History

क्षेत्रीय राजवंश – बंगाल के वंश

आज इस आर्टिकल में हम आपको क्षेत्रीय राजवंश – बंगाल के वंश के बारे में बताने जा रहे है-

क्षेत्रीय राजवंश – बंगाल के वंश

पाल वंश

आठवीं शताब्दी के मध्य में बंगाल के पाल वंश की स्थापना हुई. धर्मपाल के सलेमपुर अभिलेख के अनुसार, बंगाल की जनता ने गोपाल नामक व्यक्ति को शासक बनाया, जिसने पाल वंश के शासन की नींव रखी. गोपाल ने ओदंतपुरी में  विहार बनाया. धर्मपाल के समय में विक्रमशिला विश्वविद्यालय की स्थापना हुई, जो बौद्ध शिक्षा का एक प्रमुख केंद्र था.

SSC एग्जाम पूछे जाने वाले 100 महत्वपूर्ण GK क्वेश्चन

देवपाल ने प्रतिहार शासक मिहिरभोज को पराजित किया, उस के शासनकाल में शैलेंद्र शासक ने नालंदा महाविहार को दान देने के लिए 5 गांव की मांग की थी. अरब यात्री सुलेमान ने पाल वंश को प्रतिहार तथा राष्ट्रकूटों से अधिक शक्तिशाली बताया तथा उसने पाल साम्राज्य को रुहमा कहा है.रामपाल के शासनकाल का कैवर्त जाति के लोगों ने विद्रोह किया था.

सेन वंश

पाल वंश की दुर्बलता का लाभ उठाकर सामंत सेन ने बंगाल में सेन वंश की स्थापना की. बल्लाल सेन, सेन वंश का प्रबुद शासक था.उसने दान सागर एवं अद्भुत सागर ( खगोल विज्ञान पर) ग्रंथ की रचना की.

लक्ष्मण सेन के दरबार में गीत गोविंद के लेखक जयदेव, पवनदूत का लेखक दोहे एवं ब्राह्मण सर्वस्व   के रचयिता ह्लालाय्द्ध. हलायुध लक्ष्मण सिंह का न्यायधीश एवं मुख्यमंत्री था. 1202 इसमें बख्तियार खिलजी ने लक्ष्मण सेन के शासनकाल में बंगाल पर आक्रमण किया.

कश्मीर के राजवंश

कल्हण की राजतरंगिणी ( 1150 ई.)  में कश्मीर के प्राचीन इतिहास का वर्णन  है. दूलेभवर्धन ने 627 ईसवी में काकार्कोट जब की स्थापना की थी. ललितादित्य मुक्तापिड ( लगभग है (724 – 760 ई.) कार्कोट बस का प्रसिद्ध शासक था. राजतरंगिणी में ललितादित्य मुक्ता पीर की विजयों का वर्णन है. उसने मार्तंड का सूर्य मंदिर निर्माण करवाया था.

उत्पल वंश का संस्थापक है अवनिवर्तमान था. जबकि लाहौर वंश का संस्थापक संग्राम राज था. अवनीत वर्मन ने अवंती नगर बसाया तथा उसके अधिकारी सुय्य ने सिंचाई के लिए नहरें बनवाई. 980 ई.में उत्पल वंश की रानी दिद्दा ने राज्य में शांति स्थापित की, किंतु वह एक दुराचारिणी महिला थी. 1003 इसवी में उसकी मृत्यु के बाद संग्रामराज शासक हुआ, जिसने लाहौर वंश की नींव डाली.

इसी वश में हर्ष राजा हुआ, जिसका आश्रित कवि कल्हण था, जिसकी राजतरंगिणी  का विवरण इस वर्ष के अंतिम शासक जय सिंह के साथ समाप्त हो जाता है. तो . 133९ ईस्वी में शाहमीर ने कश्मीर में मुस्लिम शासन की स्थापना की.

Recent Posts

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Paper – 2 Solved Question Paper

निर्देश : (प्र. 1-3) नीचे दिए गये प्रश्नों में, दो कथन S1 व S2 तथा…

5 months ago

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Solved Question Paper

1. रतनपुर के कलचुरिशासक पृथ्वी देव प्रथम के सम्बन्ध में निम्नलिखित में से कौन सा…

5 months ago

अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए – List of Gazetted Officer

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे की अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए - List…

6 months ago

Haryana Group D Important Question Hindi

आज इस आर्टिकल में हम आपको Haryana Group D Important Question Hindi के बारे में…

6 months ago

HSSC Group D Allocation List – HSSC Group D Result Posting List

अगर आपका selection HSSC group D में हुआ है और आपको कौन सा पद और…

6 months ago

HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern – Haryana Group D

आज इस आर्टिकल में हम आपको HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern - Haryana…

6 months ago