Science

पादपों में पोषण की प्रक्रिया और विधि

आज इस आर्टिकल में हम आपको पादपों में पोषण की प्रक्रिया और विधि के बारे में बताने जा रहे है.

पादपों में पोषण की प्रक्रिया और विधि

पादपों में पोषण की प्रक्रिया और विधि
पादपों में पोषण की प्रक्रिया और विधि

पादपों में पोषण

पोषण भोजन एवं ऊर्जा प्राप्त करने की विधि है. मुख्यतया पोषण दो प्रकार का होता है

स्वपोषण

इस विधि में जीव अपना भोजन स्वयं सूर्य के प्रकाश, कार्बन डाइऑक्साइड, प्रणाम एवं जल की सहायता से बनाते हैं-  सभी हरे पादप.

स्वपोषण की विधि

सभी हरे पौधे अपना भोजन प्रकाश-संश्लेषण विधि द्वारा बनाते हैं.

मनुष्य में पोषण एवं पाचन प्रक्रिया

प्रकाश-संश्लेषण

वह क्रिया है, जिसमें पौधों के सौर ऊर्जा ग्रहण कर  वायु से ली गई co2 तथा मृदा से शोषित H2O दोबारा कार्बोहाइड्रेट का निर्माण करते हैं और O2  को उपोत्पाद के रूप में बाहर निकालते हैं.यह विशिष्ट प्रक्रिया केवल हरे पौधों में पाई जाती है, इसीलिए हरे पौधे उत्पादक एवं जंतु उपभोक्ता कहलाते हैं.

प्रकाश संश्लेषी वर्णक

वह वर्णक जो हरित लवक में पाए जाते हैं तथा प्रकाश संश्लेषण हेतु प्रकाश ऊर्जा का अवशोषण करते हैं, प्रकाश संश्लेषण कहलाते हैं. उदाहरण – पर्ण हरिम एवं कैरोटीनॉयड

पर्णहरित

यह हरे रंग का प्रकाश-संश्लेषी वर्णक है.यह सूर्य के प्रकाश की ऊर्जा  को प्रकाश- संश्लेषण द्वारा रासायनिक ऊर्जा में परिवर्ति त कर देता.  पर्ण हरिम मुख्यातया लाल एवं बैंगनी रंग के प्रकाश काअवशोषण करता है तथा हरे रंग के प्रकाश को परावर्तित करता है, जिसके कारण पत्तियां हरी प्रतीत होती है.

कैरोटीनॉएडस

यह पीले भूरे एवं लाल रंग के वर्षों का समूह है, जो हरित लवक के अंदर पूर्ण हरि में पाए जाते हैं. इसमें केरोटीन एवं जेल केजेंथोफिल वर्णक होते हैं.

परपोषण

इस विधि में जीव अपना भोजन स्वयं नहीं बनाता. जबकि दूसरे पौधों अथवा जंतुओं पर भोजन हेतु निर्भर रहता है. उदाहरण – जीवाणु, कवच एवं जंतु.

मृतोजीवी पोषण

इसमें जीव अपना भोजन सड़े गले पदार्थों से प्राप्त करता है. उदाहरण –  कवक एवं कुछ जीवाणु

परजीवी पोषण

इसमें जो अपना भोजन किसी अन्य जीवित जीव के शरीर से प्राप्त करता है.

आज इस आर्टिकल में हमने आपको पादपों में पोषण की प्रक्रिया और विधि, पादपों में पोषण किस तरह से होता है?, प्राणियों में पोषण, परपोषी पोषण, स्वपोषी के उदाहरण, जंतुओं में पोषण के बारे में बताया है, अगर आपको इससे जुडी कोई अन्य जानकारी चाहिए तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close