G.KStudy Material

पद्यांशों के भाव पर आधारित प्रश्न उत्तर

आज इस आर्टिकल में हम आपको पद्यांशों के भाव पर आधारित प्रश्न उत्तर के बारे में जानकारी देने जा रहे है-

पद्यांशों के भाव पर आधारित प्रश्न उत्तर
पद्यांशों के भाव पर आधारित प्रश्न उत्तर

Q. प्रस्तुत पद्यांश मे कवि ने संदेश दिया है?

(A) सम्पूर्ण विशव को मिल -जुलकर रहने का
(B) सम्पूर्ण विशव को युध्द करने का
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q.  प्रस्तुत पद्यांश मे ‘हम जग न होने देगे ‘पंक्ति से कवि का आशय है –

(A) सारे विशव पर निजाधिकार जमाने का
 (B) सारे विशव मे शातिमय वातारण बनाने का
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q.   विशव शाति के है हम साधन उक्त पंक्ति मे हम पद द्वारा सकते है –

(A) कवि की ओर
(B) भारत की ओर
(C)भारत और वहाँ की प्रचीन परम्परा की ओर
(D) B और C दोनों

Q.  सृजन की है तैयार इससे कवि का क्या आशय है –

(A) दूसरों केओ मरने का
(B) अन्य देशों के साथ युध्द करने का
(C) देश -समाज के नवनिर्माण का
(D) ये सभी

Q.  ‘युध्द विहीन’ शब्द मे समास है –

(A) तत्पुरुष
(B) द्वन्द्व
(C) द्विगु
(D) कर्मधारा

Q.  ‘कफन बेचने वालों से ‘कवि का आशय है –

(A) कफन का व्यापार करने वाले
(B) हिंसा -मारकाट आतक फैलाने वाले
(C) मुर्दों को जलाने वाले
(D) कोई नहीं

Q.  कवि मुख्य रूप से चाहता है –

(A) शांति
(B) हिंसा
(C) छल -कपट का व्यवहार
(D) ये सभी

Q.  ‘प्यार करे या वार करे ,दोनों को ही सहना है – यहाँ रेखांकित पद से आशय है –

(A) भारत -बाग्लादेश
(B) भारत -पाकिस्तान
(C) भारत -श्रीलका
(D) इनमे से कोई नहीं

Q.  ‘साथ -साथ रहना है ‘पंक्ति मे अलंकार है –

(A) अनुप्रास
(B) पुनरुक्ति प्रकाश
(C) ये दोनों
(D) इनमे से कोई नहीं

Q. ‘जो हम पर गुजरी बच्चो के आर सग न होने देगे -यहाँ रेखांकित पंक्तियों से आशय है –

(A) आने वाली पीढ़ियो पर युध्द का असर
(B) आने वाली पीढ़ियो पर शाति का असर
(C) आने वाली पीढ़ियो पर भाईचारे का असर
(D) ये सभी

Q. ‘जन्म दिया माता -सा ‘पंक्ति में अलंकार है –

(A) अनुप्रसा
(B) उपमा
(C) यमक
(D) श्लेष

Q.  ‘तन -मन -धन सब बलिहारी ‘उक्त पंक्ति में अलंकार है –

(A) उपमा
(B) रूपक
(C) अनुप्रसा
(D) श्लेष

Q. प्रस्तुत पद्यांश मे वर्णन है –

(A) मातृभूमि की महिमा का
(B) जन्मदात्री माँ का
(C) आकाश व धरती का
(D) इनमे से कोई नहीं

Q.  मातृभूमि सभी का लालन -पालन करती है –

(A) बाल्यावस्था तक
(B) प्रोढावस्ठा तक
(C) युवावस्था तक
(D) मृत्युपर्यन्त

Q. कविता मातृभूमि के प्रति अपना सब कुछ क्यों समर्पित करना चाहता है ?

(A) मातृभूमि द्वारा किए गए उपकारों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने हेतु
(B) अपने स्वार्थ की पूर्ति हेतु
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q.  ‘जिसके दया -प्रवाहों का होता हुआ कभी सपने मे अत ‘पंक्ति मे अलंकार है –

