Study Material

सूक्ष्म जीव से जुड़े सवाल और उनके जवाब

Contents show

सूक्ष्म जीव किसे कहते हैं? यह कितने प्रकार के होते हैं?

ऐसे जीव, जिन्हें नंगी आंखों के द्वारा देखना संभव न हो बल्कि सूक्ष्मदर्शी के द्वारा ही देखे जा सकें, सूक्ष्मजीव कहलाते हैं।  मुख्यतः पांच प्रकार के होते हैं- जीवाणु, कवक या फफूंदी, प्रोटोजोआ, विषाणु या वायरस तथा शैवाल।

सूक्ष्म जीव कहां मिलते हैं?

सूक्ष्म जीव हर स्थान पर पाए जाते हैं और हर प्रकार के पर्यावरण में रह सकते हैं,  जैसे पानी, वायु, मिट्टी,उष्ण झरने, ठंडा जल, बर्फ, लवण अथवा गंध युक्त जल अथवा कार्बनिक पदार्थ है, रेतीली मिट्टी या फिर दलदली भूमि में।  कुछ सूक्ष्म जीव हमारे शरीर के अंदर तथा गलते- सड़ते पदार्थों, यहां तक कि उबलते पानी में भी पाए जाते हैं।

जीवाणुओं से क्या अभिप्राय है?

जीवाणु अति सूक्ष्म जीव है। यह हर स्थान पर पाए जाते हैं। यह केवल एक कोशिका के बने होते हैं। इन्हें केवल सूक्ष्म दर्शी यंत्र द्वारा ही देखा जा सकता है। यह परजीवी या मृत जीव होते हैं। यह हमारे लिए लाभदायक भी होते हैं और हानिकारक भी। यह मनुष्य पौधों और जानवरों में बहुत से रोग फैलाते हैं तथा अनेक प्रकार से हमारी रक्षा करते हैं।

प्रकृति में जीवाणु कहां पाए जाते हैं?

जीवाणु सर्वव्यापी है अर्थात यह सब जगह पाए जाते हैं। जीवाणु हवा, पानी, मिट्टी, बर्फ , शरीर के अंदर बाहर, मृत जीवों के शरीर, उबलते पानी, भूमि के अंदर 16 फुट गहराई तक है, मल- जल और गंधक के पानी के झरनों में भी पाए जाते हैं।  शायद ही ऐसा स्थान हो जहां जीवाणु न पाए जाते हो। जीवाणु हमारे मुंह और आंतों में भी निवास करते हैं।

विभिन्न प्रकार के जीवों का उदाहरण सहित वर्णन करें।

आकार के आधार पर जीव तीन प्रकार के होते हैं-

बैसिलस या दंडाकार जीवाणु- यह छड़ के आकार के होते हैं, जैसे लैक्टोबैसिलस, बैसिलस तथा स्यूडॉमोनास,।

सर्पाकार या सर्पीलाकार जीवाणु- यह घुमावदार होते हैं, जैसे विबरियों, ट्रीपोनीमा एवं कैम्फिलोबैकट्र आदी।

कोकस या गोलाकार जीवाणु- यह जीवाणु छोटे तथा बोल होते हैं, जैसे स्ट्रैप्टॉकोक्कस, सारसी ना तथा माइक्रोकोकस  आदी।

शैवाल किसे कहते हैं?

शैवाल- यह पौधों के सदृश जीव है, जिनमें क्लोरोफिल पाया जाता है, इसलिए यह स्वपोषी होते हैं, क्योंकी यह प्रकाश संश्लेषण क्रिया द्वारा अपना भोजन स्वयं बनाते हैं। यह नमी वाले पृष्ठो पर उगते हैं। शैवाल एककोशि और बहूकोशी दोनों प्रकार के होते हैं। कुछ सवाल कई कई मीटर लंबे होते हैं।

शैवाल कहां पाए जाते हैं? यह किस प्रकार के?

शैवाल बर्फ, खारे पानी, उष्ण झरनों, नम मिट्टी, वृक्षों के छाल व चट्टानों की सतह पर पाए जाते हैं। यह अन्य जलीय जीवो के शरीर के अंदर सहजीवी के रूप में भी पाए जाते हैं। एककोशी शैवाल गोलाकार, छड़ाकार तथा शंकवाकार होते हैं। बहूकोशी शैवाल जटिल संरचना वाले होते हैं।

प्रोटोजोआ किसे कहते हैं?

