Geography

भारत का आर्थिक भूगोल

कृषि

भारत एक कृषि प्रधान देश है. राष्ट्रीय उत्पादन में कृषि का अंशदान वर्ष 1951 में 60% से घटकर वर्ष 2011-12 में 13.9% तक पहुंच गया है, परंतु अभी भी वन प्रतिशत जनसंख्या को रोजगार देती है. भारत के कुल क्षेत्रफल का लगभग 51% भाग पर कृषि कार्य होता है.

विश्व में चावल उत्पादन में चीन के बाद भारत का दूसरा स्थान है. देश में गेहूं के उत्पादन में उत्तर प्रदेश का स्थान प्रथम है, जब की प्रति हेक्टेयर उत्पादन में पंजाब का स्थान प्रथम है.

भारत की फसलें एवं अग्रणी राज्य

फसल राज्य फसल राज्य
चावल पश्चिम बंग गन्ना उत्तर प्रदेश
गेहूं उत्तर प्रदेश तंबाकू आंध्र प्रदेश
जो उत्तर प्रदेश केसर जम्मू कश्मीर
मूंगफली गुजरात रबर, इलायची, मसाला केरल
कपास महाराष्ट्र सोयाबीन मध्य प्रदेश
चना एवं दलहन उत्तर प्रदेश मकई मध्य प्रदेश
झूठ पश्चिम बंग काली मिर्च के
कोफ़ी कर्नाटक लाल मिर्च आंध्र प्रदेश
चाय असम

उद्योग

भारत में एल्युमीनियम उद्योग की शुरुआत 1935 में जेके नगर से हुई. हिंदुस्तान एंटीबायोटिक्स लिमिटेड की स्थापना पिंपरी (पुणे) में की गई. भारत दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा नाइट्रोजन युक्त उर्वरक उत्पादक है. चीन और अमेरिका कर्म से पहले और दूसरे स्थान पर है. जुट का पहला कारखाना 18 से 55 ईसवी में रिसरा नदी के किनारे नामक स्थान पर खोला गया.

विदेशी सहायता से स्थापित स्टील प्लांट

स्टील प्लांट सहयोगी देश
बोकारो स्टील प्लांट ( झारखंड वर्ष 1955) पूर्व सोवियत संघ
भिलाई स्टील प्लांट (मध्य प्रदेश वर्ष 1955) पूर्व सोवियत संघ
राउरकेला स्टील प्लांट (ओडिशा, वर्ष 1955) पश्चिम जर्मनी
दुर्गापुर स्टील प्लांट (पश्चिम बंग, वर्ष 1956) ब्रिटेन

भारत के खनिज

खनिज राज्य खनिज राज्य
बॉक्साइट ओडिशा ग्रेफाइट राजस्थान
कोयला रानीगंज (पश्चिम बंग) पेट्रोलियम महाराष्ट्र
तांबा खितड़ी (राजस्थान) लोहा अयस्क छत्तीसगढ़
हीरा पन्ना (मध्य प्रदेश) संगमरमर राजस्थान
सोना कोलार (कर्नाटक) कोबाल्ट राजस्थान
जिप्सम नागौर (राजस्थान) थोरियम केरल
अभ्रक झारखंड चांदी कोलार ( कर्नाटक)
यूरेनियम जादूगोड़ा (झारखंड) सीसा राजस्थान

उर्जा

उर्जा आर्थिक विकास तथा जीवन का स्तर बेहतर बनाने के लिए एक अनिवार्य संसाधन है. भारत में परंपरागत स्रोत जैसे कोयला, पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस तथा गैर परंपरागत स्रोत पवन ऊर्जा ऊर्जा दोनों से ऊर्जा प्राप्त की जाती है.

1897 ईसवी में पहली बार दार्जिलिंग में बिजली की आपूर्ति शुरू हुई. वर्ष 1910 में, कर्नाटक के शिवासमूद्रम में पनबिजली घर लगाया गया. हिमाचल प्रदेश, मेघालय, नागालैंड, सिक्किम उत्तराखंड पूर्णतया जल विद्युत पर आश्रित है. देश में पन बिजली उत्पादन हेतु वर्ष 1975 में राष्ट्रीय पनबिजली निगम लिमिटेड की स्थापना की गई.

भारत के तेल शोधक कारखाने

स्थान कारखाना
डीग्बोई पहला नया केंद्र
नूनमाटी इंडियन ऑयल (असम)
बरौनी इंडियन ऑयल (बिहार)
कोचिंन इंडियन ऑयल (केरल)
कोयली इंडियन ऑयल (गुजरात)
बोगई गांव इंडियन ऑयल (असम)
मथुरा इंडियन ऑयल
हल्दिया पश्चिम बंगाल (इंडियन ऑयल)
ट्राम्बे हिंदुस्तान पेट्रोलियम (मुंबई)
मुंबई हाई सबसे बड़ा उत्पादक क्षेत्र
जामनगर रिलायंस (भारत की सबसे बड़ी)
भठिंडा हिंदुस्तान पेट्रोलियम- मित्तल
बीना भारत ओमान रिफाइनरी लिमिटेड

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close