ScienceStudy Material

किशोरावस्था से जुड़े Important Question

Contents show

किशोरावस्था व यौवनारंभ को परिभाषित करें?

  • किशोरावस्था- जीवन काल की वह अवधि जब शरीर में जनन परिपक्वता आ जाए किशोर अवस्था कहलाती है।  किशोर अवस्था लगभग 11 वर्ष की आयु से प्रारंभ होकर 18 से 19 वर्ष की आयु तक रहती है जबकि लड़कियों में इस अवस्था का प्रारंभ लड़कों की अपेक्षा 1 या 2 वर्ष पूरा हो जाता है।
  • यौवनारंभ – किशोरावस्था के दौरान जब जनन क्षमता का विकास हो जाए इसे यौव नरंभ  कहते हैं। किशोर की जन्म परिपक्वता के साथ ही यौवनारंभ समाप्त हो जाता है।

यौवनारंभ में लड़के व लड़कियों की वृद्धि के बारे में लिखें।

यौवनारंभ का सबसे अधिक दिखाई देने वाला परिवर्तन किशोर की लंबाई में एकाएक वृद्धि होना है। हाथों व पैरों की अस्थियों की लंबाई तेजी से बढ़ने के कारण पूरे शरीर की लंबाई बढ़ जाती है। प्रारंभ में लड़कों की तुलना में लड़कियों की लंबाई अधिक तेजी से बढ़ती है परंतु लगभग 18 वर्ष की आयु तक दोनों अपनी अधिकतम लंबाई पा लेते हैं। यौवनारंभ के बाद लंबाई धीरे-धीरे बढ़ती है।

क्या शरीर की वृद्धि व विकास में संतुलित आहार का महत्व है?

सामान्य तौर पर किसी किशोर की लंबाई या अन्य शारीरिक लक्षण उसके माता-पिता से प्राप्त जीन पर निर्भर करते हैं परंतु संतुलित आहार लेने पर शरीर की अस्थियां, पेशियां व अन्य भाग सही ढंग से वृद्धि करें शरीर को सुडौल बना देते हैं। सही पोषण की कमी से शरीर का विकास व वृद्धि प्रभावित होती है।

यौवनारंभ के समय में शारीरिक आकृति में क्या परिवर्तन आता है?

  1. लड़कियों के कूल्हे मांसल होकर भारी हो जाते हैं।
  2. लड़कों के शरीर की पेशियां लड़कियों की तुलना में अधिक सुडोल हो जाती है।
  3. लड़कियों के स्तन विकसित होने के कारण छाती में उभार दिखाई देने लगता है।

यौवनारंभ के समय आवाज में क्या परिवर्तन आता है?

यौवनारंभ  के समय में लड़कों का स्वर यंत्र अपेक्षाकृत बड़ा होकर बाहर की ओर उभरा हुआ दिखाई देता है।  लड़कों की आवाज स्वर यंत्र में वृद्धि के कारण भारी या फटी हुई हो जाती है। लड़कियों के स्वर यंत्र में इस प्रकार का अंतर दिखाई नहीं देता लड़कियों के स्वर यंत्र के छोटा होने के कारण इसकी आवाज पतली व सुरुली होती है।

किशोरावस्था में चेहरे पर फुंसियां में मुंहासे क्यों हो जाते हैं?

किशोरावस्था में स्वेद व तैलग्रंथियों का स्त्राव बढ़ जाता है। इस बड़े हुए स्त्राव के कारण चेहरे पर फुंसियां व मुंहासे निकल जाते हैं।

मनुष्य में जनन किस अवस्था में विकसित होते हैं?

यौवनारंभ मे नर के वृषण में शीशन और मादा में अंडाशय पूर्ण विकसित हो जाते हैं। वृषण शुक्राणुओं अंडाशय परिप्क्क्व अँड निर्मोचन करने लगता है।

किशोरावस्था में मानसिक, बौद्धिक एवं संवेदनात्मक परिपक्वता की क्या स्थिति होती है?

