G.KStudy Material

मध्य प्रदेश में शिक्षा, साक्षरता और विश्वविद्यालय

मध्य प्रदेश में शैक्षिक एवं सांस्कृतिक दृष्टि से पिछड़ा हुआ राज्य है। इसका मुख्य कारण आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों में शिक्षा का समुचित विकास में होना। वर्ष 1956 में अपनी स्थापना के समय मध्य प्रदेश में साक्षरता का प्रतिशत केवल 10% था जो बढ़कर 2001 में 63.7% हो गया है।

मध्य प्रदेश के विश्वविद्यालय

विश्वविद्यालय स्थापना वर्ष सम्बद्ध जिले
डॉ हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय सागर (केंद्रीय) 1946 सागर, बेतूल, छिंदवाड़ा, दमोह, मंडला, सिवनी, होशंगाबाद, नरसिंहपुर, पूर्वी निमाड़, बालाघाट,
विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन 1957 उज्जैन, रतलाम, मंदसौर, धार, झाबुआ, देवास, शाजापुर, पश्चिमी निमाड़, शिव, बालाघाट, (संबद्ध विश्वविद्यालय)
रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जबलपुर 1956 जबलपुर, राज्सव जिला (संबद्ध महाविद्यालय-44 )
देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर 1964 संबद्ध महाविद्यालय- 52
जीवाजी विश्वविद्यालय, ग्वालियर 1964 ग्वालियर, भिंड, मुरैना, शिवपूरी, गुना एवं दतिया (संबद्ध विश्वविद्यालय)
अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय रीवा 1968 रीवा, सतना, पन्ना,सीधी, शहडोल, छतरपुर, एवं टीकम गढ़, (संबद्ध विश्वविद्यालय)
बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल 1970 भोपाल,  सीहोर, विदिशा, रायसेन (संबद्ध विश्वविद्यालय-68)
जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर 1964 प्रदेश के सभी पंचायत राज्सव  जिले (संबद्ध महाविद्यालय -9)
इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय भोपाल 1985
माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय भोपाल 1991
महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय चित्रकूट 1991
बौद्ध विश्वविद्यालय सांची (रायसेन) 2012
राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय भोपाल 1988
राष्ट्रीय विधि संस्थान विश्वविद्यालय भोपाल 1998
महर्षि महेश योगी वैदिक विश्वविद्यालय कटनी 1995
महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वविद्यालय उज्जैन 2008
राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक (केंद्रीय) 2007
राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय ग्वालियर 2008
राजा मानसिंह तोमर संगीत एवं कला विश्वविद्यालय ग्वालियर 2009

मध्य प्रदेश के चिकित्सा महाविद्यालय और इंजीनियरिंग कॉलेज

नाम
स्थापना वर्ष
लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान ग्वालियर 2005
अटल बिहारी वाजपेई राष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान ग्वालियर 1997
एमिटी विश्वविद्यालय (निजी) ग्वालियर 2010
आईटीएम विश्वविद्यालय (निजी)  ग्वालियर 2011
इंदिरा जनजाति अमरकंटक (केंद्रीय) 2007
भोज मुक्त विश्वविद्यालय भोपाल 1991
मध्य प्रदेश पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर 2009
ए. के. एस. विश्वविद्यालय सतना (निजी) 2011
जेपी विश्वविद्यालय गुना (निजी) 2003
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ इनफार्मेशन डिजाइन एंड मैन्युफैक्चरिंग विश्वविद्यालय जबलपुर (डीम्ड) 2005

मध्य प्रदेश के चिकित्सा महाविद्यालय इंजीनियरिंग कॉलेज

नाम स्थापना वर्ष
गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय ग्वालियर 1946
महात्मा गांधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज इंदौर 1948
गांधी चिकित्सा महाविद्यालय भोपाल 1955
शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय जबलपुर 1955
एन एन  मेडिकल कॉलेज रीवा 1964
श्री गोविंदराम सेकसरिया इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी इंदौर (अशासकीय) 1952
माधव इंजीनियरिंग कॉलेज ग्वालियर (अशासकीय) 1957
गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज जबलपुर (शासकीय) 1947
गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज रीवा (शासकीय) 1964
मौलाना कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी भोपाल (शासकीय) 1960
इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, विदिशा 1959
गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज उज्जैन 1966
गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज सागर 1983
कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय जबलपुर 1947
शासकीय इंजीनियरिंग महाविद्यालय भोपाल 1990- 91
स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर भोपाल 2008
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी इंदौर 2009
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड रिसर्च सेंटर भोपाल 2008

