Science

मनुष्य में पदार्थों का परिवहन

मनुष्य में पदार्थों का परिवहन

मनुष्य में विभिन्न पदार्थों जैसे-  श्वसन गैस , हार्मोन, पौषक पदार्थ उत्सर्जित उत्पाद आदि का परिवहन परिसंचरण तंत्र द्वारा रुधीर एवं लिम्फ के माध्यम से होता है. परिसंचरण तंत्र में ह्रदय तथा रुधिर वाहिकाएं सीमलीत होती है. रुधिर वाहिकाएं तीन प्रकार की होती है- धमनी, शिराएं, तथा वाहिनियां

रुधिर

रुधिर का अध्ययन रूधीर विज्ञान के अंतर्गत किया जाता है. रुधिर लाल सहनी संयोजी उत्तक है. स्वस्थ मनुष्य में रुधिर की मात्रा लगभग 5 से 6 लीटर होती है. रुधिर जल्द से भारी  तथा स्वाद में नमकीन होता है. रुधिर के दो मुख्य घटक होते हैं

प्लाज्मा

प्लाज्मा रुधिर की आधात्रि को दर्शाता है.यह पारदर्शी होता है. यह रुधिर के आयतन का बचपन से 55-60%  भाग है.प्लाज्मा में 90% जल तथा 10% ठोस पदार्थ होते हैं. यह ठोस पदार्थ दो प्रकार के होते हैं- कार्बनिक ठोस  जैसे – प्रोटीन फाइब्रिनोजन, ग्लोब्युलिन, आदि , अकार्बनिक ठोस, जैसे – सोडियम, पोटासियम, के, आयरन, कोबाल्ट आदि.

रुधिर कोशिकाएं

रुधिर कोशिकाओं को रुधिर कणिकाएं भी कहते हैं. आयतन के अनुसार यह रुधिर का  40 – 50% भाग बनाती है. रुधिर कोशिका चार प्रकार की होती है.

लाल रुधिर कणिकाएं

इन में उपस्थित हीमोग्लोबिन नामक लाल वर्णक के कारण ही रुधिर का रंग लाल होता है. इन्हें  इरीथ्रोसाइटस भी कहते हैं. लाल रुधिर कणिकाओं संबंधित बिंदु निम्न है.

हिमोग्लोबिन शरीर की हर कोशिका में ऑक्सीजन पहुंचाने तथा कार्बन डाइऑक्साइड को वापस लाने का कार्य करती है केसुरी क्योंकि RBCs केंद्रीय होती है, जबकि स्तनधारियों की RBCs में केंद्रक अनुपस्थित होता है,ऊंट के अतिरिक्त सभी  स्तनधारियों की RBCs अकेंद्रीय  होती है,

सलामेडर की RBCs सबसे बड़ी होती है. कस्तूरी हिरण की RBCs सबसे छोटी होती है. RBCS आकार में उभयावतली  होती है., मनुष्य में इनका जीवन काल लगभग 120 दिन होता है.

मनुष्य में पुरुषों के रुधिर में इनकी संख्या 5 – 5.5  मिलियन MM 3 रुधिर तथा स्त्रियों में 4 – 4.5 मिलियन MM 3 रक्त होती है, हिमोग्लोबिन (HB) की मात्रा शाले के हिमोमीटर से मापी जाती

प्रवासी रक्ताल्पता

यह अनुवांशिक नहीं होती विटामिन B12 की कमी के कारण  RBCs की संख्या में कमी तथा आकार में वृद्धि होती है, परंतु RBC  में हिमोग्लोबिन घटक कम रहता है.

थैलीसीमिया रक्ताल्पता

यह अनुवांशिक रोग है, जिससे शरीर में RBCs  या हिमोग्लोबिन का निर्माण नहीं होता.

सेप्टीसीमिया

यह एक प्रकार की रुधिर विषाक्तता है.

