G.KStudy Material

पलामू जिले से जुडी जानकारी


Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114
Contents show

पलामू का क्षेत्रफल वर्ग किलोमीटर में कितना था?

9,393 वर्ग किलोमीटर

पलामू का प्रमंडल कहां स्थित है?

पलामू

पलामू में अणुमंडल कहां कहां पर स्थित है?

डाल्टनगंज, हुसैनाबाद, लातेहार, छतरपुर।

पलामू का उपनाम क्या है?

मेदनी नगर

पलामू में कितने प्रखंड है और कहां कहां पर स्थित है?

पलामू में 20 प्रखंड है, विश्रामपुर, चैनपुर, छतरपुर, डाल्टनगंज, हैदर नगर, हरिहरगंज, हुसैनाबाद, लेस्लीगंज, मनातू, मोहम्मद गंज, नोडीहा, बाजार, नावा बाजार, पंडवा, पांडू, पाकी, पाटन, पिपरा, सतबरवा, तरहसी, उंटारी रोड।

2011 के अनुसार पलामू की जनसंख्या कितनी है?

19,39,869

पलामू की कुल जनसंख्या में से पुरुष की जनसंख्या  कितनी है?

10,06,302

पलामू की कुल जनसंख्या में से महिलाओं की जनसंख्या कितनी है?

9,33,567

पलामू का दशकीय वृद्धि दर कितना प्रतिशत है?

26.17 प्रतिशत

पलामू का  2011 में लिंगानुपात कितना  था?

1000:928

पलामू में कुल जनसंख्या घनत्व कितने प्रति वर्ग किलोमीटर है?

442

पलामू में कुल साक्षरता दर 2011 के अनुसार कितना प्रतिशत है?

63.63  प्रतिशत

पलामू में कुल साक्षरता 2011 के अनुसार  पुरुष साक्षरता दर कितनी प्रतिशत है?

74.30 प्रतिशत

पलामू में कुल साक्षरता 2011 के अनुसार महिला साक्षरता दर कितनी प्रतिशत है?

52.09 प्रतिशत

पलामू में कुल अनुसूचित जाति की जनसंख्या 2011 में कितनी थी?

5,36,382

पलामू की कुल अनुसूचित जाति की जनसंख्या 2011 के अनुसार पुरुष की जनसंख्या कितनी थी?

2,70,119

पलामू की कुल अनुसूची जाति की जनसंख्या 2011 के अनुसार महिला की जनसंख्या कितनी है?

2,59,263

पलामू की कुल अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या  2011 में कितनी थी?

92,577

कुल अनुसूचित जनजाति 2011 के अनुसार महिला की जनसंख्या कितनी थी?

88,631  

पलामू में विधानसभा क्षेत्र कहां कहां स्थित है?

मनिका, लतेहर, पनकी, डाल्टनगंज, विश्रामपुर, चतरपुर, हुसैनाबाद।

पलामू की संक्षेप में व्याख्या कीजिए?

  • पलामू झारखंड प्रांत का एक जिला है। इस जिले का मुख्यालय मोदीनगर है। पहले यह डाल्टनगंज के नाम से जाना जाता था लेकिन आनंद मार्ग के लक्ष्मण सिंह, वेदनाथ साहू, युगल किशोर सिंह, विश्वनाथ सिंह जैसे लोगों ने लंबे समय तक आंदोलन किया और शहर का नाम मोदीनगर किया गया।
  • पलामू डाल्टनगंज से 24 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में ओरिया नदी के तट पर बसा है।  देवपाल के नालंदा ताम्रपत्र में पाला मक्क का उल्लेख है।
  • पलामू में हुई उत्खनन से 2 किलो के अवशेष प्राप्त हुए हैं जिनमें एक नया किला तथा एक पुराना किला है।
  • पुराने किले से 12वीं शताब्दी की बुध की भूमि स्पर्श मुद्रा में राजाओं का राज पलामू में था। इस वर्ष के प्रथम शासक भागवत रहे थे। उनका शासन 1613 ईसवी में प्रारंभ हुआ। इस वर्ष के सबसे प्रतापी राजा मेदिनी राय थे।
  • 1772 ईसवी में ब्रिटिश शासकों द्वारा पलामू को ब्रिटिश राज में मिला लिया गया था।
  • पलामू का जन समुदाय मुख्यतः जनजातीय है। पलामू के जनजातीय समुदाय पवित्र वनों की पूजा करते हैं जिसे सरना पूजा कहते हैं। यह लोग करम वृक्ष को पवित्र मानते हैं और कर्मा पूजा के अवसर पर उसकी आराधना करते हैं।

पलामू में कौन सी मिट्टी मुख्य रूप से पाई जाती है?