प्रोटोजोआ शब्द का अर्थ है- प्रथम जीव और ऐसा विश्वास किया जाता है कि प्रोटोजोआ वर्ग के जीव ही पृथ्वी पर सबसे पहले विकसित हुए हैं।  अधिकतर प्रोटोजोआ का आकार 2 से 200 माइक्रोन तक होता है, जैसे अमीबा,  ट्रिपनोसोमा, कोडोसिगा।

प्रोटोजोआ कहां पाए जाते हैं?

प्रोटोजोआ नम तथा गिले स्थानों, जैसे मिट्टी, समुद्र तथा लवण जल में पाए जाते हैं। कुछ ध्रुविय क्षेत्रों तथा ऊंचे पर्वतों पर भी पाए जाते हैं।

कवक किसे कहते हैं? उदाहरण दो।

कवक सूक्ष्म जीव है। कवक एककोशि और बहूकोशी होते हैं। यह मृतोपजीव होते हैं। उनकी 80,000 जातियां पाई जाती है। कवक के 2 वर्ग होते हैं- खमीर, मोल्डस, उदाहरण- पेनिसिलियम, एसपराजिलस, राईजोपस।

विषाणु किसे कहते हैं? विषाणु द्वारा कौन-कौन से रोग फैलते हैं?

ऐसी सरचनाएं जिनमें सजीव और निर्जीव दोनों के गुण विद्यमान होते हैं, विषाणु कहलाते हैं। सूक्ष्म जीव विषाणु की खोज संन 1888 में मेयर नामक वैज्ञानिक ने की थी। विषाणुओं में जीवद्रव्य पाया जाता है जबकि इनमें कौशिकीय संगठन का अभाव होता है। विषाणुओं का अध्ययन इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी से संभव हुआ है।

विषाणु द्वारा उत्पन्न रोगों के नाम- जुकाम, इन्फ्लूएंजा, फ्लू, खसरा, चेचक, पोलियो, आंखों का लाल होना आदि।

जीवाणु और कवकों में क्या अंतर है?

जीवाणु कवक
जीवाणु लगभग सभी स्थानों पर पाए जाते हैं। कवक अधिकतर नमी, उच्चतम ताप तथा छायादार या अंधेरे स्थानों पर पाए जाते हैं।
 जीवाणु परपोषी, स्वपोषी या सहपोशी हो सकते हैं। कवक मृतपोजीव या परजीवी होते हैं।
यह कई आकार के होते हैं। यह पतले पतले धागों से बने जाल के आकार के होते हैं।
जीवाणुओं में प्रजनन द्विविखंडन विधि से होता है। कवकों में प्रजनन  बीजाणुओं को अनुकूल परिस्थितियां मिलने पर होता है।

जीवाणु और विषाणु में क्या अंतर है?

जीवाणु विषाणु
यह जीवधारी होते हैं। इनमें सजीव तथा निर्जीव दोनों के गुण पाए जाते हैं।
इन की सरंचना कोशिकीय होती है। विषाणु की संरचना कोशिकीय नहीं होती है।
जीवाणु सूक्ष्मदर्शी द्वारा देखे जा सकते। इन्हें केवल इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी द्वारा ही देखा जा सकता।
जीवाणुओं को जन्म उसी प्रकार के जीवाणुओं से होता है। किसानों को निर्जीव पदार्थ से बनाया जा सकता है।
जीवाणु लाभदायक और हानिकारक दोनों प्रकार के होते हैं। विषाणु केवल हानिकारक होते हैं।

दूध से दही कैसे बनती है?

ताजी दही जमाने के लिए थोड़े गरम (37C०) दूध में थोड़ी दही मिलाई जाती है। इस दही में लैक्टोबैसिलस, सटैफाइलोकस  जीवाणु और कुछ खमीर पाई जाती है। लैक्टोबैसिलस जीवाणु दूध को दही में जमाने में सहायक होता है। यह एक अवायूजीवी जीवाणु है। यह ऐसे दूध में, जिसमें ऑक्सीजन बहुत कम मात्रा में हो, तीव्रता से वृद्धि करता है। इस क्रिया में यह दूध कोअवसीय पदार्थों का उपयोग करता है और अम्लीय पदार्थ भी बनाता है जिसके परिणाम स्वरुप दूध गाढ़ा हो कर दही के रूप में जमने लगता है।

कवकों के तीन प्रमुख उपयोगों के बारे मे लिखो.