श्वेत रुधिर कणिकाएं

इन्हें ल्यूकोसाइट भी  कहते हैं. यह RBCs से बड़ी तथा रंगहिन होती है. सभी WBCs मैं केंद्रक उपस्थित होता है. रुधिर में 8000 – 9000  \मिमी3 WBCs उपस्थित होती है. इनका रक्षा तंत्र में महत्वपूर्ण योगदान है, इसलिए यह शरीर की सिपाही कहलाती है. WBCs दो प्रकार की होती है

कणिका में श्वेत रुधिराणु

इनका कोशिकाद्रव्य  कानिकामय का तथा केंद्रक पाली युक्त होता है. सममिति आकृती होती है. अभिरंजन गुण धर्मों के आधार पर इन्हें तीन भागों में बांटा जा सकता है.

ऐसीडोफिल्स या इओसिनोफिल्स

यह कुल श्वेत रुधिर कणिकाओं की लगभग 2 से 4% होती हैं तथा अम्लीय अभिरंजक( जैसे -इयोसिन)द्वारा  अभीरंजीत की जा सकती है, इनका केंद्रक दो पालियों में विभाजित रहता है, रोगों के संक्रमण के समय इनकी संख्या बढ़ जाती है, यह शरीर को प्रतिरक्षा प्रदान करने में सहायक होती हैं तथा एलर्जी व अतिसंवेदनशीलता में महत्वपूर्ण कार्य करती हैं,

बेसेफिल्स

यह कुल श्वेत रुधिर कणिकाओं की 0.5 – 2 % होती है. यह क्षारीय अभिरंजक र्ग्रहण करती है. जैसे –  मैथिली में ब्लू द्वारा अभिरंजित होती है . इनका केंद्रक 2 – 3 पोलियो में विभाजित तथा s आकृति  का दिखाई देता है. यह हेपिरिन, हिस्टेम्नी एवं सिरोटोनिन नामक पदार्थ का श्रावण करती है.

न्यूट्रोफिल्स

श्वेत रुधिर कणिकाओं में इनकी संख्या सबसे अधिक है ( 60- 70%) .होती है .यह उदासीन अभिरजोंकों द्वारा अभिरंजित होती है. इनका केन्द्र 3 – 5 पोलियो में विभाजित रहता है. ये भक्षकाणु क्रिया में सबसे अधिक सक्रिय होती है.

कनिकारित सफेद रुधिराणु

श्वेत रुधिर कणिकाओं के कोशिकाद्रव्य में कणिकाएं नहीं पाई जाती है. इनका  कार्ड केंद्र होता है तथा विंडो में विभाजित नहीं रहता है. यह दो प्रकार की होती है.

लिंफोसाइट या ल्सिकाणु

इनका आकार सबसे छोटा होता है. यह कुल श्वेत रुधिर कणिकाओं की 20 – 30% होती है. इनका कार्य प्रतिरक्षी का निर्माण करना तथा शरीर की सुरक्षा करना होता है.

मोनोसाइट्स

यह बड़े आकार की कोशिकाएं होती है. यह कुल श्वेत रुधिर कणिकाओं को 2-10% होती है. उत्तक द्रव्य  में जाकर यह वृहद भ्क्ष्काणु में परिवर्तित हो जाती है.इनका कार्य भक्षकाणु कृया द्वारा जीवाणुओं का भक्षण  करना होता है.

प्लेटलेट्स

प्लेटलेट्स केवल  स्तनधारियों में पाई जाती है. यह थ्रोंमोबोसाईट कहलाती है.  तथा ये केंद्रकरही होती है.इनकी माप अनियमित बोलो या अंडाकार होती है. यह रुधिर के स्न्क्दन में सहायता प्रदान करती है.

रुधिर दाब

यह रुधिर  के बहने से धमनियों की दीवारों पर लगने वाला दाब है तथा  पारे की मिमी के रूप में ब्रेकिय्ल धमनी में मापा जाता है इसके लिए जिस. उपकरण का प्रयोग किया जाता है. वह है सिफ्गोमिमे नोमिट्रर कहलाता है. इसका उत्पादन मूल्य सामान्यतया 120 मिमी hg  तथा निम्न अनुशिथिलन मुल्य सामान्यता 80 मिमी hg होता है. अति तनाव में उच्च रुधीर दाब प्रकुंचन 140 मिमी Hg से अधिक तथा अनुशिथिलन 90 मिमी Hg से अधिक होता है. न्यून तनाव में निम्न  रुधिर दाब प्रकुंचन 110 मिमी hg से कम तथा अनुशीथिलिन 70 मिमी hg से कम होता है.

