ScienceStudy Material

बल तथा दाब से जुड़े प्रश्न उत्तर

Contents show

धक्के या खिंचाव के द्वारा वस्तुओं की गति की अवस्था में परिवर्तन के दो-दो उदाहरण दीजिए?

धक्के के उदाहरण- मैदान में बड़ी गेंद पर धक्का लगा कर उसको गतिमान करना।

बंद दरवाजे को खींचकर खोलना।

खींचने के उदाहरण- मेज़की दराज को खोलना।

कार को धक्का लगा कर उसे गतिमान करना।

ऐसे दो उदाहरण दीजिए जीन में लगाए गए बल द्वारा वस्तु की आकृति में परिवर्तन हो जाए?

  •  गुंथे आटे को बेल कर रोटियां बनाना।
  • हवा से भरे गुब्बारे को दोनों हथेलियों से दबाना।

एक ओजौर बनाते समय कोई लोहार लोहे के गर्म टुकड़े को हथोड़े से पीटता है। पीटने के कारण लगने वाला बल लोहे के टुकड़े को किस प्रकार प्रभावित करता है?

लोहे के गर्म टुकड़े पर थोड़े का वार (बल) लोहे के टुकड़े की आकृति को बदलकर वाछींत आकार के उपकरण में बदल देता है। अर्थात बल वस्तु की आकृति को बदल देता है।

एक फुलाए गए गुब्बारे को संशिलष्ट कपड़े के टुकड़े से रगड़ कर एक दीवार पर दबाया गया।  यह देखा गया कि गुब्बारा दीवार से चिपक जाता है। दीवार तथा गुब्बारे के बीच आकर्षण के लिए उत्तरदाई बल का नाम बताइए।

स्थिर वैद्युत बल।

आप अपने हाथ में पानी से भरी एक प्लास्टिक की बाल्टी लटकाए हुए हैं। बाल्टी पर लगने वाले बलों का नाम बताइए।  विचार विमर्श कीजिए कि बलटी पर लगने वाले बलों द्वारा इसकी गति की अवस्था में परिवर्तन क्यों नहीं होता है?

पानी से भरी प्लास्टिक की बाल्टी पर पेशीय व गुरुत्विय बल कार्य कर रहे हैं। इन बलों से गति की अवस्था में परिवर्तन नहीं आता क्योंकि दोनों बल बराबर परिमाण में वह विपरीत दिशा में कार्य कर रहे हैं। गुरुत्व बल बाल्टी को नीचे की ओर खींच रहा है जबकि पेशीय बल बाल्टी को इसके विपरीत ऊपर की ओर खींच रहा है।  यदि गुरुत्वीय बल अधिक है परिमाण वाला हो तो पानी से भरी बाल्टी नीचे की ओर अधिक खींची जाती है जिसे अधिक पेशीय बल लगाकर उसे बराबर करने का प्रयास किया जाता है अन्यथा शरीर गुरुत्वीय बल को थोड़ा झुककर इसके परिमाण के प्रभाव को संतुलित करने का प्रयास करता है।

किसी उपग्रह को इसकी कक्षा में प्रमोचित करने के लिए किसी रॉकेट को ऊपर की ओर प्र्क्षेपित किया गया।  प्रमोचन मंत्र को छोड़नेके तुरंत बाद रॉकेट पर लगने वाले दो बलों के नाम बताइए।

गुरुत्वीय बल, घर्षण बल।


More Important Article

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close