(A) रूपक अलंकार
(B) अनुप्रास
(C) उपमा
(D) इनमे से कोई नहीं

Q.  प्रस्तुत पद्यांश मे मुख्यत :शब्दीवली प्रयुक्त हुई है –

(A) तदभव शब्दीवली
(B) तत्सम शब्दीवली
(C) देशज शब्दीवली
(D) सकर शब्दीवली

Q.  ‘उसके चरण -कमल पर मेरा ———-। ‘पंक्ति मे अलंकार है –

(A) उपमा
(B) श्लेष
(C) रूपक
(D) यमक

Q.  ‘——–मेरा तन-मन -धन सब बलिहारी ‘। पंक्ति मे अलंकार है –

(A ) लटनुप्रास
(B ) छेकानुप्रास
(C) वृत्युप्रास
(D) यमक

Q.  प्रस्तुत पद्याश मे संदेश दिया है –

(A) मातृभूमि के प्रति समर्पण भाव का
(B) माता -पिता के प्रति समर्पण भाव का
(C) दोनों के प्रति समर्पण भाव का
(D) इनमे से कोई नहीं

Q . ‘हँसते -हँसते प्राणों की बलि दे जाऊँगा ‘पंक्ति मे अलंकार है –

(A) रूपक
(B) पुनरुक्ति प्रकाश
(C) अनुप्रास
(D) B,C दोनों ही

Q . ‘मै चला , तुम्हें भी  चलना है ——। यहाँ ‘मै ‘ व ‘तुम्हें ‘पद द्वारा संकेत किया है –

(A ) नारियों वी पुरुषों की ओर
(B) कवि और युवाओं की ओर
(C ) बालकों और युवाओं की ओर
(D) इनमे से कोई नहीं

Q . कवि प्रेरित करना चाहता है –

(A ) दीन -दुखियों को
(B ) महापुरुषों को
(C ) युवाओं को
(D) इन सभी को

Q . ‘महाशांति ‘शब्द में समास है –

(A ) तत्पुरुष
(B ) कर्मधारा
(C ) द्विगु
(D) द्वन्द्व

Q. प्रस्तुत पंक्तियों में भाव व्यक्त हुआ है –

(A) प्रेम का
(B) वीरता का
(C) शांति का
(D) ये सभी

Q . प्रस्तुत पंक्तियों में गुण प्रयुक्त हुआ है –

(A) ओज गुण
(B) माधुर्य गुण
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . ‘रूढ़िवाद का कल्मष महल ‘ से कवि का आशय है –

(A) पुरातन पथीं बुरी प्र्वृत्तियों का समूह
(B) पुरातन पथीं अच्छी मनयताओ का समूह
(C) ये दोनों
(D) कोई नहीं

Q . ‘तुम्हें भी चलना है असिधारों पर ‘उक्ति पंक्ति का आशय है –

(A) संकटो व विपत्तियों का सामना
(B) तलवार की नुकीली धार का सामना
(C) तलवारों से आपसी युध्द
(D)  इनमें से कोई नहीं

Q . ‘भूतल ‘शब्द है –

(A) तदभव
(B) तत्सम
(C) देशज
(D) इनमें से कोई नहीं

Q . ‘आम की थी डाल हरियल ,मै मगनमन झूमता था ‘पंक्ति में अलंकार है –

(A) अनुप्रास
(B) रूपक
(C) उपमा
(D) श्लेष

Q . ‘देख मेरा हरा यौवन —–‘यहाँ ‘मेरा ‘पद प्रयुक्त हुआ है –

(A) पत्ते के लिए
(B) फूल के लिए
(C) फल के लिए
(D) जड़ो के लिए

Q . कविता मे कवि ने प्रेरणा दी है –

(A) जन्मभूमि प्रेम की
(B) देश हित मे समर्पित होने की
(C) दोनों ही प्रकार की
(D) कोई नहीं