किशोरावस्था में मानसिक व बौद्धिक विकास उच्च स्तर पर होता है। इस अवस्था में सीखने की क्षमता भी सर्वाधिक होती है। किशोर इस अवस्था में अत्यधिक संवेदनशील होते हैं और वह समझते हैं कि जो वे सोचते हैं वही ठीक है। माता-पिता (अभिभावकों) वह वरिष्ठ परिजनों के द्वारा लिए गए निर्णय उन्हें विवेकपूर्ण नहीं लगते। कई बार किशोर अपने आप को असुरक्षित महसूस करने लगते हैं, जबकि इसका कोई कारण नहीं होता है। इस अवस्था में किशोर संवेदनशील होने के कारण प्यार वह घृणा चरम स्थिति तक करते हैं और इसे संदर्भ में अपने द्वारा लिए गए निर्णय को ही उचित मानते हैं।

टेस्टोस्टेरोन व एस्ट्रोजन हार्मोन के कार्यों की सूची बनाइए?

  • टेस्टोस्टेरोन के कार्य- यह पुरुषों में द्वितीयक लैंगिक लक्षण के लिए उत्तरदायी है, जैसे दाढ़ी मूछों का आना, आवाज का भारी हो जाना, जनन अंगों पर बाल उगना आदि।
  • एस्ट्रोजन के कार्य- यह मादाओं में द्वितीयक लैंगिक लक्षणों के लिए उत्तरदायी है, जैसे छाती का विकास, शरीर के अंगों का मांसल होना,रजोधर्म चक्र का आरंभ होना आदि।

अत: स्रावी ग्रंथियों का नलिकावाहिनी ग्रंथियाँ क्यों कहा जाता है?

अत: स्त्रावी ग्रंथियों के स्त्राव (हार्मोन) का स्थानांतरण नलिकाओं के बिना होता है। यह स्त्राव सीधे रक्त में मिलकर कार्य क्षेत्र तक पहुंचता है। इसलिए नलिकाओं के अभाव के कारण इन्हें नलिकाविहीन ग्रंथियां कहा जाता है।

हार्मोन के लक्षण लिखे?

  1.  हार्मोन अत: स्त्रावी ग्रंथियों द्वारा स्त्रावीत होते हैं। इनके कार्य विशिष्ट होते हैं।
  2. यह केवल कार्यक्षेत्र बिंदु पर ही प्रभावी होते हैं अन्यत्र कहीं नहीं।
  3. इनकी आवश्यकता बहुत कम मात्रा में होती है।

हार्मोन क्या होते हैं? मनुष्य में किन्हीं तीन हार्मोन के नाम तथा कार्य लिखें।

जो पदार्थ स्त्रावी ग्रंथियों द्वारा स्रावित होते हैं, उन्हें हार्मोन कहते हैं। यह एक प्रकार के रासायनिक पदार्थ होते हैं जो जीवो की वृद्धि तथा विकास को नियंत्रित करने का कार्य करते हैं। मनुष्य में मिलने वाले तीन हार्मोन निम्नलिखित है-

  • थायरोक्सिन- यह हार्मोन थायराइड ग्रंथि द्वारा स्रावित किया जाता है।  यह मानव शरीर में उपापचय तथा वृद्धि दर को नियंत्रित करता है।
  • इंसुलिन- यह हार्मोन अग्नाशय में बनता है।  यह अतिरिक्त टककर आकर ग्लाइकोजन में परिवर्तित करके संग्रह करने में सहायता करता है।
  • टेस्टोस्टेरोन- यह हार्मोन वृषण द्वारा स्रावित किया जाता है।  यह नर में द्वितीयक लैंगिक लक्षणों के विकास को नियंत्रित करता है।

पीयूष ग्रंथि से स्रावित होने वाले तीन और मोनू के नाम लिखिए?

