G.KStudy Material

मध्य प्रदेश का सामान्य परिचय

मध्य प्रदेश की भौगोलिक स्थिति 21॰6 उत्तरी अक्षांश से 26॰ -54′ उत्तरी अक्षांश तक 74॰ पूर्वी देशांतर से 82॰ 47 पूर्वी देशांतर के मध्य है। कर्क रेखा इसके पीछे नर्मदा नदी के लगभग समांतर गुजरती है।

मध्य प्रदेश राज्य का क्षेत्रफल 308,252  वर्ग किलोमीटर है। क्षेत्रफल की दृष्टि से देश का दूसरा बड़ा राज्य है, जो देश के 9.5% हिस्से में फैला हुआ है। मध्यप्रदेश की सर्वाधिक सीमा महाराष्ट्र राज्य को छूती है। भारत में मध्य प्रदेश ऐसे तीन राज्यों में से एक है जिसकी सीमा पर न समुद्र है और ना ही अंतरराष्ट्रीय सीमा।

नए मध्य प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल बनाई गई, जो कि पूर्व में सीहोर जिले की एक तहसील थी। इस राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री पंडित रविशंकर शुक्ल थे तथा डॉक्टर बी पट्टाभीसीतारामैया को राज्यपाल के रूप में तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश श्री एम हिदायतुल्लाह ने शपथ दिलाई थी।

सन 1939 में सेंट्रल प्रोविंस व बरार में बघेलखंड व छत्तीसगढ़ की रियासतों को सम्मिलित कर मध्य प्रदेश का राज्य बना, जो पार्ट ए का स्टेट था। इसकी राजधानी नागपुर थी। उसी समय उत्तर में स्थित रियासतों को मिलाकर विंध्य प्रदेश बनाया गया। जिसकी राजधानी रीवा थी। पूर्व मध्य प्रदेश के पश्चिम में स्थित है रियासतों को मिलाकर मध्य भारत (बी स्टेट) राज्य बनाया जिसकी राजधानी ग्वालियर तथा इंदौर दोनों ही रखी गई। स्टेट भोपाल पृथक राज्य था जो पार्ट सी स्टेट था।

मध्य प्रदेश की सीमा को उत्तर में उत्तर प्रदेश, दक्षिण में महाराष्ट्र, उत्तर पूर्व एवं पूर्व में छत्तीसगढ़, पश्चिमी राजस्थान एवं गुजरात राज्य स्पर्श करते हैं। मध्य प्रदेश का निर्माण राज्य पुनर्गठन आयोग की सिफारिश पर 1 नवंबर 1956 को हुआ। राज्य पुनर्गठन आयोग के अध्यक्ष फजल अली तथा जिला पुनर्गठन आयोग के अध्यक्ष श्री बी आर दुबे थे।

भारत सरकार ने 29 दिसंबर 1953 को सैयद फजल अली की अध्यक्षता में राज्य पुनर्गठन आयोग का गठन किया था। पंडित हृदयनाथ और डॉक्टर के एस पन्निकर आयोग के दो अन्य सदस्य थे।आयोग का प्रतिवेदन 10 अक्टूबर 1955 को जनमत जानने के लिए प्रसारित किया गया। लोकसभा में 55*1\2 घंटे तथा राज्यसभा में 40 घंटे की बहस के बाद प्रतिवेदन को पूर्ण समर्थन मिला बहस में 244 सदस्यों ने भाग लिया था।केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अपनी बैठक में मध्य प्रदेश का विभाजन करा कि 30 अक्टूबर 2000 को देश के 26 में नए राज्य छत्तीसगढ़ का गठन किया।वर्ष 2000 के राज्य पुनर्गठन के आधार पर एक नवंबर से मध्यप्रदेश के 9 संभाग एवं 45 जिले में विभाजित किया गया वर्तमान में 10 संभाग तथा 51 जिले हैं।16 अगस्त 2013 को शाजापुर जिले का विभाजन कर मध्यप्रदेश का 51वा आगर मालवा जिला बनाया गया।


More Important Article

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close