Q . कवि ने पंक्तियों में इस वृक्ष का वर्णन किया है –

(A) आम्र वृक्ष का
(B) खजूर का
(C) नीम का
(D) जामुन वृक्ष का

मल्टी ट्र्रास्किंग परीक्षा के प्रश्न-उत्तर

Q . ‘आम ‘ शब्द है –

(A) तदभव
(B) तत्सम
(C) देशज
(D) कोई नहीं

Q . ‘पल्लव ‘शब्द का अर्थ है –

(A) प्रसन्नता
(B) पत्ता
(C) वृक्ष
(D) कोई नहीं

Q . रवि जग में शोभा सरसता ,सोम सुधा बरसाता ‘पंक्ति में अलंकार है –

(A) रूपक
(B) उपमा
(C) अनुप्रास
(D) इनमें से कोई नहीं

Q . प्रस्तुत कविता मे कवि ने मानव को –

(A) निज कर्तव्य के प्रति सचेत किया है
(B) मातृभूमि की सेवा हेतु प्रेरित किया है
(C) स्वार्थ भाव को त्यागने हेतु प्रेरित किया है
(D) यें तीनों ही

Q . ‘जिसका खाकर अन्न सुधासम नीर ——‘ पंक्ति में अलंकार है –

(A) उपमा
(B) रुपक
(C) श्लेष
(D) अनुप्रास

Q . प्रस्तुत पंक्तियों में शब्दावली प्रयुक्त हुई है –

(A)  देशज शब्दावली
(B)  तदभव शब्दावली
(C)  तत्सम शब्दावली
(D)  कोई नहीं

Q .कविता में मानव जीवन की इस विशेषता की ओर संकेत किया है –

(A) बुध्द -विवेक से सम्पन्न
(B) ये दोनों
(C) वाक कला में निपुण
(D) कोई नहीं

Q . कवि के अनुसार मनुष्य को –

(A) कर्म के प्रति तत्पर होना चाहिए
(B) स्वार्थ भावना से युक्त होना चाहिए
(C) दोनों
(D) कोई नहीं

Q . कवि ने भारतवासियों के परस्पर व्यवहार को बताया है –

(A) सुख -दु :ख के डीनो मे मिलजुलकर रहना
(B) स्वार्थ भावना से दूर रहना
(C) दोनों ही प्रकार का
(D) कोई नहीं

Q . प्रस्तुत पंक्तियों मे कवि ने वर्णन किया है –

(A) भारत माँ व भारतियों का
(B) भारत माँ की विशेषताओं का
(C) दोनों का ही
(D) कोई नहीं

Q . ‘भारत की साझी संस्कृति ‘ उक्ति पंक्ति से कवि का आशय है –

(A) विविधता मे समन्वय की भावना
(B) आपसी मेलजोल की संस्कृति
(C) मान्यताओं ,आस्थाओं व भावनाओं की समानता
(D) ये सभी

Q . ‘भारत बलशाली है ‘से कवि का आशय है –

(A) एक अरब से अधिक भुजाओं से सम्पन्न है
(B) सभी भारत भूमि की रक्षा हेतु सक्षम हैं
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . कविता में भाषा प्रयुक्त हुई है –

(A) संस्कृत
(B) खड़ी बोली हिन्दी
(C) अवधी
(D) ब्रज

Q . कविता में अधिकाश शब्द प्रयुक्त हुए है –

(A) तदभव शब्दावली के
(B) तत्सम शब्दावली के
(C) देशज शब्दावली के
(D) कोई नहीं

Q . कवि ने संदेश दिया है –

(A) वीर – धर्म अपनाने का
(B)  बल -पराक्रम दिखाने का
(C) योध्दा बनने का
(D) ये सभी

Q . ‘मधुभास मधुर रुचिकर है ,पर पतझर भी आता है ‘ पंक्ति में आंलकर है –

(A) अनुप्रास
(B) उपमा
(C) श्लेष
(D)यमक

Q . कवि ने कविता में यह जीवन सत्य उद्घाटित किया है –

(A) जो आता है , सो जाता है
(B) पराधीन सपनेहूँ सुख नहीं
(C) दोनों ही
(D) कोई नही

Q . ‘पर पतझर भी आता है । ‘से कवि का आशय है –

(A) निराशा व दु ;ख के क्षण
(B) जीर्ण -शीर्ण पत्तों का झरना
(C) ये दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . कवि के अनुसार वह जीवन है –

