Study Material

सामान्य इस्तेमाल होने वाले औजार

आज इस आर्टिकल में हम आपको सामान्य इस्तेमाल के औजार के बारे में बताने जा रहे है.

सामान्य इस्तेमाल होने वाले औजार

वर्कशॉप में फिटरों को विभिन्न प्रकार के कार्य करने के लिए मशीन टूल्स के साथ-साथ अन्य प्रकार के अनेकों बार भी आवश्यकता समय-समय पर पड़ती रहती है। जैसे हेमर, स्पिनर, रिंच, वॉइस, स्क्रू ड्राइवर, पलायर इत्यादि। इसके अतिरिक्त कुछ अन्य हैंड कटिंग टूल्स की भी आवश्यकता पड़ती रहती है। ऐसे- हेक्सा, चीजल, ड्रिल,रीमर, डाइ टेप, फ़ाइलें तथा स्क्रेपर इत्यादि।

हैमर

जब कभी भी वर्कशॉप में ठोकने पीटने की आवश्यकता होती है तो चोट मारने के लिए हैमर का प्रयोग किया जाता है। यह वर्कशॉप का सबसे अधिक काम में आने वाला हैंड टूल है। कील ठोकने के लिए, रिविट को फ़ोर्ज करने के लिए, हाइट फिट पार्टों को निकालने में फिट करने के लिए, किसी तार या शीट जैसे टेढ़े-मेढे पार्ट को सीधे करने के लिए,चीजल के द्वारा धातु को काटकर अलग करने के लिए या इसी प्रकार के अनेकानेक उपयोग में हैमर का उपयोग किया जाता है। हैमर को प्रयोग करने से पहले देख लेना चाहिए कि ठीक प्रकार से फिट है अथवा नहीं है। ढीला होने या ना होने से दुर्घटना हो सकती है। हैमर के केस को साफ कर लेना चाहिए। कार्य के अनुसार उचित भार का हैमर चुनना चाहिए। हैमर वजन के आधार पर दो प्रकार से वर्गीकृत किया गया है।

  • हस्त हैमर
  • घन या स्लेज हैमर

हस्त हैमर

सामान्यत हल्के प्रकार के कार्यों के लिए हैंड हैमर का प्रयोग किया जाता है। इनका वजन 0.125 किलोग्राम से 1.5 किलोग्राम तक होता है। वजन के अनुसार उसमें हथे को फिट किया जाता है। जिसकी लंबाई क्रमश: 25 से 35 सेंटीमीटर रखी जाती है।

इनमें से चोट मारने के लिए पेंन तथा फेस को प्रयोग किया जाता है। इसलिए इन दोनों भागों को हार्ड तथा टेंपर किया जाता है। पैन तथा फेस के बीच के भाग को पोस्ट करते हैं। इसे नरम रखा जाता है जिससे हैमर टूटे नहीं। साधारणत: हैमर कास्ट स्टील या कार्बन को फ़ोर्ज करके बनाए जाते हैं तथा बाद में पैन कार्ड को हार्ड में टेंपर किया जाता है। पोस्ट मे बना छेद इलिप्स के आकार का होता है। इसमें एक लकड़ी का हैंडल ठोककर उसने वेज लगा दिया जाता है जिससे कि हैमर हैंडल से बाहर ना निकल सके।

बाजार से हैमर खरीदते समय हमें उसका वजन तथा पैन का आकार बताना होता है। मार्किंग जैसे- हल्के कार्यों के लिए 250 ग्राम का हैमर प्रयोग किया जाता है तथा भारी कार्यों के लिए आवश्यकतानुसार 1.5 किलोग्राम तक का हैमर प्रयोग किया जा सकता है। हैंड हैमर पेन के आकार के आधार पर निम्न प्रकार वर्गीकृत किया गया है।

  1. बॉल पेन हैमर
  2. क्रॉस पेन हैमर
  3. सट्रैट पैन हैमर
  4. डबल फेस हैमर
  5. जम्बूर हैमर
  6. मृदु या सॉफ्ट हैमर

