G.K

छत्तीसगढ़ की जनजातियाँ की जानकारी

जनजातीय संस्कृति छत्तीसगढ़ की पहचान है। यहां की कुल जनसंख्या का 31.8 प्रतिशत जनजातीय संस्कृति से संबंधित है।

गोंड

  • गोंड जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा आदिवासी समुदाय है
  • यह छत्तीसगढ़ के दक्षिणी पर्वतीय क्षेत्रों में निवास करते हैं।
  • इनका प्रमुख व्यवसाय कृषि है। ये मजदूरी तथा शिकार आदि में भी काफी रुचि प्रदर्शित करते हैं।
  • ये इंडो-आर्यन भाषा परिवार की द्रविण भाषा अंतर्गत गोंडी एवं डोरली बोली बोलते हैं।
  • इस जनजाति के प्रमुख देवता दुल्हा देव है। बड़ा देव, नागदेव, नारायण देवा आदि इनके अन्य देवता है।
  • इसमें वधू शुल्क की प्रथा है तथा ये विधवा विवाह एवं बहु विवाह प्रथा को मानते हैं।
  • इनमें विवाह के अनेक प्रकारों में दुग्ध-लौटावा प्रमुख है।
  • छत्तीसगढ़ कवर्धा जिले में गोंड जनजाति की रियासत भी रही है।
  • गोंड जनजाति अपनी विशिष्ट घोटुल प्रथा के कारण विश्वभर में प्रसिद्ध है।
  • मडई मेला व मेघनाद त्यौहार आदि गोंड संस्कृति की विशिष्टता है।

कोरबा

  • पहाड़ों में रहने वाले कोरबा पहाड़ी कोरबा तथा मैदानी क्षेत्रों में रहने वाले दिहारिया कोरबा कहलाते हैं।
  • पहाड़ी कोरबा जनजाति रूढ़ीवादी व एकांत प्रिय होते हैं।
  • ये जमीन बदल-बदल कृषि करते हैं।
  • ये मंदिरा प्रिय होते हैं।
  • यह जमीन बदल-बदल कृषि  करते हैं।
  • इनमें विवाह कन्या-मूल्य चुकाने पर होता है।
  • इनका मुख्य पर्व करमा है।
  • कोरबा जनजाति सर्प पूजा,  सूर्य पूजा व चंडी पूजा करते हैं।
  • इनकी अपनी पंचायतें होती हैं जिनका नाम मैयारी है।

माड़िया

  • इसकी उत्पत्ति प्रोटो ऑस्ट्रेलायड नृजाती प्रजाति से हुई मानी जाती है।
  • पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले माड़िया दुनिया की सभ्यता से पूर्णत: विलग है। इनमें अनेक अबूझमाड़ की पहाड़ियों में रहते हैं। इन्हें अबूझमाड़िया भी कहते हैं।
  • मड़ियों का एक वर्ग गौर माड़िया कहलाता है, क्योंकि ये लोग जंगली भैंसा के सींग की बनी टोपी पहनते हैं।
  • यह मुख्यतः झूम खेती करते हैं। इनकी स्थानांतरितक कृषि को दिघा, पेड़ा, व दाही कहा जाता है।
  • इनकी प्रमुख देवी भूमि माता है।

मुड़िया

  • ये मोटे अनाजों की खेती करते हैं तथा जमीन बदल-बदल कर खेती करना इनकी प्रमुख विशेषता है-
  • इनकी सर्वाधिक मौलिक विशेषता घोटुल प्रथा है।
  • नृत्य-गायन और मदिरा पान करना इनकी संस्कृति की प्रमुख विशेषता है।

गाड़ाबा या गड़वा

  • यह मुंडारी या कॉलेरियन समूह की जनजाति है।
  • ये बोझा ढोकर तथा कृषि द्वारा अपना जीवनयापन करते हैं।
  • इनकी प्रमुख देवी बूढी देवी या ठकुरानी माता है,

आदिवासी जनजातियों में विवाह पद्धतिया

जनजातियों में विवाह का बड़ा सामाजिक महत्व है। विवाह की अनेक पद्धतियां उनके जीवन दर्शन को बताती है। इनमें एकविवाह तथा बहुविवाह पद्धतियाँ प्रचलित है। बहुविवाह में व्यक्ति एक से अधिक पत्नियां रख सकता है। छत्तीसगढ़ के आदिवासियों में क्रय विवाह, सेवा विवाह, गंधर्व विवाह, हठ विवाह, विनीमय विवाह आदि पद्धतियां प्रचलित है।

क्रय  विवाह – विवाह की इस पद्धति में कन्या मूल्य चुकाना पड़ता है। छत्तीसगढ़ के बिलासपुर संभाग में खेखार आदिवासियों में कन्या मूल्य चुकाने की प्रथा है। यह मूल्य परिस्तिथियों के अनुसार तय किया जाता है। इस पद्धति में विधवा से विवाह करने पर मूल्य कम देना पड़ता है। यदि अगर कोई विधुर विवाह करना चाहता है तो उसे अधिक मूल्य देना पड़ता है। परधान जनजाति में विधुर विवाह पद्धति में सामान्य राशि से दोगुनी देनी पड़ती है। उराव जनजाति में पति के मर जाने पर उससे विवाह करने पर 20% मूल्य कम देना पड़ता है।