(A) जो बल -पराक्रम से सम्पन्न है
(B) जो बल -पराक्रम से रहित है
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . ‘मग -मग में ‘व ‘युग -युग तक ‘पदों में अंलकार है –

(A) मानवीकरण
(B) पुनरुकित प्रकाश
(C) उपमा
(D) रुपक

Q . प्रस्तुत पंक्तयों में कवि ने वर्णन किया है –

(A) मातृभूमि के प्राकृतिक सौंदर्य का
(B) मातृभूमि के विविध दृश्य युक्त रूप का
(C) मातृभूमि के सुख -शांति सम्पन्न रूप का
(D) ये सभी

Q . ‘परमहंस सम बाल्यकाल में जब सुख पाए ‘ पंक्तिमें अलंकार है –

(A) उपमा
(B) रुपक
(C) श्लेष
(D) यमक

Q . भारत भूमि की हरियाली को बताया है –

( A) कोमल
(B) मखभल के सामने कोमल
(C) कंटीली झड़ियों से युक्त
(D) ये सभी

Q . प्रस्तुत कविता में शब्दावली प्रयुक्त हुई है –

(A) तत्सम
(B) तदभव
(C) देशज
(D) इनमें से कोई नहीं

Q . ‘नीलाम्बर परिधान हरित पट पर सुंदर है ‘ पंक्ति में हरित पट कहा गया है –

(A) हरी – भरी फसलों को
(B) जंगलो की हरियाली को
(C) लहलहाती वनस्पति को
(D) इन तीनों को

Q . कवि ने मातृभूमि के प्राकृतिक सौंदर्य का वर्णन करके भावना विकसित की है –

(A) मातृभूमि के प्रति  समर्पित रहने की
(B) मातृभूमि के प्रति प्रेम भाव रखने की
(C) दोनों ही प्रकार की
(D) कोई नहीं

Q . ‘अधा बन जा झुका दे तम -द्वार पर मस्तक ‘इस पंक्ति में अलंकार है –

(A) रुपक
(B) उपमा
(C) श्लेष
(D) यमक

Q . ‘भूखी प्यासी कानाफूसी दे उठी दस्तक ‘इस पंक्ति में अलंकार है –

(A) रुपक
(B) मानवीकरण
(C) अनुप्रास
(D) उपमा

मौट्रिक स्तरीय परीक्षा प्रश्न -उत्तर

Q . ‘दम तोड़ना ‘मुहावरे का आशय है

(A) संघर्ष के लिए चुनौती देना
(B) हार मान लेना
(C) यें दोनों
(D) कोई नहीं

Q . ‘दरबान -सा तन जा ‘यहाँ अलंकार है –

(A) रूपक
(B) उपमा
(C) यमक
(D) मानवीकरण

Q . कवि ने इसकी तरह डटे रहने की प्रेरणा दी है –

(A) सूरज की रोशनी की तरह
(B) वीर योध्दा की तरह
(C) यें दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . कवि के पद्यांश में विवशता का चित्रण किया है –

(A) मन की
(B) व्यक्ति के जीवन की
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . कवि के अनुसार मृत्यु वरदान बन जाती है –

(A) संघर्ष के समय
(B) पराक्रम के समय
(C) यें दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . प्रस्तुत पद्यांश में शब्दावली प्रयुक्त हुई है –

(A) तत्सम
(B) तदभव
(C) देशज
(D) संकर

Q . ‘नहीं किसी को बहुत अधिक हो ‘नहीं किसी को कम हो । ‘ पंक्ति में कवि की दृष्टि है –

(A) सुख के साधनों की समानता की
(B) किसी को कम व किसी को अधिक मिलने की
(C) लाचारिमय जीवन व्यतीत करने की
(D) कोई नहीं

Q . कवि के अनुसार कोई भी क्या नहीं चाहता है ?