वाइस

लगभग सभी मशीनें प्रक्रियाएं करते समय, जॉब के ऊपर विभिन्न दिशाओं के बल कार्य करते हैं जिनके फलस्वरूप जॉब अस्थिर हो सकता है। दो मशीन करने के लिए यह आवश्यक है कि उसे मजबूती से एक निश्चित स्थान जकड़ कर रखा जाए। वॉइस जॉब को एक स्थिति में मजबूती के साथ है जकड़ कर रखने वाला उपकरण है। जॉब को फाइलिंग, मशीनिंग, स्क्रेपींग, सेटिंग आदि अन्यानय करने से पहले वॉइस में मजबूत पकड़ दिया जाता है। जॉब को जकड़ कर रखने के लिए इसमें हार्ड-जा होते हैं। यह जो जबड़े जॉब की कि सतह में घुस कर उसे जकड़ लेते हैं। इसमें जॉब पर निशान भी पड़ जाता है। तैयार माल को पकने के लिए सॉफ्ट- प्रयोग किए जाते हैं। सॉफ्ट-जा एल्युमिनियम के चादर के बने होते हैं तथा हार्ड-जा के ऊपर ही प्रयोग किए जाते हैं। इसमें जॉब की सतह खराब नहीं होती है, वॉइस का साइज उसके जबड़ों की चौड़ाई दिया जाता है। मशीनों में प्रयोग होने वाली वाइसे निम्न प्रकार की होती है-

  1. बैंच वाइस
  2. मशीन वाइस
  3. लेग वॉइस
  4. हैंड वॉइस
  5. पिन वॉइस
  6. टूल मेकर्स वॉइस
  7. कार पेंटर वाइस
  8. सी-क्लैम्प वाइस
  9. समान क्लैम्प वाइस

स्पेनर्स

मशीनों में विभिन्न अवयवों को प्राय: नट बोल्ट के द्वारा जोड़ा जाता है। ये बोल्ट या नट अपने आप खुले नहीं इसके लिए उन्हें बलपूर्वक कर दिया जाता है। बोल्ट प्राय: षटभुजाकार या कभी चौकोर होते हैं। इनको कसने या खोलने के लिए जिस टूल की सहायता ली जाती है उसे स्पैनर कहते हैं। इनको कसने या खोलने के लिए जिस टूल की सहायता ली जाती है उसे स्पैनर कहते हैं. स्पैनर का मुंह नेट में सेट करने के पश्चात उसके हैंडल पर बल लगाने के लिए कभी भी हैमर या पाइप का सहारा नहीं लेना चाहिए। स्पैनर्स को अन्य नाम जैसे रिच पाना, चाबी आदि नामों से भी जाना जाता है। स्पैनर्स वैनेडियम स्टील से फोर्ज करके बनाए जाते हैं। तत्पश्चात उन्हें हीट ट्रीटमेंट द्वारा बोर्ड तथा टेंपर कर लिया जाता है। कार्यशाला में निम्न प्रकार के स्पैनर  प्रयोग मे लाए जाते हैं-

  1. ओपन एडेड स्पैनर
  2. क्लोज्ड एंडेड स्पैनर
  3. कंबीनेशन स्पैनर
  4. रिंग स्पैनर
  5. फेस स्पैनर
  6. एडजेस्टेबल फेस स्पैनर
  7. हुक स्पैनर
  8. एडजेस्टेबल हुक स्पैनर
  9. मनी स्पैनर
  10. टी- सॉकेट स्पैनर
  11. ऑफसेट सॉकेट स्पैनर
  12. ट्यूबलर बॉक्स स्पैनर
  13. रेचेट रिंच स्पैनर
  14. चेन पाइप रिंच स्पैनर
  15. पाइप रिंच
  16. स्ट्रेप रिच
  17. एलेन की
  18. टूल पोस्ट स्पैनर
  19. लीवर जा रिंच

