History

खिलजी वंश (1290-1320 ई.)

आज इस आर्टिकल में हम आपको खिलजी वंश (1290-1320 ई.) के बारे में बताने जा रहे है जिससे आप आपने आगामी एग्जाम की तैयारी कर सकते है.


खिलजी वंश (1290-1320 ई.)
खिलजी वंश (1290-1320 ई.)

खिलजी वंश (1290-1320 ई.)

खिलजी वंश का संस्थापक जलालुद्दीन फिरोज खिलजी ( 1290-96 ई.)  था. उसने अपनी राजधानी दिल्ली के निकट किलोखरी में बनाई.

गुप्तोत्तर वंश एवं पुष्यभूति वंश

जलालुद्दीन फिरोज दिल्ली सल्तनत का पहला सुल्तान था, जिसने राजस्थान का आधार प्रजा का समर्थन माना.

Blogger पर Free में Website कैसे बनाये?

अलाउद्दीन खिलजी ( 1296 – 1316 ई.) का मूल अली गुरशास्प था. उसने सिकंदर द्वितीय सानी की उपाधि धारण की.अलाउद्दीन खिलजी प्रथम मुस्लिम सुल्तान था, जिसने दक्षिण भारत पर आक्रमण किया और उसे अपने अधीन किया. उसने सेनानायक मलिक काफूर को दक्षिण विजय का श्रेय दिया जाता है.

अलाउद्दीन की नीतियों में सर्वाधिक महत्वपूर्ण बाजार नियंत्रण नीति थी, जिसका उद्देश्य अपनी विशाल सेना की आवश्यकताओं को पूरा करना  था. अल्लाउद्दीन ने इनाम, मिले तथा वक्त भूमि को खालसा भूमि में परिवर्तित कर दिया. वह प्रथम सुल्तान था जिसने भूमि की माप के आधार पर लगाम निर्धारित किया.

अलाउद्दीन ने सैनिकों की सीधी भर्ती पिता का नगद वेतन देने की प्रथा की शुरुआत की. उसने सैनिकों के लिए चेहरा तथा उनके गुणों के लिए दाग प्रथा की शुरुआत की.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close