सेवा विवाह – यह पद्धति अधिकतर गोंड जनजाति में है। यदि कोई लड़का कन्या मूल्य देने में असमर्थ है तो वह जिस कन्या को चाहता है, उसके घर जाकर उसके परिवारजनों की सेवा करता है। वह अपनी सेवा से लड़की के माता-पिता को प्रसंन करता है। तब उसका विवाह उसका विवाह उस लड़की से किया जाता है। बस्तर के माडिया हलवा तथा अब्बूझमाड़ियों में यह प्रथा है। गाडों में इसे चरघिया कहा जाता है।

अपरहण विवाह – छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र में यह विवाह पद्धति प्रचलित है। यद्यपि यह पद्धति दंडनीय है, किंतु फिर भी चोरी से यह कार्य हो रहा हो। इस पद्धति में लड़का अपने कुछ साथियों सहित ऐसे स्थान पर खड़ा हो जाता है जहां से लड़की आती जाती हो। जब लड़की उस रास्ते से निकलती है तो वह लड़का उसे गाँव उठा लाता है वहां पर वह लड़की के ऊपर पानी में हल्दी घोलकर डालता है और वह लड़की उसकी पत्नी बन जाती है।

गन्धर्व विवाह – इस विवाह पद्धति में वर एवं कन्या अपने हिंसा एवं पसंद से विवाह कर लेते हैं।  घोड़ों की उपजाति प्रजा में यह पद्धति बहुत प्रचलित है। प्रदा लोगों में यदि कोई युवती विवाह पूर्व गर्भवती हो जाती है तो उसका विवाह संबंधित युवक से विधिपूर्वक कर दिया जाता है।  यदि किसी प्रजा युवती का संबंध किसी अन्य आदिवासी युवक से भी हो जाता है, तो उसे उसी युवक से विवाह की स्वतंत्रता होती है।

हठ विवाह-  इस विवाह पद्धति में लड़का या लड़की अपनी प्रेमिका या प्रेमी के घर में जबरदस्ती घुस जाते हैं। यदि डराने धमकाने पर भी वह नहीं मानते, तो उनका विवाह कर दिया जाता है।

विनीमय विवाह – यदि 2 परिवार बिना वधू मूल्य चूकाए आपस में लड़कियों का आदान-प्रदान कर लेते हैं, तो वह विनिमय विवाह कहलाता है।

जनजातीय उत्सव –  जनजातीय समाज ने परंपरा का स्थान सर्वोपरि है। जनजातीय नृत्य, उत्सव एवं मेले सभी परंपराओं की देन है। इनका विवरण नीचे दिया जा रहा है।

हॉट (मडई)- गोडों की सभी उप जातियों में मडई का विशेष महत्व है। यह आयोजन बस्तर मंडल के वनांचल पर स्थित सभी गांवों और कस्बों में जनवरी से अप्रैल तक किया जाता है। इसके माध्यम से वे अपने दूरस्थ क्षेत्रों में स्थित रिश्तेदारों से भेंट कर लेते हैं। बस्तर जिले की नारायणपुर तहसील की मड़ई बहुत प्रसिद्ध है। पहले यह मडई 10-12 दिन चलती थी। इस मड़ई का स्थान कोड़ागांव से लगभग 50 किलोमीटर दूर है। यह तीन-चार दिन तक मड़ई का आयोजन होता है। इसमें सम्मिलित होने के लिए माडिया अपने परिवारों सहित एक माह-पूर्व ही रवाना हो जाते हैं। ताकि मडई के मुहूर्त वाले दिन नारायणपुर पहुंच सके। मडई के दिन वृक्ष के नीचे ढोल-ढमाके, देवीगीत और घूघुरुओं की ध्वनि के साथ देवी के समक्ष एक बकरे की बलि चढ़ाई जाती है। इसके बाद मडई में फेरी के लिए इनका हुजूम निकल पड़ता है। इसी समय आदिवासियों के देव (आंगादेव) को अपने कंधे पर उठाकर आदिवासी भक्ति विभोर हो जाते हैं। मडई के मुख्य दिन रात्रि में एक खुले मैदान में एबालतोर-मुख्य नृत्य का आयोजन होता है।

जनजातीय संस्थाएं

जनजातीय समाज में परंपरागत संस्थाओं का विशेष महत्व है, इनकी सामाजिक संस्थाएं निम्नलिखित है

  1. पंचायत
  2. घोटूल
  3. पुरोहित या सिरता

पंचायत- गोंड़ों में पंचायत व्यवस्था प्राचीन परंपरा है। साधारणतया पंचायत द्वारा विभिन्न कार्य निपटाए जाते हैं। पंचायत का निर्णय सभी को मान्य होता है। गोड़ो में चोरी, मारपीट, धोखाधड़ी इत्यादि अपराधों के लिए विशेष सामाजिक दंड नहीं है।