स्पैनर या रिंच के प्रयोग करने में सावधानियां

  • स्पैनर पर आवश्यकता से अधिक बल लगाने पर बोल्ट-हेडया नट के सिरे गोल होकर स्लिप होने का भय रहता है। अत: इस पर कभी भी हेमर का प्रयोग नहीं करना चाहिए तथा पाइप लगाकर इसकी लंबाई नहीं बढ़ानी चाहिए।
  • ऐसे बोलते हैं जिनके सिरे गोल हो चुके हो या ऐसे स्पैनर जिनका मुंह खुल चुका हो, प्रयोग में नहीं लानी चाहिए क्योंकि चोट लगने की संभावना होती है।
  • नट या बोल्ट के लिए उचित साइज का ही स्पैनर प्रयोग करना चाहिए। बड़ा स्पैनर प्रयोग करने से नट बोल्ट का हेड गोल हो सकता है।
  • जाम हुए नट बोल्ट को खोलने के लिए पेनिट्रेंट का उपयोग करना चाहिए। हैमर हल्की हल्की चोट लगाने से भी जाम टूट सकता है।
  • एडजेस्टेबल स्पैनर  का प्रयोग करते समय ध्यान रखना चाहिए कि चल जबड़ा बल लगाने की दिशा में रहे हैं।विपरीत दिशा में होने पर सपैनर टूट सकता है.
  • ग्रीस लगे स्पैनर का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

प्लायर्स

पलायर कार्यशाला का बहुउपयोगी हर समय काम में आने वाला औजार है। इसके द्वारा किसी जॉब को पकड़ा जा सकता है। पकड़ कर मोड़ा जा सकता है या तारा आदि को काटा जा सकता है। यह कास्ट स्टील का बनाया जाता है। जबड़ों पर टेंपर भी होता है जिससे उनके दांते जल्दी खराब ना हो। इसका साइज इसकी संपूर्ण लंबाई के द्वारा दिया जाता है। यह निमन प्रकार के होते हैं।

  • साइड कटिंग प्लायर
  • नोज प्लायर
  • विकर्णी प्लायर
  • स्लिप ज्वाइंट प्लायर
  • मल्टी ग्रीप प्लायर
  • पीनसर प्लायर

पेचकस

ऐसे उपयोग जहां पर स्क्रू को बहुत अधिक है बलपूर्वक कसने की आवश्यकता नहीं होती है, स्क्रू के हेड में एक स्लॉट बना लिया जाता है। इस स्लॉट मे स्क्रू-ड्राइवर का ब्लेड फंसा कर आसानी से कसा जा सकता है क्योंकि यह टूल पेच को कसने या खोलने के काम आता है इसलिए इसको पेचकस कहते हैं। यह टूल एक स्टील रोड में एक सिरे पर हाथ था तथा दूसरे सिरे को पीटकर फ्लैट करके बनाया जाता है। फ्लैट भाग को ब्लेड कहते हैं। हीट ट्रीटमेंट द्वारा इसको हार्ड तथा टेंपर कर लिया जाता है। पेचकस की कुल लंबाई पेचकस का साइज बता दी है। पेचकस निम्न प्रकार के होते हैं-

  • स्टैंडर्ड पेचकस
  • फिलिप्स पेचकस
  • ऑफसेंट पेचकस
  • रेजेंट पेचकस
  • मैगजीन पेचकस
  • घड़ी साज पेचकस

More Important Article

Recent Posts

अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए – List of Gazetted Officer

आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे की अपने डॉक्यूमेंट किससे Attest करवाए - List…

3 weeks ago

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Paper – 2 Solved Question Paper

निर्देश : (प्र. 1-3) नीचे दिए गये प्रश्नों में, दो कथन S1 व S2 तथा…

7 months ago

CGPSC SSE 09 Feb 2020 Solved Question Paper

1. रतनपुर के कलचुरिशासक पृथ्वी देव प्रथम के सम्बन्ध में निम्नलिखित में से कौन सा…

8 months ago

Haryana Group D Important Question Hindi

आज इस आर्टिकल में हम आपको Haryana Group D Important Question Hindi के बारे में…

8 months ago

HSSC Group D Allocation List – HSSC Group D Result Posting List

अगर आपका selection HSSC group D में हुआ है और आपको कौन सा पद और…

8 months ago

HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern – Haryana Group D

आज इस आर्टिकल में हम आपको HSSC Group D Syllabus & Exam Pattern - Haryana…

8 months ago