(A)  सुख के साधन
(B) युध्द करना
(C) आलसी बने रहना
(D) ये सभी

Q . ‘अधिकारों को छिनता देखकर भी ,त्याग -तप की नीति पर चलना । ‘कवि के अनुसार है –

(A) पाप है
(B) स्वाभिमान की रक्षा है
(C) मर्यादा की रक्षा है
( D) कोई नहीं

Q . ‘किसने कहा ,पाप है समुचित ,स्वतत्व प्राप्ति हित लड़ना ?’ पंक्ति में अंलकार है –

(A) अनुप्रास
(B) उपमा
(C) रुपक
(D) श्लेष

Q . ‘खड्ग ‘शब्द का अर्थ है –

(A) तलवार
(B) भाला
(C) बाण
(D) कटारी

Q . कवि ने संदेश दिया है –

(A) स्वत्व की प्राप्ति हेतु पराक्रम करने पीछे नहीं होना चाहिए
(B) स्वत्व की प्राप्ति हेतु शत्रु का सामना नहीं करना चाहिए
(C) शत्रु का सामना न करके त्याग -तप की नीति अपनानी चाहिए
(D) ये सभी

Q . ‘रुक -रुक ‘,’पग -पग ‘,’फूँक -फूँक ‘। इनमें अंलकार है –

( A) पुनरुक्ति प्रकाश  
(B) श्लेष
(C) रूपक
(D) उपमा

Q . ‘फूँक -फूँक कर पग रखने ‘से कवि का आशय है –

(A) सँभल केआर चलने की प्रवृती
(B) संकटों से बचकर निकलने की प्रवृति
(C) ये दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . प्रस्तुत पंक्तियों में कवि ने संदेश दिया है –

(A) विपत्तियों व संकटों में नित्य अग्रसर रहने का
(B) संकटों के सामने झुक जाने का
(C) आलस्यमय जीवन व्यतीत करने का
(D) ये सभी

Q . ‘वह माल मलीदे दूर रहे रोटी के भी पड़ते लाले ‘ पंक्ति में अंलकार है –

(A) अनुप्रास
(B) उपमा
(C) रुपक
(D)श्लेष

Q . ‘दुर्गम पथ अँधियारा छाया ,फिर मखमल का सपना कैसा ? “यहाँ कवि ने सुख को स्पष्ट करने हेतु प्रतीक प्रयोग किया है –

(A) अँधियारा
(B) दुर्गम
(C) मखमल
(D) ये सभी

Q . ‘पथ पर बिछ जाना पड़ता है ‘से कवि का आशय है –

(A) वीरता के साथ मृत्यु का वरण कर लेना
(B) मध्य -मध्य में सो जाना
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . प्रस्तुत पद्यांश में कवि ने प्रेरणा दी है –

(A) लक्ष्य तक पहूँचने हेतु अविराम गति से बढ़ने
(B) लक्ष्य तक पहूँचने हेतु रुक -रुक के चलने की
(C) निरन्तर अग्रसर ण रहने की
(D) ये सभी

Q . कवि के अनुसार जीवन है –

(A) नित्य आलस्यमय जीवन व्यतीत करने में
(B) नित्य प्रगति में
(C) दोनों में ही
(D) कोई नहीं

Q . कवि ने सच्चा पथिक माना है –

(A) पथ पर निरंतर अग्रसर रहने वाले को
(B) निराशा का जीवन जीने वाले को में
(C) दूसरों को उन्नति पथ पर बढ़ाने वाले को
(D) ये सभी

Q . कवि के अनुसार नित्य अग्रसर रहने की प्रेरणा देता है –

(A) बाल -रवि
(B) वृक्ष
(C) बाण
(D) ये तीनों ही

Q . ‘ज्योति जगमग धरती ‘ पंक्ति अंलकार है –

(A) अनुप्रास
(B) उपमा
(C) यमक
(D) कोई नहीं

Q . कवि ने कविता में शब्दावली प्रयुक्त की है-

(A) तत्सम शब्दावली
(B) देशज शब्दावली
(C) तदभव शब्दावली
(D) कोई नहीं

Q . नित्य अग्रसर रहने के भाव को बताने हेतु कवि ने इस प्रतीक का प्रयोग किया है –

(A) बाल -रवि
(B) कंटक
(C) दोनों
(D) कोई नहीं

Q . कवि ने किस तत्व को अनावश्यक माना है ?