घोटूल या युवागृह -यह प्रथा केवल बस्तर में पाई जाती है। गोंड जनजाति में घोटुल नामक संस्था का विशेष महत्व है। यह एक सामूहिक घर या शयनागर होता है जहां मुरिया गोंड़ों के अविवाहिता युवक युवतियां सोते हैं। यहां ये लोग केवल श्यान ही नहीं करते अपितु सामाजिक रीति-रिवाज, सांस्कृतिक नृत्यगान एवं समाज के अन्य उत्तरदायित्व निभाने की भी शिक्षा लेते हैं। घोटूल का सरदार सलाऊ कहलाता है। मजूमदार का विचार है यह संस्थाएं गोंड युवक और युवतियों को परंपरागत रीति से  कामशास्त्र की सैद्धांतिक एवं व्यवहारिक शिक्षा देते हैं जिसमें वैवाहिक बंधन में बंधने से पूर्व वे पूरी तरह कामकला से परिचित हो जायें और जीवन में पूरी तरह आनंद उठा सके। इस संस्था में युवक-युवतियां एक-दूसरे के प्रति आकर्षित होकर अपने जोड़े बनाते हैं। इस प्रतिष्ठान में वास्तव में केवल आनंद आमोद या उल्लास का वातावरण रहता है जिसमें विवाहित स्त्री-पुरुषों का प्रवेश वर्जित होता है। यहाँ के युवकों को चोलिक तथा युवतियों को योतियारीन कहा जाता है। युवक-युवतियों को घोटूल के नियमों का पालन करना पड़ता है। दंतकथा के आधार पर घोटूल की स्थापना मुरिया जनजाति के वीर तेजस्वी पुरुष लिगोवेन देव ने की थी। इसलिए घोटूल में लिगोवेन देव का देव स्थान माना जाता है। उसकी छत्रछाया में रहने से बच्चे उसी के समान तेजस्वी एवं वीर बनते हैं।

हस्तशिल्प

जनजातीय हस्तशिल्प भी अत्युत्तम है बस्तर तथा अन्य स्थानों पर नावा उत्सव के समय बच्चों के खिलौनों में चक्की, बैल, घोड़े, मिट्टी के पहियों वाली बैलगाड़ी, भोजन के बर्तन, चूल्हा आदि बनाए जाते हैं। मुड़िया लोग खिलौनों का उपयोग पर्व नृत्यों के समय करते हैं। बांस की लंबी कोठी पर लकड़ी के बने पशु-पक्षी या बंदर या छिपकली एक सिलसिले से लगाकर उन्हें एक रस्सी से बांध दिया जाता है। रस्सी खींचने से वे ऊपर नीचे चढ़ते-उतरते दिखाई देते हैं।

गुदना गुदवाना-  गुदने गुदवाना प्राय: सभी आदिवासियों में प्रचलित है। स्त्रियाँ बह्रा स्त्रियों अंगो पर अधिक गुदने गुदवाती है। बाहों, हाथों, कंधों, गालों, पावों, पंजों एवं छातियों पर गुदने गुदवाती है।

  • गोंडों में सर्वाधिक प्रताप नरेश संग्राम शाह व दलपत शाह थे। दलपत शाह की पत्नी रानी दुर्गावती थी।
  • बैगा लोगों के लिए साल वृक्ष पूजनीय है, क्योंकि साल वृक्ष में उनका बड़ादेव रहता है।
  • जनजातियों की स्थानान्तरी कृषि को स्थानीय भाषा में दिप्पी कृषि पेंडा कृषि कहते हैं।
  • हलवा जनजाति में साक्षरता का प्रतिशत है, अन्य जनजातियों की अपेक्षा अधिक है।
  • हल्बी बोली बस्तर राज्य की सरकारी बोली थी।
  • प्रदेश की कुल जनजातियों संख्या के आधार पर बस्तर प्रथम स्थान पर है।
  • संपूर्ण भारत में आदिवासी बहुल जनसंख्या वाला प्रथम राज्य छत्तीसगढ़ है।
  • छत्तीसगढ़ में बैगा जनजाति कौरवों को अपना पूर्वज मानती है।

More Important Article

Recent Posts

अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए – List of Gazetted Officer

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे की अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए - List…

4 weeks ago

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Paper – 2 Solved Question Paper

निर्देश : (प्र. 1-3) नीचे दिए गये प्रश्नों में, दो कथन S1 व S2 तथा…

7 months ago

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Solved Question Paper

1. रतनपुर के कलचुरिशासक पृथ्वी देव प्रथम के सम्बन्ध में निम्नलिखित में से कौन सा…

8 months ago

Haryana Group D Important Question Hindi

आज इस आर्टिकल में हम आपको Haryana Group D Important Question Hindi के बारे में…

8 months ago

HSSC Group D Allocation List – HSSC Group D Result Posting List

अगर आपका selection HSSC group D में हुआ है और आपको कौन सा पद और…

8 months ago

HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern – Haryana Group D

आज इस आर्टिकल में हम आपको HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern - Haryana…

8 months ago