  • वृद्धि हार्मोन- या हार्मोन मांसपेशियों  और अस्थियों के विकास को नियंत्रित करता है।
  • पोषी हार्मोन- यह हार्मोन अंत स्त्रावी ग्रंथियों के स्त्रावों को नियंत्रित करता है।
  • वेसोप्रेशीन– इस हार्मोन की सहायता से शरीर में जल में लवण की मात्रा को नियंत्रित किया जाता है.

पीयूष ग्रंथि को मास्टर ग्रंथि क्यों कहा जाता है?

यह ग्रंथि मस्तिष्क के निचले भाग में स्थित होती है। इसके द्वारा स्रावित हार्मोन से हड्डी तथा ऊतकों की वृद्धि को नियंत्रित किया जाता है। यह ग्रंथि ऐसे हार्मोन स्रावित करती है, जो अन्य ग्रंथियों के कार्य को नियंत्रित करते हैं।  इसलिए इसे मास्टर ग्रंथि कहा जाता है।

डरावना दृश्य देखते ही एड्रीनलीन हार्मोन का स्त्राव अधिक हो जाता है अनुक्रीया को क्या कहते हैं?

डरावना दृश्य देखते ही अधिवृक्क ग्रंथि का स्त्राव ( एड्रीनलीन) बढ़ जाता है जिसकी अनुक्रिया के फल स्वरुप रक्त संचार में तेजी आ जाती है। शरीर के बाल खड़े हो जाते हैं, आंख की पुतलियां फैल जाती है। चेहरा लाल हो जाता है और मांसपेशियों की शक्ति में वृद्धि हो जाती है। इस अनुप्रिया को प्रतिवर्ती क्रिया कहा जाता है।

मानव में जनन काल की अवधि का वर्णन करें?

जब किशोरों के वृषण तथा अंडासय युग्मक ( शुक्राणु व अंडाणु) उत्पादित करने लगे, तब वे जन्म के योग्य हो जाते हैं।  क्षत्रियों में जननाअवस्था का प्रारंभ 10 से 12 वर्ष की आयु में होता है और यह 45 से 50 वर्ष की आयु तक चलता रहता है।  जनन काल की अवधि पुरुषों में स्त्रियों की तुलना से अधिक लंबी होती है। स्त्रियों में जनन काल की अवधि रजो दर्शन ( रजोधर्म) से रजोनिवृत्ति तक होती है।

रजोदर्शन व रजोनिवृत्ति किसे कहते हैं?

  • रजोदर्शन- पहले ऋतु स्त्राव को रजोदर्शन कहते हैं।
  • रजोनिवृत्ति-  ऋतु स्त्राव के रुक जाने को रजोनिवृत्ति कहते हैं।

रजोधर्म तथा रजोनिवृत्ति में अंतर बताइए।

रजोधर्म रजोनिवृत्ति
स्त्रीयों में यह प्रक्रिया 11 से 12 वर्ष की आयु में शुरू होती है। स्त्रीयों में यह अवस्था लगभग 45 से 50 वर्ष की आयु में आती है।
रजोधर्म प्रत्येक 28 से 30 दिन के बाद होता है।  इसमें 4 से 7 दिन तक का रक्त स्त्राव होता है। इस अवस्था में रक्त स्त्राव बंद हो जाता है।
रजोधर्म का आरंभ यौवनारंभ का संकेत है। रजोनिवृत्ति जन्म काल की समाप्ति का संकेत है।

ऋतु स्त्राव चक्र का नियंत्रण कौन-सा कारक करता है?

ऋतु स्त्राव चक्र का नियंत्रण हार्मोन द्वारा होता है। अंडाणु का परिपक्व, उत्पादन, गर्भाशय की दीवार का मोटा होना एवं निषेचन होने की स्थिति में उसका टूटना आदि सभी क्रियाएं हार्मोन द्वारा नियंत्रित होती है।

मनुष्य में लिंग निर्धारण किस प्रकार होता है?