(A) अहिंसा तत्त्व को
(B) शक्ति -तत्त्व को
(C) दोनों को
(D) कोई नहीं

बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र

Q . कवि के आनुसार विदेशी शक्तियों ने भारतियों कर ऊपर आक्रमण किया –

(A) शक्ति -तत्व की उपेक्षा के कारण
(B) अत्यन्त नम्रता के भाव के कारण
(C) दोनों ही कारणों से
(D) कोई नहीं

Q . ‘दुष्ट -दानव दमनकारी शक्ति का संचय करें हम ‘ पंक्ति में अंलकार है –

(A) अनुप्रास
(B) उपमा
(C) रुपक
(D) श्लेष

Q .कवि के अनुसार जगत सिर झुकाता है –

(A) जो शत्रु का मान -मर्दन कर सके
(B) जो शत्रु की गुलामी स्वीकार करे
(C) जो अपने बल व पराक्रम का प्रदर्शन करे
(D) A व C दोनों ही

Q . प्रस्तुत कविता में कवि ने संदेश दिया है –

(A) हृदयगत प्रेम के साथ -साथ प्रबल शक्ति तत्व को सजोकर रखने का
(B) मात्र हृदयगत प्रेम व भाईचारा रखने का
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . प्रस्तुत कविता में रस प्रयुक्त हुआ है –

(A) शांत रस
(B) वीर रस
(C) रौद्र रस
(D) हास्य रस

Q .’ ध्येय मंदिर के पथिक को —–‘पंक्ति में अंलकार है –

(A) रूपक
(B) श्लेष
(C) यमक
(D) अनुप्रास

Q . प्रस्तुत कविता द्वारा कवि ने भावना जग्रत की है –

(A) आपसी वैर -विरोध की
(B) राष्ट्रभक्ति की
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . ‘क्या कभी किसी ने सुना है , सूर्य छिपता तिमिर से । ‘पंक्ति में अंलकार है –

(A) अनुप्रास
(B) श्लेष
(C) यमक
(D) उपमा

Q . कवि के अनुसार सरिता प्ररेणा देती है –

(A) प्रगति पथ पर बढ़ने की
(B) रुके रहने की
(C) दोनों ही की
(D) कोई नहीं

Q . कवि का स्वपन है कि –

(A) हम सभी विदेशी शक्तियों के गुलाम बन जाएँ
(B) हमारा भारतीय राष्ट्र संगठित हो जाए
(C) दोनों ही प्रकार का
(D) कोई नहीं

Q . कवि ने शब्दावली का प्रयोग किया है –

(A) तत्सम शब्दावली
(B) तदभव शब्दावली
(C) देशज शब्दावली
(D) संकर शब्दावली

Q . ‘जीवन दीप जले ‘पंक्ति में अंलकार है –

(A) अनुप्रास
(B) रूपक
(C) यमक
(D) श्लेष

Q . प्रस्तुत कविता में कवि ने भाव व्यक्त किया है –

(A) लोक कल्याण का
(B) जगहित में समर्पित होने का
(C) मातृभूमि के हित मरने का
(D) ये सभी

Q . कवि के अनुसार भारत माँ का सच्चा सपूत है –

(A) मातृभूमि के हित में मरने वाला
(B) अपने स्वार्थ की पूर्ति में लगा रहने वाला
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . ‘भारत भाग्य जगाया था । ‘से कवि का आशय है –

(A) भारतीयों में चेतना शक्ति जाग्रत की
(B) भारतियों को उनकी मान -मर्यादा का बोध कराया
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . कवि के अनुसार लोक कल्याण हेतु जरूरी है –

(A) स्वार्थ भावना का त्याग
(B) शासन लोभ का त्याग
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

Q . ‘अति विस्तृत कर्त्तव्य मार्ग है । ‘से कवि का आशय है –

(A) लोक कल्याण की कोई सीमा नहीं है
(B) परमार्थ का मार्ग व्यापक है
(C) दोनों ही
(D) कोई नहीं

आज इस आर्टिकल में हमने आपको पद्यांशों के भाव पर आधारित प्रश्न उत्तर के बारे में बताया इसको लेकर आपका कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है-

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close