G.K

मौलिक कर्तव्य से जुड़े तथ्य

आज इस आर्टिकल में हम आपको मौलिक कर्तव्य से जुड़े तथ्य बता रहे है.

  • संविधान का अनुच्छेद 51 (क) मौलिक कर्तव्यों का प्रवधान करता है.
  • भारतीय संविधान की मूल प्रीत में मौलिक कर्तव्यों का प्रावधान नहीं था. यह संकल्पना पूर्व सोवियत संघ ( रूस) चली गई है.
  • संविधान में मौलिक कर्तव्यों को सरदार स्वर्ण सिंह समिति की सिफारिश पर 42वें संविधान संशोधन अधिनियम 1976 के तहत जोड़ा गया. इनकी संख्या 10 थी,
  • 11 मौलिक कर्तव्य वर्ष 2002 में 86 वें संविधान संशोधन अधिनियम द्वारा जोड़ा गया.
  • मौलिक कर्तव्य भारत नागरिकों के लिए एक दायित्व को प्रस्तुत करना है, जिन की अपेक्षा राष्ट्र अपने नागरिकों से करता है ताकि वे राष्ट्र निर्माण में सक्रिय योगदान दे सकें.

[amazon_link asins=’B077PWBC7J,B0784D7NFX,B0756Z43QS,B0784BZ5VY,B01DDP7D6W,B071HWTHPH,B078BNQ313,B01FM7GGFI’ template=’ProductCarousel’ store=’kkhicher1-21′ marketplace=’IN’ link_id=’9675a288-a941-11e8-8242-3d8d171d819f’]

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close