G.KStudy Material

उत्तर प्रदेश के लोकगीत


Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

उत्तर प्रदेश के लोकगीत, up lok geet in hindi, bhojpuri lokgeet, hindi lok geet, dehati lok geet, dehati lok geet up, rajasthani lok geet, hindi lok geet list, bundelkhandi lokgeet

More Important Article

उत्तर प्रदेश के लोकगीत

देश की प्राचीनतम लोक संस्कृतियों में से एक राज्य की लोक संस्कृति के होने के कारण यहां के लोकगीतों का इतिहास बहुत प्राचीन है। राज्य में हिंदी तथा उसकी सहायक भाषाओं में विशेष अवसरों पर जैक्से मुगलों एवं राजपूतों में होने वाले युद्ध के समय, प्रमुख मेलों तथा उत्सवों के अवसर पर लोकगीत गाने की स्वस्थ परंपरा प्रचलित है।

राज्य के अत्यंत लोकप्रिय लोकगीत- बिरहा, कजरी, चेती, पूरनभगत, आल्हा, रसिया, भर्तहरि आदि है।

लोक गीतों का लोक नृत्यों से घनिष्ठ संबंध है। जिस कारण अनेक प्रकार के नृत्य गीत सुनने में आते हैं। कुछ प्रमुख नृत्य गीत है- जौनपुर के कारों का चौरसिया घड़या नृत्य आदि। राज्य के कुछ क्षेत्रों जैसे जौनसार, बाबर तथा बुंदेलखंड आदि क्षेत्रों के लोकगीतों में वहां की जनजातियां तथा क्षेत्रीय विषमताओं की संपष्ट झलक मिलती है।

लोकगीतों के अंतर्गत गाए जाने वाले संस्कार गीतों में विवाह गीत ,सोहर गीत, सारे धार्मिक गीतों तथा मेला गीतों में लोक संस्कृति की विशेष जलक देखने को मिलती है। राज्य में लोकगीत व लोकनृत्य गीत अवधी, भोजपुरी, बुंदेल खंडी, कन्नौज तथा क्षेत्र के विभिन्न शैलियों में उपलब्ध है।

इन लोकगीतों तथा लोक नृत्य गीतों के प्रभावी प्रस्तुतिकरण में प्रयुक्त विभिन्न लोक वाद्यों, यथा, ढोल, नगाड़ा, रमतूला, रणसिंहगा, केकड़ी, ढोलक, चिंमटा तथा करताल, बेला चमेली आदि से वातावरण तथा प्रस्तुति में चार चांद लग जाते हैं।


Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close