MP के सबसे कम और सबसे ज्यादा साक्षरता वाले क्षेत्र

  • मध्य प्रदेश में ( 2011 के अनुसार) कुल साक्षरता 69.3 % है, जिसमें पुरुष साक्षरता 78.7प्रतिशत और महिला साक्षरता 59.2% है।
  • मध्य प्रदेश में कुल साक्षर व्यक्तियों की संख्या 4,28,51,169 है जिसमें पुरुष साक्षर 2,51,74,328 तथा महिला साक्षर 1,76,76,841 है।
  • मध्यप्रदेश में सर्वाधिक साक्षरता वाला जिला (2011 ) जबलपुर है जहां की साक्षरता 81.1% है । इसमें पुरुषों की साक्षरता 87.3% तथा महिलाओं मे 74.4 प्रतिशत है।
  • मध्यप्रदेश में सर्वाधिक महिला साक्षरता वाला जिला भोपाल (74.9%) पता सबसे कम महिला साक्षरता वाला जिला अलीराजपुर (30.3%) है।
  • राज्य में सर्वाधिक पुरुष साक्षरता वाला जिला इंदौर एवं जबलपुर (दोनों की साक्षरता दर 87.3% है) तथा सबसे कम पुरुष साक्षरता वाला जिला अलीराजपुर (43.6%) है।
  • मध्य प्रदेश की देश की साक्षरता में 22 वां स्थान है।
  • पुरुष साक्षरता (2011) की दृष्टि से मध्यप्रदेश का देश में 20 वां स्थान है।
  • महिला साक्षरता (2011)की दृष्टि से मध्यप्रदेश का देश में 21 वां स्थान है ।

MP के विश्वविद्यालय और महाविद्यालय

  • डॉ हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय सागर की स्थापना वर्ष 1946 में हुई थी इस विश्वविद्यालय के क्षेत्राधिकार में निबंध लिखित जिले आते हैं-  सागर, बेतूल, छिंदवाड़ा, दमोह, मंडला, होशरंगाबाद, नरसिंहपुर, पूर्वी निमाड़ (खंडवा) शिवनी एवं बालाघाट।
  • विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन की स्थापना वर्ष 1957 में हुई थी। इस विश्वविद्यालय के क्षेत्राधिकार में निम्नलिखित जिले आते हैं- उज्जैन, रतलाम, मंदसौर, धार, झाबुआ, देवास, शाजापुर, पश्चिमी निमाड़, एवं राजगढ़ इस विश्वविद्यालय के अंतर्गत 44 महाविद्यालय।
  • रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर की स्थापना वर्ष 1957 में की गई थी।  इस विश्वविद्यालय के अंतर्गत 53 महाविद्यालय है।
  • जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर की स्थापना वर्ष 1964 में हुई। इस विश्वविद्यालय के अंतर्गत 58 महाविद्यालय है, जो निम्नलिखित जिलों में स्थित है- ग्वालियर, भिंड, मुरैना, शिवपुरी, गुना व दतीया।
  • अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय रीवा की स्थापना वर्ष 1968 में की गई।  इस विश्वविद्यालय के अंतर्गत 47 महाविद्यालय हैं, जो रीवा, सतना, पन्ना, सीधी, शहडोल, छत छतरपुर, व टीकमगढ़ जिले में स्थित है।
  • बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल की स्थापना वर्ष 1970 में हुई, इसके अंतर्गत 68 महाविद्यालय (55 शासकीय एवं 13 अशासकीय) है जो भोपाल, सीहोर, विदिशा, व रायसेन जिले में स्थित है।
  • जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर की स्थापना 2 अक्टूबर 1964 को की गई थी इसके अंतर्गत 9 महाविद्यालय है।
  • मध्य प्रदेश में कुल 5 विदिशा महाविद्यालय ग्वालियर, इंदौर, भोपाल, जबलपुर रीवा में स्थित है।
  • राज्य में 7 शासकीय आयुर्वेदिक महाविद्यालय भोपाल, ग्वालियर, इंदौर, जबलपुर, उज्जैन रीवा एवं बुरहानपुर में है।
  • मध्य प्रदेश में कुल 25 अभियांत्रिकी महाविद्यालय है, जो इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर (जबलपुर में एक कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय भी है) रीवा, भोपाल, विदिशा, उज्जैन, सागर, भोपाल में स्थित है।
  • मध्य प्रदेश उच्च शिक्षा अनुदान आयोग का गठन 27 जुलाई 1973 को मध्यप्रदेश अधिनियम क्र 21, 1973 के अंतर्गत किया गया था। इस आयोग का उद्देश्य राज्य में विश्वविद्यालय शिक्षा का पर्यवेक्षण, सुधार और संबंधित अन्य विषयों की व्यवस्था करना है। आयोग का मुख्यालय भोपाल में है।
  • मध्य प्रदेश में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय के आठ अध्ययन केंद्र है, जो क्रमश  सतना, बेतूल, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, इंदौर, सागर तथा रीवा में है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close