प्रत्येक मनुष्य में 23 जोड़े गुणसूत्रओं में से 22 जोड़े अलिंग और 23 वां जोड़ा अर्थात एक जोड़ा लिंगीं गुणसूत्र होता है। नर मे यह एक जड़ा XY  गुणसूत्रों तथा मादा में XX गुणसूत्रों के रूप में पाया जाता है। मादा में Y गुणसूत्र पाया ही नहीं जाता। मादा और नर के द्वारा जो बच्चे पैदा किए जाते हैं उनमें XX, XY गुणसूत्रों के युग्म स्थानांतरित होते हैं। जिस बच्चे में XX गुणसूत्रों के युग्म पाया जाएगा वह लड़की होगी और जिस बच्चे में XY लिंगी गुणसूत्रों का युग्म पाया जाता है वह लड़का होगा। इस प्रक्रिया से स्पष्ट हो जाता है कि किसी भी दंपति के बच्चों में, लड़का या लड़की का निर्धारण केवल पुरुष में XY लिंगी गुणसूत्रों के युग्म पर निर्भर करता है। महिला में नर ( लड़के) के गुणसूत्र पाए ही नहीं जाते। उसके पास केवल XX गुणसूत्र ही होते हैं। अत: बच्चे का लिंग नर या मादा होने के लिए महिला उत्तरदायी नहीं है।

एक सारणी द्वारा थायराइड, अग्नाशय वह एड्रिनल नमक अंत स्त्रावी ग्रंथियों के द्वारा उत्पादित  हार्मोनों के नाम व उनकी कमी से होने वाले विकार ( रोग) का नाम लिखें।

अंत स्त्रावी ग्रंथि का नाम हार्मोन का नाम कमी से होने वाले विकार
थायराइड थायरोक्सिन गायटर
अग्नाशय इंसुलिन मधुमेह
एड्रिनेल एड्रीनेलिन तनाव

जंतुओं में कायांतरण की प्रक्रिया का नियमन कौन- सा हार्मोन करता है?

थायराइड द्वारा स्रावित हार्मोन थायरोक्सिन इस प्रक्रिया का नियमित करता है। थायरोक्सिन का उत्पादन उसी स्थिति में संभव है जब जल में आयोडीन उपस्थित हो। यदि जल में आयोडीन का अभाव हो तो मेंढक का टैडपोल व्यस्क मेंढक में कायांतनरित नहीं हो सकता है।

जननात्मक स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारकों के नाम लिखें?

संतुलित आहार, व्यक्तिगत स्वच्छता, शारीरिक व्यायाम, नशीली दवाओं ( ड्रग्स) का निषेध।

संतुलित आहार किसे कहते हैं? संतुलित आहार प्रदान करने वाले विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों के नाम बताएं।

जिस आहार में आयु, व्यवसाय, लिंग तथा अवस्था के अनुसार वे सभी पोषक तत्व उचित मात्रा में विद्यमान है जिनकी शरीर को आवश्यकता होती है, उसे संतुलित आहार कहते हैं। संतुलित आहार उचित मात्रा में चावल, रोटी, दाल, हरी पत्तेदार सब्जियां, पनीर, अंडा, मछली ( मांस) दूध ( दही), व जल के मिलने से बनता है। इस प्रकार का भोजन में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, वसा, विटामिन एवं खनिज का पर्याप्त मात्रा में समावेश होता है।  भारतीय भोजन में रोटी ,दाल, सब्जियां आदि शामिल होते हैं। यह एक संतुलित आहार है। दूध भी संतुलित आहार है। फल हमें पोषण देते हैं। मां का दूध शिशुओं के लिए संपूर्ण पोषण देने वाला भोजन है।

