ScienceStudy Material

एलुमिनियम को बॉक्साइट से कैसे निकाला जाता है?


Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

एलुमिनियम को बॉक्साइट से कैसे निकाला जाता है?, Aluminium kaise nikala jaata hai. Aluminium nikane ka trika, Aluminium kis prkaar nikala jaata hai

More Important Article

एलुमिनियम को बॉक्साइट से कैसे निकाला जाता है?

बॉक्साइट अयस्क का सांद्रण

बेयर प्रक्रम के द्वारा बॉक्साइट अयस्क में से अशुद्धियों को दूर किया जाता है। इस विधि में घिसे हुए अयस्क NaOH के साथ 150०C पर गर्म किया जाता है। इसमें सोडियम मेटा एलुमिनेट बनता है और बॉक्साइट में उपस्थित अघुलनशील अशुद्धियों को छानकर अलग कर लिया जाता है।

Al2O3 + 2NaOH → 2NaAlO2 + H2O

अब विलियन को HCL के साथ ठीक प्रकार से पिलाया जाता है और एल्यूमीनियम हाइड्रोक्साइड को अवक्षेप प्राप्त होता है। इसे छानकर अलग कर दिया जाता है.

NaAlO2 + H2O + HCl → Al(OH)3 + NaCl

अब एल्युमिनियम हाइड्रोक्साइड को पानी से धो लेते हैं तथा सुखा लेते हैं। इसे उच्च ताप पर गर्म करके एलुमिना (Al2O3) प्राप्त की जाती है।

2Al(OH)3 → Al2O3 + 3H2O

एलुमिना से एलुमिनियम प्राप्त करना

शुद्ध एल्युमीना में क्रायोलाइट (Na3AlF6)को मिश्रित करते हैं जो इसके गलनांक को कम कर देता है। इस मिश्रण को एक विशेष प्रकार के विद्युत अपघटन सेल में डाला जाता है। यह सेल लौह धातु का बना होता है तथा इसके अंदर कार्बन की एक परत लगी होती है, जो बैटरी के धनी इलेक्ट्रोड (कैथोड) से जुड़ी होती है।

कार्बन छड़ों की एक श्रृंखला एनोड के रूप में कार्य करती है। जब विधुत धारा गुजारी जाती है, तो प्रतिरोध के कारण मिश्रण पिघल जाता है इसके बाद अपघटित होता है। इसके परिणाम स्वरूप के तौर पर एलुमिनियम (गलित अवस्था में) प्राप्त होती है।

ऑक्सीजन गैस एनोड की कार्बन के साथ क्रिया करके कार्बन डाइओक्साइड गैस बनती है.

इस विधि से प्राप्त एलुमिनियम 99.5% शुद्ध होती है.


Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Related Articles

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close