  • कवक किण्वन क्रिया के द्वारा बियर, शराब और अन्य पेय पदार्थ बनाने में सहायक है.
  • यीस्ट नामक कवक डबल रोटी, इडली, डोसा आदि बनाने में सहायक है।
  • कवक प्रतिजैविक पदार्थ के निर्माण में भी सहायक है।

किण्वन क्रिया किसे कहते हैं?

किण्वन क्रिया खमीर (यीस्ट) नामक फफूंदी से होता है। इस क्रिया में खमीर शर्करा को एल्कोहल एवं कार्बन डाइऑक्साइड गैस में बदल देती है। इसी क्रिया द्वारा मीठे फल के रस, गन्ने के रस आदि से सिरका बनाया जाता है। डबल रोटी और एल्कोहल को बनाने में  किण्वन क्रिया काम आती है। ।

प्रतिजैविक पदार्थों को निर्धारित अवधि से अधिक लेने पर क्या होता है?

प्रतिजैविक पदार्थों को डॉक्टर की सलाह अनुसार ही तय अवधि तक लेना उचित है। यदि इससे अधिक समय तक व प्रतिजैविको का उपयोग किया जाए तो भविष्य के लिए इनका प्रभाव समाप्त हो जाता है।  साथ ही शरीर में उपस्थित है लाभकारी जीवाणु भी इनके अधिक उपयोग से नष्ट हो जाने के कारण है, इनकी उपयोगिता नकारात्मक हो जाती है।

क्या कारण है कि सर्दी जुकाम या पल्लू में प्रतिजैविक पदार्थ प्रभावशाली नहीं होते क्यों?

प्रतिजैविक पदार्थ का वायरस पर कोई प्रभाव नहीं होता है। अतः सर्दी जुकाम या फ्लू जैसे रोग वायरसजनित होने के कारण प्रतिजैविकों से ठीक नहीं होते हैं।

वैक्सीन किसे कहते हैं? इनका क्या प्रभाव होता है?

विशिष्ट बीमारी के मंद स्ट्रेन के रोगाणुओं एंटीजनों से बना पदार्थ जो शरीर में विशेष बीमारी के प्रति रोग प्रतिरोधक क्षमता उत्पन्न करें, वैक्सीन कहलाता है। प्रत्येक बीमारी का वैक्सीन भिन्न होता है।

प्रभाव- वैक्सीन हमारे शरीर में प्रतिरक्षी की भूमिका निभाने के कारण रोग प्रतिरोधी क्षमता को बढ़ा देते हैं जिससे शरीर में यह क्षमता कुछ समय के लिए बनी रहती है। इस अवधि में यदि किसी रोग के रोगाणु शरीर में प्रवेश करते हैं तो वहवैक्सीन से उत्पन्न प्रतिरक्षी रोगाणुओं से लड़ कर उन्हें नष्ट कर शरीर को स्वस्थ रखते हैं।

उदाहरण देकर स्पष्ट करो कि वैक्सीन ( टीका) के द्वारा रोगों को उन्मूलन संभव है?

रोगों से बचने के लिए टीकाकरण किया जाता है।  पोलियो से बचने के लिए पल्स पोलियो अभियान में पोलियो ड्रॉप्स देकर टीकाकरण किया जा रहा है जिससे पोलियो के रोगियों की संख्या काफी कम हो गई है। इसी प्रकार चेचक के विरुद्ध विश्वव्यापी अभियान से इसका समूल उन्मूलन संभव हुआ है। इसी आशय को सामने रखते हुए नवजात शिशुओं में टीकाकरण का अभियान राष्ट्रीय स्तर पर चलाया जा रहा है जिसके  अच्छे परिणाम सामने आ रहे हैं।

फलीदार पौधों की जड़ों में क्या विशेषता होती है?

इन पौधों की जड़ों  पर गांठे पाई जाती है जिनमें राइजोबियम हुआ है एजेटोबेक्टर जीवाणु रहते हैं जो वायुमंडल की स्वतंत्र नाइट्रोजन को नाइट्रेट्स में बदल देते हैं। नाइट्रेट प्रोटीन में बदल जाती है। यही कारण है कि दालों में प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता है। नाइट्रेट्स भूमि की उपजाऊ शक्ति को बढ़ाते हैं।

खेती में जीवाणु किस प्रकार सहायक है?