किशोरों को व्यक्तिगत स्वच्छता की ओर ध्यान दिलाने के लिए कुछ सुझाव लिखें।

  1. प्रतिदिन स्नान कर पसीना, धूल कणों, दुर्गंध आदि को धो देना चाहिए।
  2. प्रतिदिन दातों को दांतुन , मंजन या ब्रुश-पेस्ट से साफ करो।
  3. प्रतिदिन साफ-सुथरे कपड़े पहना, विशेषकर अधोवस्त्रो को प्रति दिन बदलना चाहिए।
  4. नाखूनों को अधिक बढ़ने ना दें, वरना उन में एकत्रित गंदगी व मैल भोजन के साथ शरीर के अंदर चली जाएगी।
  5. खाना खाने से पहले व बाद में हाथ को साबुन से जरूर धोना चाहिए।
  6. ऋतु स्त्राव के समय लड़कियों को सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए अन्यथा संक्रमण का खतरा हो सकता है।

स्वस्थ शरीर के लिए व्यायाम किस प्रकार महत्वपूर्ण है ?

नियमित व्यायाम हमारे शरीर के लिए उतना ही आवश्यक है जितना कि भोजन। व्यायाम हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में निम्न प्रकार से मदद करता है-

  1. व्यायाम शरीर के प्रत्येक अंग को पुष्ट और क्रियाशील रखने में सहायक है।
  2. इससे रक्त का संचार  सुचारु रुप से होता है।
  3. यह मानसिक तनाव कम करने में सहायक है।
  4. इससे शरीर में कार्य करने के  क्षमता बढ़ जाती है।
  5. इससे शरीर का विकास सुचारू रूप से होता है।

किशोरों को नशीली दवाओं (ड्रग्स) से बचना चाहिए क्यों?

किशोरावस्था में व्यक्ति शारीरिक एवं मानसिक रूप से अधिक सक्रिय होने के कारण तनाव ग्रस्त हो जाता है।  इस तनाव से मुक्ति पाने के लिए किस और नशीली दवाएं अर्थात लेना आरंभ कर देते हैं। कोकेन, हेरोइन, स्मैक,चरस, अफीम, गांजा आदि नशीले पदार्थों ( संवेदन मंदक पदार्थों) का सेवन खतरनाक होता है।  इनके लगातार सेवन से आदमी इन का आदि हो जाता है। इनका सीधा प्रभाव दृष्टि, सुनने की शक्ति, सांस लेने, हृदय और परिसंचरण तंत्र पर पड़ता है। इनसे सबसे अधिक नुकसान केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का होता है जिससे व्यक्ति पूर्ण रूप से इन पदार्थों पर निर्भर हो जाता है। इनकी आदत छुड़ा पाना बहुत मुश्किल होता है। कुछ लोग इन्हें इंजेक्शन द्वारा लेते हैं जिसके कारण ऐड्स रोग होने की संभावना बढ़ जाती है।

एक बार आदी हो जाने पर मनुष्य पूर्ण रूपेण इन का दास हो जाता है।  इन्हें प्राप्त करने के लिए वह कोई भी उचित अनुचित कार्य करने को तत्पर हो जाता है। किशोरों को इन नशीले पदार्थों से बचना चाहिए।

किशोरों में HIV AIDS के होने की संभावना प्रबल होती है, क्यों?

काफी संख्या में किशोर तनाव से मुक्ति पाने हेतु ड्रग्स लेना आरंभ कर देते हैं। HIV सदूषित इंजेक्शन की सुई लेने पर यह खतरनाक विषाणु अन्य किशोरों में फैल जाता है। इस विषाणु के फैलने का अन्य कारण असुरक्षित लैंगिक संपर्क भी है। कई मामलों में यह विषाणु पीड़ित ( रोगी) मां से दूध द्वारा शिशु में फैल सकता है।

अत: किशोरों को अपने बहुमूल्य जीवन को HIV  से बचने के लिए सचेत रहने की अति आवश्यकता है।


More Important Article

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close