प्रतिजन

इन्हें एलुटीजन भी कहते हैं.RBCs की सतह पर पाई जाती है. प्रतिजन A साथ B प्रकार के होते हैं.

प्रतिरक्षी

इन्हें एग्लूटीन्स  भी कहते हैं.यह रुधिर प्लाज्मा में उपस्थित होते हैं. इनका निर्माण ल्स्सिका नोड तथा लसीका ग्रंथियों में होता है.

उत्सर्जन

नाइट्रोजन व वर्ज्य  पदार्थों को शरीर के बाहर विकसित करने की जो प्रक्रिया को उत्सर्जन कहते हैं. उत्सर्जन में सहायक  अंग उत्सर्जी अग कहलाते हैं. जो मिलकर उत्सर्जन तंत्र का निर्माण करते हैं. कोशिका अथवा शरीर में लवण एवं जल की शुद्धता के अनुपात का नियमन  परासरण नियमन कहलाता है,

मानव का उत्सर्जी तंत्र

मानव का उत्सर्जी व्रीक्क मूत्रवाहिनी नलिका मूत्राशय  तथा मूत्र मार्ग से मिलकर बना होता है.

वृक्क

वृक्क सत्नियों का उत्सर्जी अंग है. मनुष्य में एक जोड़ी वृकक दंड के दोनों और आमासीय गुहा में पाए जाते हैं. बायना व्रीक्क दाएँ व्रीक्क से कुछ ऊँचा होता है, वृकक  दो भागों का बना होता है.

श्वसन

एसी सभी भौतिक एवं रासायनिक क्रियाओं के योग को शवसन कहते हैं. जिनमें वायुमंडल में ऑक्सीजन शरीर की कोशिकाओं में पहुंचकर भोजन का ऑक्सीकरण करती है तथा कार्बन डाइऑक्साइड एवं जल उत्पन्न होती है और ऊर्जा मुक्त होती है. श्वसन दो प्रकार का होता है -वायवीय श्वसन, आवयवीय श्वसन

मनुष्य श्वसन

मानव के मुख्य श्वस्नांग एक जोड़ी फेफडे होते  हैं. यह कोमल सपंजी एवं लचीले अंग है जो कक्षगुहा  में केशुरुक दंड एवं पन्सलीयों द्वारा बने एक कटघरे में सुरक्षित रहते हैं.फेफड़ों तक बाहरी वायु के आवागमन हेतु नासिक का ग्रसनी,  वायुनाल तथा इसकी शाखाएं मिलकर एक जटिल वायु मार्ग बनाती है. इस प्रकार यह सब अंत का फेफड़े मिलकर मानव का श्वसन तंत्र बनाते हैं.

Share
Published by
Deep Khicher

Recent Posts

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Paper – 2 Solved Question Paper

निर्देश : (प्र. 1-3) नीचे दिए गये प्रश्नों में, दो कथन S1 व S2 तथा…

5 months ago

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Solved Question Paper

1. रतनपुर के कलचुरिशासक पृथ्वी देव प्रथम के सम्बन्ध में निम्नलिखित में से कौन सा…

5 months ago

अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए – List of Gazetted Officer

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे की अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए - List…

6 months ago

Haryana Group D Important Question Hindi

आज इस आर्टिकल में हम आपको Haryana Group D Important Question Hindi के बारे में…

6 months ago

HSSC Group D Allocation List – HSSC Group D Result Posting List

अगर आपका selection HSSC group D में हुआ है और आपको कौन सा पद और…

6 months ago

HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern – Haryana Group D

आज इस आर्टिकल में हम आपको HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern - Haryana…

6 months ago