  • यह गोबर, मल मूत्र आदि को गला सड़ा कर जैविक खाध बना देते हैं जिससे खेत में फसल अधिक होती है।
  • फलीदार पौधों की जड़ों में रहने वाले सहजीवी राइजोबियम नामक जीवाणु नाइट्रोजन को नाइट्रोजन के यौगिक में बदल देता है जिससे भूमि की उपजाऊ शक्ति बढ़ती है।  यही जीवाणु हरी खाद बनाने में सहायक होते हैं।

ह्रामूस या जीवांश किसे कहते हैं?

जब हम सुखी हुई पत्तियों और सूखे हुए पौधों को इकट्ठा करके मिट्टी में दबा देते हैं तो भूमि में उपस्थित जीवाणु इन वस्तुओं को सड़ा कर एक प्रकार का पदार्थ बना देते हैं। इस पदार्थ को ह्रामूस जीवांश कहते हैं। यह पौधों के लिए एक उत्तम खाद व पौष्टिक आहार का काम करती है।

सूक्ष्म जीव पर्यावरण का शुद्धिकरण किस प्रकार करते हैं?

अनेक जीव मृत अवस्था में हमारे पर्यावरण में मिलते रहते हैं जिनका अपघटन कर सूक्ष्म जीव का शुद्धिकरण करते रहते हैं। यदि ऐसा ना हो तो पृथ्वी पर जीवों का ढेर लग जाते। इसके साथ ही अन्य निम्नीकरण के पदार्थों का भी अपघटन कर उन्हें उपयोगी पदार्थ जीवांश में बदलने का काम सूक्ष्म जीव करते रहते हैं।

यदि जीवाणु न हो तो पृथ्वी पर जीवन की संभावना व्यक्त करो। (अथवा ) यदि जीवाणु न होता तो क्या होता? वर्णन करो।

यदि जीवन में हो तो पृथ्वी पर जीवन की संभावना समाप्त हो जाएगी क्योंकि-

  • यदि पृथ्वी पर जीवाणु न हो तो पृथ्वी पर मृत जीवों का ढेर लग जाएगा।
  • पौधों के पत्तों आदि से ह्रामूस और ह्रामूस से खनिज पदार्थ नहीं बनेंगे।
  • अधिकतर भूमि बंजर भूमि में बदल जाएगी।
  • दूध को दही में नहीं बदला जा सकेगा, डबल रोटी नहीं बनेंगी, एल्कोहल व सिरका आदी नहीं बन सकेंगे। जीवाणुओं के बिना पृथ्वी पर पदार्थों का पुन: र्चक्रण संभव नहीं होगा।

रोगाणु किसे कहते हैं? यह किस प्रकार हानिकारक होते हैं?

जो सूक्ष्म जीव रोगों को उत्पन्न करते है उन्हें रोगाणु या रोगजनक कहते हैं। इनसे जीवो में विभिन्न रोग होते हैं। रोगाणु हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता को हानि पहुंचा कर हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं।

विषाणु, प्रोटोजोआ तथा जीवाणु के दो-दो हानिकारक प्रभाव लीखो।

विषाणु के हानिकारक प्रभाव-

  • विषाणु रोग फैलाते हैं, जैसे तंबाकू में मोजेक और पशुओं में मुंह खुर रोग।
  • मनुष्यों के रोग चेचक, पोलियो आदि भी विषाणु से फैलते हैं।

प्रोटोजोआ के हानिकारक प्रभाव-

  • अमीबिक पेचिश एंटअमीबा के कारण होता है।
  • प्लैज्मोडियम परजीवी से मलेरिया होता है।

जीवाणु के हानिकारक प्रभाव-

  • मनुष्य के रोग, जैसे  हैजा, क्षयरोग आदि रोग जीवाणु से होते हैं।
  • जीवाणु हमारे भोज्य पदार्थों को नष्ट कर देते हैं।

रोग- वाहक किसे कहते हैं? उदाहरण देकर स्पष्ट करो।

रोग वाहक- जो कीट या जंतु और रोग कारक सूक्ष्मजीवों को स्वस्थ व्यक्ति तक पहुंचाते हैं, उन्हें रोग वाहक कहते हैं।  जैसे, घरेलू मक्खी, मच्छर ( मादा एनाफ्लीज व मादा एडिस) आदि।

मादा एनाफ्लिज प्लैज्मोडियम में मनुष्य के खून में पाया जाने वाला एक परजीवी है।  यह मलेरिया रोग पैदा करता है। मादा एनाफलीज मच्छर द्वारा मलेरिया के रोगी को काटने पर परजीवी उसके शरीर में प्रवेश करता है।  एनाफलीज मच्छर सिर्फ मलेरिया परजीवी वाहक का काम करता है। यह उन्हें संक्रमित व्यक्ति के चूसे गए रक्त के साथ किसी स्वस्थ व्यक्ति में संचरित कर देता है।

मलेरिया के रोकथाम के उपाय लिखो?