 लेटराइट मिट्टी।

पलामू में मुख्य रूप से कौन-कौन सी फसलें उगाई जाती है?

मक्का, धान, गन्ना

पलामू में कौन-कौन सी नदियां बहती है?

भाईसापुर नदी, कोयल नदी, ततहा नदी, औरंगा नदी, सोन नदी

पलामू में वन्य जीव अभ्यारण्य और राष्ट्रीय उद्यान कौन-कौन से हैं?

बेतला राष्ट्रीय उद्यान, पलामू आश्रनिय, महुआ टाई अभयारण्य

पलामू में कौन-कौन से खनिज मुख्य रूप से पाए जाते हैं?

बॉक्साइट, फायर क्ले, डोलोमाइट, शीशा, टिन, चांदी, चूना पत्थर, ग्रेफाइट, सोना, कोयला।

पलामू में राष्ट्रीय राजमार्ग कौन कौन से हैं?

98, 75

पलामू में कौन-कौन सी जनजातियां पाई जाती है?

उराव, खरवार, कोरबा, चेरो, परहईया, किसान, बेगा, असुर, गोंड, हो।

पलामू में प्रमुख उद्योग कौन-कौन से हैं?

कास्टिक सोडा एवं केमिकल उद्योग, तसर रेशम उद्योग, जपला सीमेंट कारखाना (निजी क्षेत्र)।

पलामू में कौन-कौन से जल प्रपात है?

लोध जलप्रपात, गारु जलप्रपात, मिरचैया जलप्रपात,

जलकुंड और झरने कौन कौन से है पलामू में?

ततहा (गर्म पानी)

पलामू में कौन सा किला है?

पलामू का पुराना किला।

पलामू में प्रमुख संस्थान कौन सा हैं?

राष्ट्रीय तिलहन शोध एवं विकास संस्थान (डाल्टनगंज)।

पलामू में कौन सा हवाई अड्डा स्थित है?

छोटी हवाई पट्टी (डाल्टनगंज)।

पलामू में कौन सा पुस्तकालय स्थित है?

जिला केंद्रीय पुस्तकालय

विश्व में सबसे पहले शेर की जनगणना कब की गई थी?

पलामू के जंगलों में 1932 में की गई थी।

पलामू के प्रसिद्ध स्थल

पलामू राष्ट्रीय अभयारण्य

यहाँ पर राष्ट्रीय ख्याति का राष्ट्रीय अभयारण्य स्थित है। यह अभयारण्य लगभग 794.3 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। यह 1973 में बाघ परियोजना के अंतर्गत गठित प्रथम लोग बाघ आरक्षों में से एक है। इस अभयारण्य को झारखंड का सबसे बड़ा अभयारण्य का दर्जा प्राप्त है। पलामू के राष्ट्रीय अभयारण्य के मुख्य आकर्षणों में बाघ, हाथी, तेंदुआ, गौर, सांभर और चीतल आदि का।

बेताल राष्ट्रीय पार्क

झारखंड के पलामू में स्थित बेताल एक राष्ट्रीय पार्क है। बेताल नेशनल पार्क में हिरणों का समूह देखा जा सकता है। यह राष्ट्रीय पार्क 231.67 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। इस पार्क की स्थापना सितंबर 1986 में की गई थी। यहां विश्व में पहली शेर गणना में 1932 में की गई थी। वर्तमान में 1973 ईसवी से यहां बाघ परियोजना चल रही है। इस नेशनल पार्क में शेर, हाथी, तेंदुआ, जंगली, सूअर, चिता, बंदर, मोर, भालू आदि जीवो को देखा जा सकता है।

विश्रामपुर

गढ़वा से 16 किलोमीटर उत्तर-पूर्व में विश्रामपुर स्थित है यहां पलामू के राजा जय किशन राय के भाई नरपत राय द्वारा संस्कार से 1750 ईसवी में निर्मित एक गढ़ है। वर्तमान में यह गढ़ काफी जिरण हालत है।

शाहपुर

डाल्टेनगंज शहर से ठीक सामने शाहपुर स्थित है। 18वीं शताब्दी में पलामू के राजा गोपाल राय ने इस स्थल पर एक किले का निर्माण कार्य प्रारंभ किया, परंतु यह किला अधूरा है।

