आज इस आर्टिकल में हम आपको सामाजिक एवं धार्मिक सुधार आंदोलन के बारे में बता रहे है.

सामाजिक एवं धार्मिक सुधार आंदोलन
सामाजिक एवं धार्मिक सुधार आंदोलन

राजा राममोहन राय को भारतीय पुनर्जागरण का जनक कहा जाता है. राजा राममोहन राय ने कोलकाता में वेदांत कॉलेज तथा डेविड हेयर के साथ मिलकर हिंदू कॉलेज की स्थापना की.

ब्राह्मण समाज की स्थापना 1828 ई. में राजा राममोहन राय ने की.

ब्राह्मण समाज में विभाजन के बाद केशवचंद्र सेन ने 1866 ई. में आदि ब्राह्मण समाज की स्थापना की.

यंग बंगाल आंदोलन के प्रवर्तक हेनरी विवियन डेरोजियो, हिंदू कॉलेज के प्राध्यापक थे.

रार्थना समाज की स्थापना आत्माराम  पांडुरंग में मुंबई में की.

भारत का स्वतंत्रता आंदोलन

आर्य समाज की स्थापना स्वामी दयानंद स्वामी ने 1833 में मुंबई में की. दयानंद सरस्वती का वास्तविक नाम मूलशंकर था. दयानंद सरस्वती ने वेदों की ओर लौटो का नारा दिया.

रामकृष्ण मिशन की स्थापना स्वामी विवेकानंद 1800 ई. में की. इस भजन का नाम रामकृष्ण परमहंस के नाम पर रखा गया था. स्वामी विवेकानंद का वास्तविक नाम नरेंद्र दत था. विवेकानंद नए 18 से 93 ई. में शिकांगो ( अमेरिका) की विश्व धर्म संसद में भाग लिया था.

थियोसोफिकल सोसायटी की स्थापना निवारक में 18 से 75 ई. में कर्नल एच एस अल्काट तथा मैडम ब्लावाट्स्की की द्वारा की गई. थियोसोफिकल सोसायटी की शाखा चेन्नई के निकट अडयार में 18 से 66 ई. में स्थापित की गई. वहाबी आंदोलन के नेता सैयद अहमद बरेलवी थे. वहाबी आंदोलन का मुख्य केंद्र पटना था. अलीगढ़ आंदोलन की शुरुआत सर सैयद अहमद खान ने की थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *