (Compact Disc) DVD और CD रोम.
  2. दूरी एवं समय मापने में.
  3. (Holography) होलोग्राफी का प्रयोग करके त्रिविमीय चित्र खीचने में
  4. स्वास्थ्य एवं चिकित्सा क्षेत्र में.
  5. डाई लेज़र का प्रयोग अनुसंधान, आइसोटोपो का अलगाव, बर्थमार्क को हटाने में प्रयोग किया जाता है.
  6. कार्बन डाइ-आक्साइड लेज़र की सहायता से मुद्रण स्याही को पल भर में सुखा दिया जाता है.
  7. वायुयान आदि में विभिन्न धातुओं को जोड़ने के लिए रूबी लेज़र नियोडिमियम याग लेजर का प्रयोग करते है.
  8. आँखों में रेटिना के अपने स्थान से अलग हट जाने पर इसका उपचार लेजर रेटिनल-फोटोकागुलेटर नामक यंत्र से किया जाता है.
  9. आर्गन अथवा क्रिप्टान आयन लेसर का उपयोग रेटिना उपचार सहित आँखों के अन्य रोगों के इलाज में किया जाता है.

MASERS (Microwave Amplification by Stimulated Emission of Radiation):- विकिरण के उदीपित उत्सर्जन दवारा माइक्रो तरंगो का प्रवर्धन. इसका अविष्कार तीन अमेरिका वैज्ञानिक-गोर्डन, गीगर एवं टाउन्स ने किया था. MASERS में सूक्ष्म तरंगे उत्पन्न होती है.

MASERS का उपयोग

  1. उपग्रह आदि का पता लगाने में
  2. समुद्र के अन्दर संदेश भेजने में
  3. रोगों का इलाज करने में
Share
Published by
Deep Khicher

Recent Posts

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Paper – 2 Solved Question Paper

निर्देश : (प्र. 1-3) नीचे दिए गये प्रश्नों में, दो कथन S1 व S2 तथा…

5 months ago

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Solved Question Paper

1. रतनपुर के कलचुरिशासक पृथ्वी देव प्रथम के सम्बन्ध में निम्नलिखित में से कौन सा…

6 months ago

अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए – List of Gazetted Officer

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे की अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए - List…

6 months ago

Haryana Group D Important Question Hindi

आज इस आर्टिकल में हम आपको Haryana Group D Important Question Hindi के बारे में…

6 months ago

HSSC Group D Allocation List – HSSC Group D Result Posting List

अगर आपका selection HSSC group D में हुआ है और आपको कौन सा पद और…

6 months ago

HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern – Haryana Group D

आज इस आर्टिकल में हम आपको HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern - Haryana…

6 months ago