लोध जलप्रपात

महुआ डांड प्रखंड मुख्यालय से लगभग 10 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में औरसापाट के निकट झारखंड का सबसे ऊंचा जलप्रपात माना जाता है जिसमें तीन ओर से पानी गिरता है। इसकी ऊंचाई 465 फुट है। यह बहुत ही सुखदाई एवं आकर्षक स्थल है।

मिरचइया जलप्रपात

गारू प्रखंड जलप्रपात मुख्यालय से करीब 3 किलोमीटर दूर स्थित मिरचइया जलप्रपात का अपना अलग आकर्षण है। यह 100 फुट ऊंचे से गिरता है। इसका पानी डिस्टिल्ड वाटर की तरह साफ सुथरा और निर्मल रहता है। ईसाइयों के पर्व बड़ा दिन के अवसर पर पलामू वासी यहां पिकनिक मनाने आते हैं।

कांति जलप्रपात

लातेहार से पूर्व की ओर लगभग 23 किलोमीटर दूर झारिया घाटी में प्रकृति प्रकृति की गोद में छुपा कांति जलप्रपात आज भी कितने ही पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है।  पर्यटक भी पक्की सड़क छोड़कर 2 किलोमीटर दूर इस दिल को देखने के लिए खड़े होकर यहां पहुंच जाते हैं।

ततहा नदी

लातेहार से 15 किलोमीटर पश्चिमोत्तर में जंगल और पहाड़ियों से घिरी ततहा नदी, एक अद्भुत दर्शनीय स्थल है। यहां तक की यात्रा पैदल ही संभव है क्योंकि रास्ता ऐसा नहीं है कि जिस पर कोई वाहन चल सके। इसका सौन्दर्य आज तक वैसा ही है जैसा पहले था। राजस्थान में रहने पर भी इस नदी तक पैदल ही पर्यटक इसलिए खींचे चले आते हैं क्योंकि इस नदी का पानी बारहमासी गरम रहता है, कहा जाता है कि इस नदी में गंधक है।  इसी कारण इसका पानी गर्म है।

पलामू का किला

औरंगा और कोयल नदी के संगम स्थल केचकी पर स्थित है। इसका शिलान्यास राजा मानसिंह ने विस्तार राजा भगवंत राय ने और किले का मरम्मत राजा मेदिनी राय ने करवाई थी।

कुंड जलप्रपात

जिले के हुसैनाबाद प्रखंड के घाघरा गांव के निकट कुंड नदी पर कुंड जलप्रपात है जो 39 फूट (12 मीटर) की ऊंचाई से गिरता है। इस पर 5 मेगावाट का पन बिजलीघर ताकत करने की योजना बनी है।

आर्टिजन वेल

डाल्टेनगंज शहर से 15 किलोमीटर दूरी पर राजहरा कोयला खान के निकट सदावह नदी के पूर्वी तट पर प्रवाह गांव में 1943 में बंगाल कोल कंपनी द्वारा एक आर्टिजन वेल (सदाबहार कुआं) खोदा गया था। उसी समय दर्शाए गए पांच घेरे वाले एक नलकूप के माध्यम से पूरे वेग के साथ पानी आज तक स्वत बहता चला आ रहा है।  गांव के लोग इसी नलकूप का पानी पीते हैं और भूमि सिंचित करते हैं। शेष बचा पानी सदावह नदी में जा गिरता है।

नगर

पलामू जिले के नगर कस्बे में वंशीधर का सुप्रसिद्ध मंदिर है। वंशीधर की मूर्ति अष्टधातु की है जिसमें सोने की मात्रा अधिक है। महापंडित राहुल सांकृत्यायन ने इस मूर्ति का संबंध मराठों से बताया है।

पलामू व्याघ्र आरक्षित वन

पलामू व्याघ्र आरक्षित वन झारखंड के छोटा नागपुर पठार के लातेहार जिले में स्थित है। पलामू व्याघ्र आरक्षित वन 1026 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। जिसमें पलामू वन्यजीव अभयारण्य का क्षेत्रफल 980 वर्ग किलोमीटर है। अभयारण्य  के कोर क्षेत्र 226 वर्ग किलोमीटर को बेतला राष्ट्रीय उद्यान के रूप में अधिसूचित किया गया है।

पलामू – धर्म आधारित जनगणना 2011

धर्म कुल जनसंख्या प्रतिशत
हिंदू 1683169 86.77
मुस्लिम 238295 12.28
ईसाई 6164 0.32
सिख 734 0.04
बौद्ध 188 0.01
जैन 284 0.001
अन्य 5681 0.29
अवर्गीकृत 5354   0.28

More Important Article


Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close