मलेरिया का परजीवी प्लैज्मोडियम, मादा एनाफलीज़ मच्छर द्वारा रोगी व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति तक पहुंचता है। अतः मच्छरो को बढ़ने से रोकने के उपाय किए जाने चाहिए- जैसे-

  1. कूलर, टायरों, बेकार पड़े घडों में फुलदानों में कहीं भी जल एकत्रित न होने दें।
  2. अपने आसपास के क्षेत्र को स्वच्छ शुष्क रखो ताकि मच्छर पैदा ना हो सके।
  3. नालियों की नियमित सफाई की जानी चाहिए।
  4. अपने आसपास लगे गंदगी के ढेरों की सफाई करें।
  5. मच्छर भगाने वाली क्रीम व मछरदानी का इस्तेमाल करें।

पौधों में सूक्ष्म जीवों से होने वाले रोगों के नाम लिखो।

पादप रोग-

  • नींबू का कैंकर रोग- जीवाणुजनित।
  • गेहूं की रस्ट- कवकजनित।
  • भिंडी की पीत- विषाणुजनित।

खाद्य  विषाक्तन से क्या तात्पर्य है?

  • खाए जाने योग्य भोजन में सूक्ष्म जीव जहरीले पदार्थ उत्पन्न कर देते हैं। इसे खाद्य विषाक्तन कहते हैं।
  • विषाक्त भोजन के खाने से भयंकर प्रभाव होने से मनुष्य की मृत्यु भी हो सकती है अतः सदूषित भोजन खाने से बचे हैं।

खाद्य परिरक्षण के प्रमुख उपायों के नाम लिखो।

रासायनिक उपाय, नमक और चीनी का उपयोग, तेल व सिरके द्वारा, तापमान नियंत्रित करके, भंडार व पैकिंग द्वारा।

गर्मियों में दूध जल्दी खराब क्यों हो जाता है? दूध को खराब होने से कैसे बचाया जा सकता है?

गर्मियों में जीवाणुओं की क्रियाशीलता बढ़ जाने के कारण  इनकी संख्या बड़ी तेजी से बढ़ने लगती है। यह जीवाणु दूध के विभिन्न अवयवों को किण्वन क्रिया द्वारा कार्बनिक अमल में बदल देते हैं जिसके कारण दूध में खटास बढ़ने के कारण दूध खराब हो जाता है और गर्म करने पर फट जाता है। सर्दियों में ऐसा नहीं होता और दुध काफी समय तक सुरक्षित रहता है।

उपाय-

  • तापमान बढ़ाने से- दूध उबालने से जीवाणु मर जाते हैं और दूध खराब नहीं होता है।
  • तापमान घटाने से- दूध को फ्रिज में ठंडा करने पर भी वह खराब नहीं होता है, क्योंकि जीवाणु कम ताप पर वंश वृद्धि नहीं कर पाते।
  • पानी की मात्रा कम कर के- दुध को बर्फी ( मावे) में बदलने से वह काफी दिन तक ठीक रहता है।

प्राय: दूध का उपयोग करने से पहले उबाला जाता है,  क्यों?

दूध का उपयोग करने से पहले उबालना इसलिए आवश्यक है ताकि दूध में पाए जाने वाले हानिकारक जीवाणु और अन्य सूक्ष्म जीव नष्ट हो जाए। अधिक गर्म करने या फिर अधिक ठंडा करने से सूक्ष्म जीवों में उपस्थित एंजाइम निष्क्रिय हो जाते हैं और वह खाद्य पदार्थ का संदूषण करके उसे नष्ट नहीं कर पाते। इसलिए उबला हुआ दूध पीने से स्वास्थ्य पर अच्छा ही प्रभाव पड़ता है।

दूध का पाश्चरीकरण किस प्रकार किया जाता है?

