ScienceStudy Material

वायु तथा जल का प्रदूषण प्रश्नोत्तरी


Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

वायु प्रदूषण के कारण और हानिकारक प्रभाव

वायु प्रदूषण के कारण

  1. उद्योगों से निकली जहरीली गैसों, जलवाष्प, दुआ, रोगाणु और दुर्गुणों से वायु प्रदूषण होता है।
  2. घरों और वाहनों में जीवाश्म इन दिनों के जलने से उत्पन्न कार्बन मोनोऑक्साइड, हाइड्रोकार्बन, NO2, CO2, आदि से वायु प्रदूषित होती।
  3. वनों की कटाई से वायु सदन के कार्य में बाधा आती है जिससे वायु प्रदूषण को बढ़ावा मिलता है।
  4.   खनन के लिए किए गए विस्फोट से वातावरण में धुआँ , रासायनिक गुण और धूल कण मिलने से वायु प्रदूषित होता है।
  5. तंबाकू का धुआं, ताप विद्युत घरों में जलाए जाने वाले कोयले, परमाणु विस्फोट, ज्वालामुखी, प्राकृतिक आपदाओं, विकीरर्णों से कृषि अपशिष्ट ओके जलने से भी वायु प्रदूषण होता है।
  6. खुले में फेंके कचरे से उत्पन्न दुर्गध, वातानुकूलित साधनों से निकली CFC , परमाणु भटियों से निकलती हुई विकिरणों से वायु प्रदूषण में वृद्धि होती है।

वायु प्रदूषण के विपरीत प्रभाव

  1. मानव स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। अनेकों रोग, जैसे आंख में जलन, त्वचा विकार, एलर्जी श्वास रोग आदि हो जाते हैं ।
  2. ओजोन परत का ह्रास होने से त्वचा कैंसर होने का वह रहता है।
  3. वायु प्रदूषण अम्लीय वर्षा के कारण होता।
  4. वायु प्रदूषण से वनस्पति पौधे सूखने लगते हैं।
  5. वायु प्रदूषण से धूम- कोहरा फैलता है जिससे जीवो पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

विश्व तापमान में हो रही भयावह वृद्धि से कौन-कौन सी समस्याएं उत्पन्न हो सकती है?  वर्णन करो।

  1. ध्रुवों पर, पहाड़ों की चोटियों और ग्लेशियर की प्रमुख तापमान पाकर पिघल जाएगी।  बाढ़ से पृथ्वी का अधिकतर भाग जलमग्न हो जाएगा।
  2. इस तापमान वृद्धि से  पवनों के बहाव में भारी परिवर्तन आने से वर्षा का वितरण प्रभावित होगा, जिससे बाढ़, सूखा और दावनाल के खतरे बढ़ जाएंगे।
  3. समुद्र के जल का तापमान बढ़ने से संबंधित संपदा नष्ट हो जाएगी।
  4. वातावरण में वृद्धि की सीटों से संख्या बढ़ जाएगी, सूक्ष्म जीव नष्ट हो जाएंगे, कृषि प्रभावित होगी, बीमारियों का प्रकोप बढ़ जाएगा और प्राकृतिक संतुलन बिगड़ने की प्रबल संभावनाएं हैं।
  5. बढ़ते तापमान से जल स्रोत सूख आएंगे।  चारों तरफ सूखा और आकार होगा। वनस्पति नष्ट हो जाएगी।
  6. जल के अभाव में रेगिस्तान बढ़ जाएगा।

गंगा नदी के जल प्रदूषण पर नोट लिखें।

भारत की पवित्र नदी गंगा किस समय बहुत स्वच्छ थी। आवाछित पदार्थों, जैसे वाहित मल, कूड़ा- कचरा, उद्योगों का विषैला अपशिष्ट , अपमारज्क, विषैले रसायन, मृत शरीर आदि के लगातार मिलते रहने से यह नदी दिन -प्रतिदिन प्रदूषित होती जा रही है। इसे शुद्ध करने के लिए नैसर्गिक प्रक्रम पर्याप्त नहीं है, क्योंकि इसमें बहुत बड़ी मात्रा में अपशिष्ट पदार्थों एवं रसायनों को मिलाया जा रहा है, जो सूक्ष्म जीवों द्वारा आयोजित नहीं हो सकते, कुछ स्थानों पर गंगा के पानी में अत्यधिक प्रदूषण है।उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में किस नदी का सर्वाधिक दूषित फैलाव है।

गंगा नदी को स्वच्छ करने के लिए भारत सरकार ने गंगा कार्य योजना प्रारंभ की। इस परियोजना के तहत गंगा नदी के किनारे स्थित इन सभी नगरों में वाहित मल को उपचारित किया जाना है अर्थात  वाहित मल को नदी के पानी में मिलाने से उपचारित करें आने रहे थे बनाना परम आवश्यक है। उद्योगिक विशिष्ट को भी नदी में मिलाने से पूर्व उपचारित किया जाना चाहिए। इस योजना के अंतर्गत गंगा नदी के किनारे वृक्षों को लगाने का प्रावधान है।  इन पौधों से क्षेत्र की सुंदरता बढ़ने के अतिरिक्त पर्यावरण को स्वच्छ रखने में भी मदद मिलने की पूर्ण आशा है। इसके अतिरिक्त, इसके अतिरिक्त अनेक स्थानों पर नदी के किनारे जमा गाद को हटाने की महत्वाकांक्षी प्रक्रिया जारी है। इसके पानी के मुक्त एवं निर्माण बाहों में मदद है के साथ प्रदूषण से भी मुक्ति मिलेगी और एक बार पुनः गंगा अपनी परंपरागत गरिमा हासिल कर पाएगी।


More Important Article


Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/functions/media-functions.php on line 114

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Warning: Trying to access array offset on value of type bool in /www/wwwroot/examvictory.com/html/wp-content/themes/jannah/framework/classes/class-tielabs-filters.php on line 340

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close