दुध का पाश्चरीकरण करने के लिए दूध को 70 डिग्री सेल्सियस तक गर्म किया जाता है और इसी तापमान में 15 – 30 सेकंड तक रखा जाता है। दूध में उपस्थित सभी हानिकारक जीवाणु नष्ट हो जाते हैं। इस क्रिया को पाश्चरीकरण कहते हैं। इस विधि से दूध को काफी समय तक सुरक्षित रखा जा सकता है।

नाइट्रोजन स्थिरीकरण के दो उपाय लिखो।

  • लैग्युम (दाल देने वाले) पौधों की जड़ों में पाए जाने वाले ग्रंथियों के सहायक राइजोबियम जीवाणु द्वारा।
  • तड़ित विद्युत द्वारा।

प्रकृति में नाइट्रोजन का क्या महत्व है? इसका संतुलन किस प्रकार बना रहता है?

प्रकृति (वायुमंडल) मैं लगभग 78% नाइट्रोजन पाई जाती है। इस नाइट्रोजन का पौधे सीधा उपयोग नहीं कर सकते। मिट्टी में स्थित है जीवाणु व नीले हरे शैवाल वायुमंडलीय नाइट्रोजन का स्थिरीकरण करके नाइट्रोजन योगिकों में बदल देते हैं जिसे पौधे मूलतंत्र द्वारा विलियन रूप में ग्रहण कर लेते हैं और इसका उपयोग प्रोटीन व अन्य योगिकों के संश्लेषण में करते हैं। जंतु इसी नाइट्रोजन का उपयोग प्रोटीन व अन्य यौगिकों के रूप में करते हैं।

प्रकृति में नाइट्रोजन चक्र इसका संतुलन बनाए रखने में सहायता करता है।

सूक्ष्म जीवों के अध्ययन क्षेत्र में कुछ प्रमुख खोजों की व्याख्या करें।

वैज्ञानिकों के नाम वर्ष योगदान
रॉबर्ट हुक 1665 कॉर्क कोशिका, शुक्राणुओं तथा बैक्टीरिया को साधारण सूक्ष्मदर्शी की सहायता से देखा तथा उनको सूक्ष्म जंतुक  नाम दिया।
एडवर्ड जेनर 1798 चेचक के टीके की खोज।
लुई पाश्चर 1857 किण्वन एक  जैव रासायनिक प्रक्रम है।
रॉबर्ट कोच  1872 टयूबरकल बैसिलस ही यक्षमा ( टी॰ बी॰)के लिए जिम्मेदार हैं।  बीमारियों का रोगाणु सिद्धांत।
रॉबर्ट कोच 1876 बेसिल्स एंथ्रेसिस नामक जीवाणु की खोज।
अलेकजेंडर फ्लैमिंग 1929 पेनिसिलियम नोटाटम (एक प्रकार का कवर) से एंटीबायोटिक पेनिसिलिन का बनाना।

नाइट्रोजन का जैविक स्थिरीकरण वायुमंडलीय नाइट्रोजन स्थिरीकरण से किस प्रकार भिन्न है?

नाइट्रोजन का जैविक स्थिरीकरण- मृदा से कुछ ऐसे सूक्ष्म नाइट्रोजन स्थिरीकरण जीवाणु होते हैं जो वायु में उपस्थित नाइट्रोजन को सीधे नाइट्रेट में बदल देते हैं। इसी प्रकार फलीदार पौधों की जड़ों में भी कुछ ऐसी ग्रंथियाँ होती है जिनमें नाइट्रोजन स्थिरीकारक जीवाणु प्रतीत होते हैं।

वायुमंडलीय नाइट्रोजन स्थिरीकरण- वायुमंडल में तडित विसर्जन के समय नाइट्रोजन और ऑक्सीजन मिलकर नाइट्रेट अमल बनाते हैं जिससे अतत नाइट्रेट बनाते हैं, जिसे वायुमंडल नाइट्रोजन स्थिरीकरण कहते हैं।

Recent Posts

अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए – List of Gazetted Officer

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे की अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए - List…

1 month ago

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Paper – 2 Solved Question Paper

निर्देश : (प्र. 1-3) नीचे दिए गये प्रश्नों में, दो कथन S1 व S2 तथा…

7 months ago

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Solved Question Paper

1. रतनपुर के कलचुरिशासक पृथ्वी देव प्रथम के सम्बन्ध में निम्नलिखित में से कौन सा…

8 months ago

Haryana Group D Important Question Hindi

आज इस आर्टिकल में हम आपको Haryana Group D Important Question Hindi के बारे में…

8 months ago

HSSC Group D Allocation List – HSSC Group D Result Posting List

अगर आपका selection HSSC group D में हुआ है और आपको कौन सा पद और…

8 months ago

HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern – Haryana Group D

आज इस आर्टिकल में हम आपको HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern - Haryana…

8 months ago